You are on page 1of 50

VISIONIAS

www.visionias.in

समसामयिकी
मई(1 -1 5) - 2017

1 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


विषय सूची

1. राजव्यिस्था और संविधान.................................................................................................................................5

1.1. लोकपाल और कानून .......................................................................................................................................5

1.2. राष्ट्रीय विकास एजेंडा ......................................................................................................................................6

1.3. आं टीग्रेटेड के स मैनज


े मेंट आनफामेशन वसस्टम (ICMIS) ..............................................................................................7

1.4. ICT विजन डॉक्यूमेंट 2025 .............................................................................................................................7

1.5. म्युवनवसपल बांड ............................................................................................................................................7

2. ऄंतरााष्ट्रीय/ भारत और विश्व ............................................................................................................................. 10

2.1. भारत-पाककस्तान ..........................................................................................................................................10

2.2. भारत- कफवलस्तीन ........................................................................................................................................12

2.3. भारत-श्रीलंका ..............................................................................................................................................13

2.4. साईथ एवशया सेटेलाआट .................................................................................................................................13

2.5. UN-हेवबटेट .................................................................................................................................................14

2.6. िन बेल्ट िन रोड (OBOR) सवमट ...................................................................................................................14

3. ऄथाव्यिस्था ................................................................................................................................................. 16

3.1. GM सरसों का िावणज्यीकरण .........................................................................................................................16

3.2. कॉयर ईद्योग ...............................................................................................................................................17

3.3. पूसा कृ वष ऐप...............................................................................................................................................18

3.4. राष्ट्रीय समुरी ी मस्यस्य पालन नीवत 2017 .............................................................................................................19

3.5. सम्पदा योजना .............................................................................................................................................21

3.6. मसाला बांड ................................................................................................................................................23

3.7. WPI एिं IIP के अधार िषा में पररितान ............................................................................................................23

3.8. स्िैवछिक बेरोजगारी ......................................................................................................................................24

3.9. प्रौद्योवगकी एिं निाचार सहायता के न्द्री ों की स्थापना .............................................................................................25

3.10. स्िदेशी नावभकीय ईजाा ................................................................................................................................25

3.11. फे ज्ड मैन्द्यफ


ु ै क्चररग प्रोग्राम ...........................................................................................................................27

3.12. थथक 20 टास्क फोसा ....................................................................................................................................27

4. सुरक्षा ........................................................................................................................................................ 29

4.1. आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड ..................................................................................................................................29

2 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


4.2. नक्सल थहसा हेतु 'समाधान' वसद्ांत ..................................................................................................................30

4.3. ब्रह्मोस का ऄंडमान द्वीपों से परीक्षण ककया गया ...................................................................................................31

4.4. स्रेटेवजक पाटानरवशप मॉडल ............................................................................................................................31

5. पयाािरण .................................................................................................................................................... 33

5.1. बस्टडा प्रजनन कें री .........................................................................................................................................33

5.2. भारतीय जंगली कु त्ते (ढोल) .............................................................................................................................34

5.3. ब्लैक नेक्ड क्रेन .............................................................................................................................................34

5.4. आं वडयन स्टार टॉरटोआज ..................................................................................................................................34

5.5. ऄमूर फाल्कन ...............................................................................................................................................35

5.6. शहरी बाढ़...................................................................................................................................................35

5.7. दवक्षण भारत में सूखा .....................................................................................................................................36

5.8. बॉन क्लाआमेट मीट ........................................................................................................................................37

6. विज्ञान और प्रौद्योवगकी................................................................................................................................... 38

6.1. कु पोषण से वनपटने हेतु फोटीफाआड खाद्य पदाथा: ..................................................................................................38

6.2. मोबाआल टॉिर रे वडएशन की जानकारी के वलए तरं ग संचार पोटाल ...........................................................................38

6.3. कैं सर के आलाज हेतु नया मॉवलक्यूल - वडसऐररब...................................................................................................39

6.4. ड्रग रे वजस्टेंस को ररिसा करना संभि ..................................................................................................................39

6.5. नासा के न्द्यू फ़्रंरटयर प्रोग्राम को 12 वमशन प्रस्ताि प्राप्त हुए.....................................................................................39

6.6. XFEL (विश्व का सबसे बडा एक्स-रे लेजर) ने प्रथम एक्स-रे लेजर लाआट ईस्यपन्न की .....................................................40

6.7. उजाा के ईभरते स्रोत ......................................................................................................................................40

7. सामावजक ................................................................................................................................................... 41

7.1 वमशन आं री धनुष..............................................................................................................................................41

7.2 कु ष्टरोग हेतु स्िदेशी िैक्सीन: माआकोबैक्टीररयम आं वडकस प्रानी .................................................................................41

7.3 सामावजक सुरक्षा के वलए ‘िन IP - टू वडस्पेंसरीज’ स्कीम और अधार बेस्ड ऑनलाआन क्लेम सबवमशन’ .............................42

7.4 थैलेसीवमया पर राष्ट्रीय नीवत की अिश्यकता........................................................................................................43

7.5 स्िछि सिेक्षण 2017: आं दौर सिाावधक स्िछि शहर ................................................................................................43

7.6 स्िास््य मंत्रालय का EVIN प्रोजेक्ट ...................................................................................................................44

8. संस्कृ वत ...................................................................................................................................................... 45

8.1. बसि जयंती.................................................................................................................................................45

8.2. संत स्ययागराज...............................................................................................................................................45

3 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


8.3. ठकु रानी जात्रा महोस्यसि .................................................................................................................................45

8.4. बंगनापल्ली अम...........................................................................................................................................46

9. एवथक्स ...................................................................................................................................................... 47

9.1. विश्व प्रेस स्ितंत्रता कदिस................................................................................................................................47

10. विविध ..................................................................................................................................................... 49

10.1. मांकवडया जनजावत से बंदरों को पकडना सीखना................................................................................................49

10.2. आं वडयन एक्सक्लूशन ररपोटा (IXR) 2016 ........................................................................................................49

10.3. CAPF के वलए वशकायत वनिारण ऐप ............................................................................................................49

10.4. भारतीय रे लिे द्वारा EOTT की शुरुअत ..........................................................................................................50

4 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


1. राजव्यिस्था और सं विधान
(POLITY AND CONSTITUTION)
1.1. लोकपाल और कानून
(Lokpal and The Law)
सुर्खखयों में क्यों?
 हाल ही में सिोच्च न्द्यायालय ने यह स्पष्ट ककया कक मौजूदा लोकपाल और लोकायुक्त ऄवधवनयम, 2013 ऄपने ितामान स्िरूप में
व्यिहाया (workable) है।
स्पष्टीकरण की अिश्यकता क्यों थी?
 सरकार ने तका कदया कक विपक्ष के नेता की ऄनुपवस्थवत में, चयन सवमवत का गठन नहीं ककया जा सकता है। सरकार ने आस वस्थवत से
वनपटने के वलए लोकपाल ऄवधवनयम में संशोधन प्रस्तावित ककया है।
 आस सन्द्दभा में न्द्यायालय ने स्पष्ट ककया कक आस ऄवधवनयम में चयन सवमवत में ररक्त पद विद्यमान होने के बािजूद आस सवमवत द्वारा
वनयुवक्तयां ककये जाने का प्रािधान ककया गया है।
लोकपाल और लोकायुक्त ऄवधवनयम की कु ि महस्यिपूणा विशेषताएं
 के न्द्री में लोकपाल तथा राज्यों में लोकायुक्त का गठन- सभी राज्य आस ऄवधवनयम को लागू ककये जाने की तारीख से 365 कदनों की
ऄिवध के भीतर लोकायुक्त की वनयुवक्त करें गे।
 संरचना- लोकपाल में एक ऄध्यक्ष और ऄवधकतम अठ सदस्य होंगे। आन सदस्यों में से 50 प्रवतशत सदस्य न्द्यावयक पृष्ठभूवम से होंगे
तथा 50 प्रवतशत सदस्यों की वनयुवक्त ऄनुसूवचत जावत/ऄनुसूवचत जनजावत / ऄन्द्य वपिडा िगा, ऄल्पसंख्यकों और मवहलाओं से की
जाएगी।
 चयन सवमवत - लोकपाल के ऄध्यक्ष और सदस्यों का चयन, एक चयन सवमवत के माध्यम से होगा। आस सवमवत के सदस्य प्रधानमंत्री,
लोकसभा ऄध्यक्ष, लोकसभा में विपक्ष के नेता, भारत के मुख्य न्द्यायाधीश या आनके द्वारा नामांककत सिोच्च न्द्यायालय के एक
न्द्यायाधीश तथा चयन सवमवत के आन चार सदस्यों की वसफाररश के अधार पर भारत के राष्ट्रपवत द्वारा नामांककत प्रख्यात न्द्यायविद
होंगे।
 लोकपाल का क्षेत्रावधकार- प्रधानमंत्री को लोकपाल के दायरे में रखा गया है। FCRA के प्रािधानों के तहत ककसी विदेशी स्रोत से 10
लाख रुपये प्रवत िषा से ऄवधक दान प्राप्त करने िाली सभी संस्थाएं लोकपाल के क्षेत्रावधकार के तहत होंगी।
 CBI के संबंध में शवक्त- लोकपाल को आसके द्वारा CBI या ऄन्द्य ककसी जांच एजेंसी को सौंपे गए मामलों का ऄधीक्षण करने तथा
वनदेश देने का ऄवधकार प्राप्त होगा। लोकपाल द्वारा वनर्ददष्ट मामलों की जांच से संबंवधत CBI ऄवधकाररयों का स्थानांतरण लोकपाल
की स्िीकृ वत के पश्चात् ककया जा सके गा।
 संपवत्त जब्त करना- आस ऄवधवनयम में भ्रष्ट तरीकों से प्राप्त संपवत्त की कु की और जब्ती के प्रािधान शावमल हैं, भले ही ऄवभयोजन
प्रकक्रया लंवबत हो। आस ऄवधवनयम में प्रारं वभक पूिताि, जांच और सुनिाइ के वलए स्पष्ट समय सीमा का वनधाारण ककया गया है।
लोकपाल से संबद् मुद्दे:
 राजनीवतक आछिाशवक्त की कमी के कारण लोकपाल की वनयुवक्त में देरी।
 संशोधनों के माध्यम से प्रािधानों को कमजोर करना- 2016 में पाररत ककये गए विधेयक द्वारा सरकारी कमाचाररयों, ईनके
जीिनसाथी तथा अवश्रत बच्चों की संपवत्तयों की सािाजवनक घोषणा की कानूनी ऄवनिायाता िाले प्रािधान को समाप्त कर कदया गया
है।
 भ्रष्टाचार वनरोधक कानून (PCA) के साथ ऄसंगतता - जााँच के संबंध में लोकपाल को प्राप्त पूिा स्िीकृ वत प्रदान करने की शवक्त
भ्रष्टाचार वनरोधक कानून में ककये गए संशोधनों के कारण वनष्प्प्रभािी हो गइ है। दृष्टव्य है कक आन संशोधनों द्वारा सरकार से ऄनुमवत
प्राप्त करने की अिश्यकता िाले प्रािधान को मजबूत ककया गया है।
 शवक्त पृथक्करण वसद्ांत के विरूद्- लोकपाल, एक प्रशासवनक सवमवत (कायापावलका का एक ऄंग) होगी। आसका ऄथा है कक
न्द्यायपावलका को कायापावलका संबंधी कृ स्ययों को सम्पाकदत करना होगा।
 राज्यों को पूणा स्ितंत्रता- लोकायुक्त की प्रकृ वत एिं ईसके स्िरुप का वनधाारण पूरी तरह से राज्यों के वििेकावधकार पर िोड कदया
गया है। आससे विवभन्न समस्याओं का सामना करना पड सकता है। ईदाहरणस्िरुप: लोकायुक्त की वनयुवक्त के संबंध में सत्ता का
दुरुपयोग, जैसे ईत्तर प्रदेश में एक बार विस्ताररत ऄिवध के समाप्त होने के बाद भी लोकायुक्त पद पर बने रहे।

5 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 लोकपाल का क्षेत्रावधकार- न्द्यायपावलका को लोकपाल के क्षेत्रावधकार से पूरी तरह बाहर रखा गया है।
अगे की राह:
हालांकक संसद द्वारा लोकपाल विधेयक पाररत कर कदया गया है ककन्द्तु आसे प्रभािी बनाने के वलए कइ कदम ईठाए जाने की अिश्यकता है
जैसे कक:
 पाररत ऄवधवनयम का प्रभािी कायाान्द्ियन।
 वसरटज़न चाटार, आलेक्रॉवनक पवब्लक सर्खिस वडलीिरी, वहहसल ब्लोऄर प्रोटेक्शन, न्द्यावयक जिाबदेवहता जैसे विधेयकों को पाररत
करना जो भ्रष्टाचार से जुडे मुद्दों से वनपटने में सहायक वसद् होंगे।
 सख्त कदशावनदेशों और मानदंडों को स्थावपत करने की अिश्यकता है ताकक लोकपाल कदन-प्रवतकदन की प्रशासवनक ऄक्षमताओं तथा
भ्रष्टाचार से संबंवधत ऄसंख्य वशकायतों के बोझ तले न दब जाए।
1.2. राष्ट्रीय विकास एजेंडा
(National Development Agenda)
सुर्खखयों में क्यों?
 नीवत अयोग द्वारा वत्रिषीय
कायािाही एजेंडा का एक ड्राफ्ट तैयार
ककया गया है। यह समग्र राष्ट्रीय
विकास एजेंडे का एक भाग है।
पृष्ठभूवम
 2014 में योजना अयोग को समाप्त
कर कदया गया और आस प्रकार
पंचिषीय योजनाओं की प्रासंवगकता
समाप्त हो गइ।
 आसके पश्चात् प्रधानमंत्री कायाालय
द्वारा नीवत अयोग को पंरी ह िषीय
विजन, सात िषीय रणनीवत और
तीन िषीय कायािाही एजेंडा को
सवम्मवलत करने िाले राष्ट्रीय विकास
एजेंडा को तैयार करने का वनदेश
कदया गया।
प्रािधान
 नीवत अयोग ने ऄपने वत्रिषीय कायािाही
एजेंडे के प्रारूप में कु ि महस्यिपूणा मुद्दों का
चयन ककया है। ये हैं:
 वत्रिषीय राजस्ि और व्यय प्रारूप;
 उजाा;
 शासन, कराधान और विवनयमन;
 2022 तक ककसानों की अय को दोगुना
करना;
 ईद्योग और सेिाओं में रोजगार सृजन;
 शहरी विकास;
 पूिोत्तर, मरुस्थली क्षेत्रों, तटीय क्षेत्रों,
सूखाग्रस्त क्षेत्रों और वहमालयी क्षेत्रों के वलए
विशेष क्षेत्रीय रणनीवतयां।
 पररिहन और वडवजटल कनेवक्टविटी – आं वडया
आं फ्रास्रक्चर फाआनेंस कम्पनी वलवमटेड (IIFCL) की भूवमका में पररितान, कम लागत िाले डेब्ट आं स्ूमेंट को प्रस्तुत करने तथा नेशनल
आन्द्िेस्टमेंट आन्द्फ्रास्रक्चर फं ड (NIIF) की स्थापना के माध्यम से PPP को बढ़ािा देना।

6 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 विज्ञान और प्रौद्योवगकी- योजनाओं के राष्ट्रीय डेटाबेस का वनमााण करना, नेशनल साआं स टेक्नोलॉजी एंड आनोिेशन फाईं डेशन की
स्थापना करना अकद।
महस्यि
 एक ऄपेक्षाकृ त ऄवधक खुली और ईदार ऄथाव्यिस्था के साथ हमें ितामान अर्खथक िास्तविकताओं के ऄनुसार प्लाथनग एजेंडा में
पररितान करने की अिश्यकता है। ऄतः दीघाकाल एिं लघुकाल के वलए व्यापक योजना वनमााण एक स्िागत योग्य कदम है।
 यह एजेंडा एक समािेशी और संधारणीय ऄथाव्यिस्था के विकास हेतु बहु-क्षेत्रीय (multisectoral) दृवष्टकोण का वनमााण करे गा।
1.3. आं टीग्रेटेड के स मैनज
े मेंट आनफामेशन वसस्टम (ICMIS)
(Integrated Case Management Information System:ICMIS)
सुर्खखयों में क्यों ?
 मामलों की वडवजटल फाआथलग के वलए सिोच्च न्द्यायालय के ‘आं टीग्रेटेड के स मैनज
े मेंट आनफामेशन वसस्टम’ (ICMIS) का ऄनािरण
ककया गया।
ICMIS के काया:
 आस वसस्टम के माध्यम से के स की इ-फाआथलग का विकल्प, के स वलथस्टग की वतवथ, के स की वस्थवत, सूचना/सम्मन की ऑनलाआन
सुविधा, कायाालय ररपोटा तथा सिोच्च न्द्यायालय के पंजीकरण कायाालय में दावखल मामलों (cases) के सम्बन्द्ध में समग्र रूप से हुइ
प्रगवत की ऑनलाआन जानकारी प्राप्त होगी।
 यह न्द्यायालय से संबंवधत शुल्कों और प्रकक्रया शुल्क के भुगतान के वलए एक ऑनलाआन गेटिे तथा एक ऑनलाआन कोटा फी
कै लकु लेटर के रूप में काया करे गा।
ICMIS के लाभ:
 ऄवधिक्ताओं और पंजीकरण कायाालय दोनों के वलए फाआथलग प्रोसेस को सुव्यिवस्थत करे गा।
 यह पारदर्खशता को सुवनवश्चत करे गा, के स से जुडीं जानकारी तक असान पहुंच प्रदान करे गा और कम समय में यावचका दावखल करने
में मदद करे गा। आन सभी लाभों के द्वारा न्द्यावयक प्रकक्रया तीव्र हो सके गी।
1.4. ICT विजन डॉक्यूमटें 2025
(ICT vision document 2025)
चुनाि अयोग ने ICT विज़न डॉक्यूमेंट 2025 प्रस्तुत ककया है। आसके ऄंतगात चुनािी पररिेश में निीन प्रौद्योवगककयों को ऄपनाने तथा
पहले से मौजूद प्रौद्योवगककयों को समेककत करने की रणनीवत की व्याख्या की गइ है। ICT 2025 के चार प्रमुख घटक हैं:
आं टीग्रेटेड सॉफ्टिेयर एप्लीके शन
GIS, एनावलटीक्स एंड आं टीग्रेटेड कांटेक्ट सेंटर
डेटा सेंटर, IT वसक्यूररटी, वडजास्टर ररकिरी सवहत IT आं फ्रास्रक्चर
ज्ञान प्रबंधन, क्षमता वनमााण और सोशल मीवडया का ईपयोग।
1.5. म्युवनवसपल बांड
(Municipal Bonds)
सुर्खखयों में क्यों?
 हाल ही में, 14 राज्यों के 94 शहरों को म्युवनवसपल बांड जारी करने के वलए ईनकी तैयारी के अधार पर कक्रवसल (CRISIL) जैसी
एजेंवसयों ने क्रेवडट रे रटग प्रदान की।
 आस एजेंवसयों द्वारा स्माटा वसटी वमशन और AMRUT वमशन के ऄंतगात अने िाले शहरों का मूल्यांकन ककया गया।
 आनमें से 55 शहरों को "आन्द्िेस्टमेंट ग्रेड" रे रटग प्राप्त हुइ जबकक 39 शहरों को आन्द्िेस्टमेंट ग्रेड (BBB-) से नीचे की क्रेवडट रे रटग प्राप्त
हुइ हैं।
अिश्यकता
 भारतीय शहरों का राजस्ि, सकल घरे लू ईस्यपाद के 1% से भी कम है। आसी का पररणाम है कक भारतीय शहर वित्तीय रूप से पयााप्त
स्िायत्त नहीं हो सके हैं।

7 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


पृष्ठभूवम
 आशर जज ऄहलूिावलया (2011) की ऄध्यक्षता
िाली शहरी ऄिसंरचना संबध ं ी सवमवत ने
ऄनुमान लगाया कक भारतीय शहरों को ऄगले
दो दशक ऄथाात 2031 तक वस्थर कीमतों पर
लगभग 40 ररवलयन रूपए वनिेश करने की
अिश्यकता होगी।
 सेबी द्वारा 2016 में म्युवनवसपल बांड संबंधी
विवनयम जारी ककए गए।
 यकद म्युवनवसपल बांड कु ि वनवश्चत वनयमों के
ऄनुरूप हों तथा ईनकी ब्याज दरें बाजार
अधाररत हों तो भारत में म्युवनवसपल बांड को
कर-मुक्त कर कदया जाना चावहए।
 नगर वनगमों को आन्द्िेस्टमेंट ग्रेड क्रेवडट रे रटग
बनाए रखने की अिश्यकता है तथा ईन्द्हें
पररयोजना लागत का कम से कम 20 प्रवतशत
योगदान करना होगा।
 नगर वनगम वपिले एक िषा में प्राप्त ककसी भी
ऊण के संबंध में वडफाल्टर की वस्थवत में नहीं
होनी चावहए।
 नगर वनगमों को ऊण के मूलधन की िापसी
सुवनवश्चत करने हेतु ऊण को पूणा पररसंपवत्त
किर (फु ल एसेट किर) प्रदान
करना होगा। आन बांड्स को वजस
पररयोजना के वलए जारी ककया
गया है, ईस पररयोजना के माध्यम
से प्राप्त धन को एक ऄलग एस्क्रौ
ऄकाईं ट में रखना होगा। बैंक या
वित्तीय संस्थान द्वारा आस ऄकाईं ट
की वनयवमत रूप से वनगरानी की
जाएगी।
 2017 में नीवत अयोग द्वारा
प्रस्तावित वत्रिषीय कायािाही
एजेंडा में म्युवनवसपल बांड मार्दकट
के ईपयोग करने की बात भी की
गइ है।
महस्यि
 शहरी स्थानीय वनकायों की
पररयोजनाओं की वनम्न
व्यिहाररकता एिं लंबी पररपक्वता
ऄिवध होती हैं एिं साथ ही लागत
िसूल कर पाने की संभािना वनम्न
से लेकर मध्यम होती हैं। कम लागत
पर ईधार प्रावप्त आन शहरी स्थानीय
वनकायों के वलए एक लाभपूणा
वस्थवत होगी। वजस नगर वनगम की
रे रटग ऄवधक होगी, ईसके वलए
ब्याज और ईधार की लागत ईतनी ही कम होगी।

8 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 शहरी स्थानीय वनकायों की वित्तीय स्ितंत्रता के वलए म्युवनवसपल बांड अिश्यक हैं।
चुनौवतयां
 बॉन्द्ड वनिेशक शहरों में पैसा तब तक वनिेश नहीं करें ग,े जब तक कक िे नगर वनगमो की राजकोषीय क्षमता के सम्बन्द्ध में अश्वस्त न
हो जाए।
 ऄब तक ऄवधकांश म्युवनवसपल बांड वनजी तौर पर जारी ककये गए हैं और ये व्यापार योग्य नहीं हैं। आससे म्युवनवसपल बांड्स में
वनिेश बावधत हुअ है। िास्ति में ये बांड्स राज्य द्वारा गारं टी प्राप्त होने चावहए।
 यह ऄसमानताओं का एक स्रोत भी हो सकता है क्योंकक बेहतर रे रटग प्राप्त नगर वनगम, वनिेश का ऄवधकांश वहस्सा प्राप्त कर सकते
हैं। पहले से ही ऄिसंरचनास्यमक विकास में वपिडे शहर वनिेश के सन्द्दभा में क्राईथडग अईट आफ़े क्ट का वशकार बन सकते हैं।
अगे की राह
 सिाश्रष्ठ
े परम्पराएं

 डेिलपमेंट बैंक ऑफ साईथ ऄफ्रीका, म्युवनवसपल बांड आशु को सहायता करने हेतु ऄपने बैलेंस शीट का ईपयोग करता है।
 डेनमाका में शहरों के समूह (pool of the cities) में से ककसी एक शहर के वडफॉल्ट होने की वस्थवत में बांड धारकों के वहतों की रक्षा
के वलए एक एजेंसी मौजूद है।
 जापान में जापान फाआनेंस कापोरे शन फॉर म्युवनवसपल फाआनेंस आस काया हेतु सॉिरे न गारं टी प्रदान करता है। भारत को ऐसी ही
सिोत्तम परम्पराओं को ऄपनाना चावहए।
 म्युवनवसपल बांड को शहर के वित्तपोषण हेतु के िल एक ऄियि के रूप में देखा जाना चावहए। शहरों को राजस्ि के वलए और ऄवधक
स्रोतों के खोज करने की जरुरत है। आस कदशा में नए GST तंत्र के माध्यम से एकवत्रत फं ड एक निीन स्रोत वसद् हो सकता है। आन
सभी प्रयासों के वलए शहरी प्रशासन को सशक्त बनाए जाने की अिश्यकता है।

9 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


2. ऄं त राा ष्ट्रीय/ भारत और विश्व
(INTERNATIONAL/INDIA AND WORLD)
2.1. भारत-पाककस्तान
(India-Pakistan )
सुर्खियों में क्यों?
हाल ही में ऄंतरााष्ट्रीय न्द्यायालय (International Court of Justice: ICJ) ने ऄंवतम वनणाय देने तक कु लभूषण जाधि की फांसी पर
रोक लगा दी है। कु लभूषण जाधि को पाककस्तानी सैन्द्य न्द्यायालय द्वारा जासूसी के अरोप में मौत की सजा सुनाइ गयी थी।
 न्द्यायालय ने कहा कक विएना कन्द्िेंशन के ऄनुसार भारत को कु लभूषण जाधि तक राजनवयक पहुंच प्रदान करने का मौका कदया
जाना चावहए था।
 पाककस्तान को ऄब आस अदेश को कायाावन्द्ित करने के वलए ईठाये गए कदमों के बारे में न्द्यायालय को सूवचत करना चावहए।
 ICJ के न्द्यायाधीशों ने स्पष्ट ककया है कक ये ऄनंवतम ईपाय ईस देश पर बाध्यकारी हैं तथा साथ ही ईस पर ऄंतरराष्ट्रीय विवधक
बाध्यता अरोवपत करते हैं, वजसे संबोवधत करते हुए ये सुनाये गए हैं।
कु लभूषण जाधि के स की पृष्ठभूवम
कु लभूषण जाधि को 3 माचा, 2016 को पाककस्तान-ऄफगावनस्तान सीमा पर बलूवचस्तान के चमन आलाके में वगरफ्तार ककया गया था।
 भारत ने जाधि के भारत सरकार से ककसी भी प्रकार के संपका की बात को नकार कदया है। सरकार ने कहा कक िह नौसेना से
"समयपूिा सेिावनिृवत्त" के बाद इरान के बंदरगाह शहर चाबहार में एक व्यिसाय चला रहा था।
 भारत का मानना है कक कु लभूषण जाधि को इरान से ऄपहृत कर वलया गया था तथा ईसके बाद पाककस्तान में ईसकी ईपवस्थवत की
विश्वसनीय व्याख्या नहीं की गयी है।
 कु लभूषण जाधि को साढ़े तीन महीने की सुनिाइ के ईपरांत एक फील्ड जनरल कोटा माशाल द्वारा जासूसी के अरोप में दोषी वसद्
कर 10 ऄप्रैल 2017 को मौत की सजा सुनाइ गइ थी।
भारत द्वारा मामले को ऄंतरााष्ट्रीय न्द्यायालय में ईठाना
 जाधि को राजनवयक पहुंच देने से आनकार करने और राजनवयक संबंधों पर विएना कन्द्िेंशन का ईल्लंघन करने के कारण भारत ने 8
मइ 2017 को पाककस्तान के वखलाफ ऄंतरााष्ट्रीय न्द्यायालय का दरिाजा खटखटाया।
 भारत ने पाककस्तान पर विएना कन्द्िेंशन का ईल्लंघन करने और "पयााप्त सबूतों (shred of evidence)" के वबना जाधि को दोषी
ठहराए जाने को लेकर "दोषपूणा सुनिाइ” (farcical trial) करने का अरोप लगाया।
ICJ में भारत के तका :
15 मइ, 2017 को ऄंतरााष्ट्रीय न्द्यायालय में कु लभूषण जाधि मामले में भारत द्वारा प्रस्तुत ककये गए प्रमुख तका वनम्नवलवखत हैं:
 कु लभूषण जाधि को ईवचत कानूनी सहायता पाने तथा राजनवयक पहुंच का ऄवधकार प्रदान नहीं ककया गया।
 जब तक ICJ में आस ऄपील पर सुनिाइ जारी है तब तक जाधि को कदए गए मृस्ययुदड
ं का वनष्प्पादन नहीं ककया जा सकता है।
ऄन्द्यथा, यह विएना कन्द्िेंशन का ईल्लंघन होगा।
 जाधि का इरान से ऄपहरण कर वलया गया था जहां िह भारतीय नौसेना से सेिावनिृत्त होने के बाद व्यापाररक गवतविवधयों में
शावमल था।
ICJ में पाककस्तान के तका
ICJ द्वारा अहूत 15 मइ की सुनिाइ में, पाककस्तान ने भारत के ऄनुरोध के साथ वनम्नांककत तीन समस्याओं को रे खांककत करते हुए आस
ऄपील को िाररज करने की मांग की।
 आस मामले में कोइ "तास्यकावलकता" (urgency) नहीं है, क्योंकक जाधि की फांसी की वतवथ ऄभी तक तय नहीं की गयी है;
 भारत द्वारा मांगी जाने िाली ऄंवतम राहत, ऄथाात जाधि की दोषवसवद् का "व्युस्यक्रमण (reversal)" ऄनुपलब्ध है; तथा
 यह मामला न्द्यायालय (ICJ) के क्षेत्रावधकार से परे है।
 आसके ऄवतररक्त, पाककस्तान ने तका कदया कक विएना कन्द्िेंशन के प्रािधान अतंकिादी गवतविवधयों में शावमल ककसी 'जासूस' पर
लागू नहीं होते।

10 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


विश्लेषण
भारत द्वारा ICJ में ऄपील का तास्यकावलक ईद्देश्य प्राप्त कर वलया गया है। आसके तहत पाककस्तान को िे सभी कदम ईठाने के वलए
वनदेवशत ककया गया है वजससे आस मामले की सुनिाइ पूरी होने तक कु लभूषण जाधि की सजा स्थवगत रहे।
 यह क्षेत्रावधकार, तास्यकावलकता और पाककस्तान द्वारा विएना कन्द्िेंशन का ईल्लंघन करने के मुख्य अरोपों के मुद्दों पर भारत के वलए
एक पूणा जीत है। हालांकक, यह एक प्रारं वभक वनणाय है और सभी मुद्दे ऄंवतम चरण के वनणाय तक खुले हैं।
 एक तास्यकावलक पररणाम के रूप में, पाककस्तान ऄब जाधि को राजनवयक पहुंच देने के दावयस्यि के ऄधीन है।
 भारत को आस फै सले से नैवतक और कू टनीवतक लाभ ईठाते हुए वसविवलयन कोटा के समक्ष जाधि की बेगुनाही सावबत करने और
स्ितंत्र होने में जाधि की मदद करनी होगी।
विशेषता ऄंतरराष्ट्रीय न्द्यायालय International Court of Justice ऄंतरराष्ट्रीय ऄपराध न्द्यायालय International
(ICJ) Criminal Court (ICC)

स्थापना 1946 2002

संयुक्त राष्ट्र संघ संयुक्त राष्ट्र का अवधकाररक न्द्यायालय, वजसे सामान्द्यतः स्ितंत्र। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा पररषद से मामलों के रे फरल
से सम्बन्द्ध प्राप्त कर सकता हैं। संयुक्त राष्ट्र की कारा िाइ या रे फरल
"विश्व न्द्यायालय" कहा जाता है।
के वबना ऄवभयोजन शुरू कर सकता हैं।

ऄिवस्थवत पीस पैलेस, हेग, नीदरलैंड्स हेग, नीदरलैंड्स

क्षेत्रावधकार संयुक्त राष्ट्र के सदस्य-राज्य (ऄथाात् राष्ट्रीय सरकार) व्यवक्तगत

मुकदमों के (1) पक्षों के बीच वििाद व्यवक्तयों पर अपरावधक मुकदमा


प्रकार
(2) सलाहकारी राय

विषय िस्तु संप्रभुता, सीमा वििाद, समुरी ी वििाद, व्यापार, प्राकृ वतक नरसंहार, मानिता के विरुद् ऄपराध, युद् ऄपराध,
संसाधन, मानिावधकार, संवध के ईल्लंघन, संवध व्याख्या अक्रामकता के ऄपराध
तथा ऄनेक ऄन्द्य मामले।

प्रावधकृ त करने ऄनुछिेद 93 के तहत, जो राज्य UN चाटार का समथान रोम संविवध (भारत ने रोम संविवध पर हस्ताक्षर नहीं
िाली विवधक ककया है)
करते हैं ICJ संविवध के भागीदार बन जाते हैं।
प्रकक्रया
गैर-संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्य भी ICJ संविवध का समथान
करके ICJ में भागीदार बन सकते हैं।
प्रस्ययेक राज्य को सुवनवश्चत समझौते, घोषणा या संवध
ईपबंध के ऄनुसार ककसी भी वििादास्पद मामले को
सहमवत प्रदान करनी होगी।

ऄपीलें कोइ नहीं। ऄपील चैंबर। रोम संविवध का ऄनुछिेद 80, वनदोष
वििादास्पद मामले में ICJ वनणाय पक्षों पर बाध्यकारी है। वसद् कर कदए गए ककसी ऄवभयुक्त के वनरोध की
यकद कोइ देश वनणाय का पालन करने में विफल रहता है, ऄनुमवत प्रदान करता है वजसकी ऄपील लंवबत हो।
तो यह मुद्दा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा पररषद में ले जाया जा
सकता है, वजसमें प्रितान की समीक्षा करने, वसफाररश करने
और वनणाय करने का ऄवधकार है।

11 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


2.2. भारत- कफवलस्तीन

(India-Palestine)
सुर्खियों में क्यों?
कफवलस्तीनी राष्ट्रपवत महमूद ऄब्बास ने हाल ही में भारत का दौरा ककया।
आस यात्रा की मुख्य विशेषताएं
 भारत और कफवलस्तीन ने पांच समझौता ज्ञापनों (MoUs) पर हस्ताक्षर ककए। राष्ट्रपवत ऄब्बास की यात्रा के दौरान ककये गए
MoUs की सूची में शावमल हैं:
 राजनवयक और अवधकाररक पासपोटा पर िीजा आग्ज़ेम्शन (Visa Exemption) पर MoU
 युिा मामलों और खेल में सहयोग पर MoU
 कृ वष सहयोग पर MoU
 स्िास््य क्षेत्र में सहयोग पर MoU
 सूचना प्रौद्योवगकी और आलेक्रॉवनक्स पर
MoU
 कफवलस्तीन के वलए "राजनीवतक समथान":
 भारत ने कफवलस्तीन के मुद्दे के राजनीवतक
समाधान के वलए ऄपने समथान की पुवष्ट की।
 प्रधानमंत्री ने कहा कक भारत एक सािाभौम,
स्ितंत्र, एकीकृ त और सक्षम कफवलस्तीन की
ईम्मीद करता है, जो आज़राआल के साथ
शांवतपूिाक रहे।
 कफवलस्तीन और आज़राआल के मध्य शांवत
िाताा
 भारत अशा करता है कक कफवलस्तीनी और
आजरायली पक्षों के बीच व्यापक समाधान
की कदशा में अगे बढ़ने हेतु िाताा को शीघ्र
ही पुनःअरम्भ ककया जाएगा।
 कफवलस्तीन में क्षमता वनमााण
 भारत कफवलस्तीन को सामग्री और तकनीकी
सहायता प्रदान कर रहा है तथा रामल्लाह में 12 लाख डॉलर की लागत के एक टेक्नो पाका का वनमााण कर रहा है।
 दोनों देशों ने दोनों पक्षों के बीच सांस्कृ वतक अदान-प्रदान में िृवद् करने पर जोर कदया है। भारत ने ऄगले महीने अयोवजत होने िाले
ऄंतरराष्ट्रीय योग कदिस में भाग लेने हेतु कफवलस्तीन को अमंवत्रत ककया है।
 कफवलस्तीनी राष्ट्रपवत ने अतंकिाद के सभी रूपों और आसकी सभी प्रकार की ऄवभव्यवक्तयों की थनदा की। साथ ही आस संकट से
वनपटने के वलए क्षेत्रीय एिं ऄंतरााष्ट्रीय प्रयासों का अ्िान ककया।
पृष्ठभूवम
भारत और कफवलस्तीन के मध्य ऐवतहावसक रूप से करीबी और मैत्रीपूणा संबंध रहे हैं।
 1947 में, भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कफवलस्तीन के विभाजन के वखलाफ मतदान ककया था।
 1974 में कफवलस्तीनी लोगों के एकमात्र और िैध प्रवतवनवध के रूप में कफलीस्तीन वलबरे शन ऑगेनाआजेशन (PLO) को स्िीकारने
िाला भारत पहला गैर-ऄरब राज्य था। भारत 1988 में कफवलस्तीन राज्य को मान्द्यता देने िाले प्रारं वभक देशों में से एक था।
 1996 में, भारत ने गाज़ा में कफवलस्तीन ऄथॉररटी के वलए ऄपना प्रवतवनवध कायाालय स्थावपत ककया, वजसे बाद में 2003 में
रामल्लाह में स्थानांतररत कर कदया गया।

12 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


2.3. भारत-श्रीलंका
(India-Sri Lanka)
सुर्खियों में क्यों?
प्रधानमंत्री नरें री मोदी ने कोलंबो में होने िाले UN िेसाक डे (UN Vesak day) समारोह में भाग लेने के वलए श्रीलंका का दौरा ककया।
आस यात्रा की मुख्य विशेषताएं
 प्रधानमंत्री ने कहा कक िेसाक डे की थीम “सोशल जवस्टस एंड सस्टेनब
े ल िल्डा पीस” बुद् की वशक्षाओं से गहराइ से सम्बद् हैं।
 प्रधानमंत्री ने भारत की सहायता से बने वडकोया हॉवस्पटल का ईद्घाटन ककया।
 ईन्द्होंने श्रीलंका में भारतीय मूल के तवमलों की भािना का स्िागत करते हुए अतंररक क्षेत्रों में 10,000 ऄवतररक्त घरों के वनमााण
तथा आमरजेंसी एम्बुलेंस सर्खिस का विस्तार करने की घोषणा की।
िेसाक क्या है?
िेसाक (थसहली), िेसाखा (पाली), िैसाखा (संस्कृ त) श्रीलंका के पारं पररक चंरी कै लेंडर (लूनर कै लेंडर) में दूसरे महीने के वलए आस्तेमाल
ककया जाने िाले नाम है। यह ग्रेगोरीयन कै लेंडर (सोलर कै लेंडर) के मइ महीने के ऄनुरूप है।
 िेसाक महीने में पूर्खणमा के कदन राजकु मार वसद्ाथा का जन्द्म हुअ, िे बुद् हुए और कफर ईन्द्होंने महापररवनिााण प्राप्त ककया।
 िेसाक बौद् आवतहास के तीन महस्यिपूणा स्थानों से सम्बद् है; ये स्थान हैं- राजकु मार वसद्ाथा का जन्द्मस्थान नेपाल में लुवम्बनी; भारत
के वबहार में वस्थत बोधगया (बुद् गया), जहााँ बुद् ने एक बोवध िृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त ककया और भारत के ही ईत्तर प्रदेश में
कु शीनगर (कु सीनारा) है, जहां बुद् ने महापररवनिााण प्राप्त ककया।
यूनाआटेड नेशन्द्स आं टरनेशनल डे ऑफ़ िेसाक
आं टरनेशनल डे ऑफ़ िेसाक, UN द्वारा िषा 1999 में घोवषत ककया गया एक राष्ट्रीय ऄिकाश है। आस हेतु प्रस्ताि श्रीलंका द्वारा पेश ककया
गया था। िषा 2017 में, यूनाआटेड नेशन्द्स आं टरनेशनल डे ऑफ़ िेसाक का अयोजन श्रीलंका ने ककया। आसका विषय (थीम) "बुवद्स्ट
टीथचग्स फॉर सोशल जवस्टस एंड सस्टेनब
े ल िल्डा पीस” (Buddhist Teachings for Social Justice and Sustainable World
Peace) था।
2.4. साईथ एवशया सेटेलाआट
(South Asia Satellite)
यह ईपग्रह पूणत
ा या भारत द्वारा वित्तपोवषत, पहला दवक्षण एवशयाइ ईपग्रह (GSAT-9) है। हाल ही में आसरो द्वारा आस ईपग्रह को
प्रक्षेवपत ककया गया है। आसने भारत की नेबरहुड फस्टा पॉवलसी को बढ़ािा देने के साथ-साथ भारत को विवशष्ट रूप से ऄंतररक्ष कू टनीवत में
नामांककत ककया है।
साईथ एवशया सेटेलाआट के बारे में
 यह ईपग्रह भारत की ओर से दवक्षण एवशयाइ देशों के वलए एक ईपहार है। आसका िजन 2,230 ककग्रा है तथा आसका ईपयोग
वजयोथसक्रोनस कम्युवनके शन और मौसम विज्ञान सम्बन्द्धी गवतविवधयों के वलए ककया जायेगा।
 आससे प्राकृ वतक संसाधनों के मानवचत्रण, टेलीमेवडवसन, IT कनेवक्टविटी, DTH कनेवक्टविटी, ऄपेक्षाकृ त ऄवधक सटीक मौसम
पूिाानुमान और प्राकृ वतक अपदाओं के प्रवत स्यिररत ऄनुकक्रया जैसे लाभ वमलेंगे।
 पाककस्तान को िोडकर सभी साका देश आस पररयोजना का वहस्सा हैं। आसवलए आसे "साका सेटेलाआट" न कहकर साईथ एवशया
सेटेलाआट नाम कदया गया है।
 आससे जुडे ऄन्द्य महस्यिपूणा थबदु है:-
 यह आलेवक्रकल प्रोपल्शन का ईपयोग करने िाला पहला भारतीय ईपग्रह है।
 यह GSLV क्रायोजेवनक ऄपर स्टेज की लगातार चौथी सफलता है वजससे आस तकनीकी की बेहतर भविष्प्य की क्षमता का संकेत
वमलता है।

भारत के वलए ऄंतररक्ष कू टनीवत का महस्यि


 शांवतपूणा और समृद् पडोस -आस लांच ने वनरं तर सहयोग हेतु मागा प्रशस्त करते हुए भारत की नेबरहूड पॉवलसी को सशक्त ककया है।
 ऄंतररक्ष राजस्ि- भारत की प्रक्षेपण क्षमताओं के कारण ऄंतररक्ष राजस्ि की काफी संभािनाएं हैं। आं डोने वशया, कजाककस्तान सवहत
कइ देश ऄंतररक्ष मामलों में आसरो के साथ सहयोग करना चाहते हैं।

13 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 ऄंतररक्ष में चीन के बढ़ते प्रभाि को कम करना- चीन कू टनीवत के वलए ऄंतररक्ष का शवक्तशाली ईपकरण के रूप में ईपयोग कर रहा
है। ईदाहरण के वलए: चीन द्वारा पाककस्तान, बांग्लादेश और ऄन्द्य देशों के साथ वमलकर एवशया-प्रशांत ऄंतररक्ष सहयोग की स्थापना
तथा श्रीलंका में ऄंतररक्ष ऄकादमी की स्थापना।
 िैवश्वक ऄंतररक्ष दौड में पहचान बनाए रखने के वलए - ऄंतररक्ष ऄवभयान के क्षेत्र में 60 से ऄवधक देश प्रयास कर रहे है। आस कदशा में
ऄवधकांश एवशयाइ देशों के शावमल होने के कारण, भविष्प्य में ऄंतररक्ष में सहयोग को भारत के विदेश नीवत वनधाारको के रूप में
देखा जा रहा है।
 सामावजक समस्याओं के वलए सहयोग- ऄंतररक्ष प्रौद्योवगकी के सामावजक ऄनुप्रयोगों के क्षेत्र में भारत एक नेतृस्यिकताा के रूप में
ईभरा है। आस तरह हम ऄंतररक्ष में दूसरे देशों की क्षमता वनमााण के क्षेत्र में सहयोग करके भूवम, जल, िन, फसल अकद से सम्बंवधत
समस्याओं को हल कर सकते हैं।
2.5. UN-हेवबटेट
(UN-Habitat)
सुर्खियों में क्यों?
भारत को सिासम्मवत से UN-हैवबटेट के ऄध्यक्ष के रूप में चुना गया है। UN-हैवबटेट संयुक्त राष्ट्र का एक ऄंग है। यह समग्र विश्व में स्थायी
मानिीय बवस्तयों के वनमााण को बढ़ािा दे रहा है।
 भारत की ओर से, अिास और शहरी गरीबी ईन्द्मूलन मंत्री ऄगले दो िषों के वलए UN-हैवबटेट के गिर्ननग काईं वसल (GC) की
बैठकों की ऄध्यक्षता करें गे। UN-हैवबटेट की गिर्ननग काईं वसल के सदस्यों की संख्या 58 है।
 िषा 1978 में UN-हैवबटेट की स्थापना की गइ। िषा 1988 और िषा 2007 के बाद यह तीसरा मौक़ा है जब भारत को आस संगठन
का नेतृस्यि करने के वलए चुना गया है।
UN-हैवबटेट के सम्बन्द्ध में:
द यूनाआटेड नेशन्द्स ्यूमन सेटलमेंटस प्रोग्राम (UN-हेवबटेट) मानि बवस्तयों और सतत शहरी विकास के वलए UN एजेंसी है।
 आसकी स्थापना िषा 1976 में कनाडा के िैंकूिर में ्यूमन सेटलमेंट एंड सस्टेनब
े ल ऄबान डेिलपमेंट (हैवबटैट-I) पर अयोवजत हुए
पहले संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के पररणामस्िरुप की गइ थी।
 UN-हैवबटेट का मुख्यालय नैरोबी, के न्द्या में संयुक्त राष्ट्र के कायाालय में ही वस्थत है।
 आसे संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा सभी के वलए पयााप्त अिास ईपलब्ध कराने के लक्ष्य के साथ-साथ सामावजक और पयाािरण की दृवष्ट
से स्थावयस्यिपूणा कस्बो और शहरों को बढ़ािा देने के वलए ऄवधदेश (मेंडटे ) प्रदान ककया गया है।
 यह यूनाआटेड नेशन डेिलपमेंट ग्रुप का सदस्य है।
 UN-हैवबटेट को ऄवधदेश (मेंडटे ) िषा 1996 में आस्तांबल
ु , टकी में हुए यूनाआटेड नेशन्द्स कांफ्रेंस ऑन ्यूमन सेटलमेंट (हैवबटैट II)
द्वारा ऄपनाए गए हेवबटेट एजेंडा से प्राप्त होता है।
2.6. िन बेल्ट िन रोड (OBOR) सवमट
[One Belt One Road (OBOR) Summit]
चीन ने भव्य दो कदिसीय OBOR वशखर सम्मेलन का अयोजन ककया। आस सम्मेलन में चीन ने ऄपने व्यापार मागों के नेटिका - िन बेल्ट,
िन रोड (OBOR) का वनमााण करने की योजनाओं का प्रदशान ककया। OBOR एवशया, ऄफ्रीका, वमवडल इस्ट और यूरोप को जोडेगा।
 बीथजग में संपन्न हुए िन बेल्ट, िन रोड या बेल्ट एंड रोड आवनवशएरटि (BRI) फोरम में देश या सरकार के 29 प्रमुखों और लगभग
100 देशों के अवधकाररक प्रवतवनवधमंडलों ने भाग वलया।
 भूटान को िोडकर, भारत के सभी पडोवसयों ने आस वशखर सम्मेलन के वलए ईच्चस्तरीय प्रवतवनवधमंडल भेजे थे।
 चीन ने िन बेल्ट िन रोड (OBOR) को विश्व के वलए ऄस्ययवधक अर्खथक महस्यि (immense economic sense) का बताया और
आसे 'सदी के महानतम प्रोजेक्ट (project of the century)' के रूप में प्रस्तुत ककया।
OBOR पर भारत की अपवत्त
भारत ने बेल्ट एंड रोड आवनवशएरटि (BRI) वशखर सम्मेलन से दूर रहकर ऄपनी थचताएं सािाजवनक कर दी हैं। जैसे;-

14 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 पहला कारण, BRI की एक प्रमुख पररयोजना चीन-पाककस्तान अर्खथक गवलयारा (CPEC) है। यह गवलयारा वगलवगट-बावल्टस्तान

क्षेत्र से होकर गुजरता है तथा आसमे भारत की "संप्रभुता और क्षेत्रीय ऄखंडता" की ऄनदेखी की गइ है।

 भारत का दािा है कक चीन न के िल भारत की संप्रभुता के प्रवत ऄसंिेदनशील है, बवल्क आसने बेल्ट एंड रोड पहल (पहले िन बेल्ट

िन रोड कहा गया है) के वलए ऄपनी योजना का खुलासा भी पूरी तरह नहीं ककया है। चीन के एजेंडे में पारदर्खशता की कमी है।
भारत का मानना है कक BRI वसफा एक अर्खथक पररयोजना नहीं है, बवल्क राजनीवतक वनयंत्रण स्थावपत करने के वलए चीन आसे

बढ़ािा दे रहा है।


 दूसरा कारण BRI आं फ्रास्रक्चर प्रोजेक्ट स्रक्चर (BRI infrastructure project structure) है, जो चीन के नि-ईपवनिेशिाद के

चररत्र को दशााता है। ऐसी पररयोजनाएं िोटे देशों को ऊण के चक्र में धके ल सकती हैं, पाररवस्थवतकी को नष्ट कर सकती हैं और

स्थानीय समुदायों के जीिन को प्रभावित कर सकती हैं।


विश्लेषण
भारत द्वारा आस बैठक में न जाने का वनणाय, NSG में भारत के प्रिेश और पाककस्तान वस्थत अतंकिादी समूह जैश-ए-मोहम्मद नेता मसूद

ऄजहर पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रवतबंध लगाने के प्रयासों के विरुद् चीन की हठधर्खमता जैसे वद्वपक्षीय वििादों के एक िषा बाद वलया गया

है।
 भारत द्वारा एक पयािेक्षक के रूप में भी आसमें शावमल नहीं होने का वनणाय आसके वलए कू टनीवत के दरिाजे बंद कर देगा। जबकक
ऄमेररका और जापान जैसे देश जो BRI का वहस्सा नहीं हैं लेककन कफर भी ईन्द्होंने ऄपने प्रवतवनवधमंडल भेजे हैं।

 भारत में कु ि लोग यह भी तका दे रहे है कक भारत बीथजग सम्मलेन का बवहष्प्कार करके , OBOR के रूप में प्राप्त होने िाले कु ि बडे

तथा ऄंतहीन लाभों से िंवचत रह जायेगा।


 भारत को अगे कु ि और करठन वनणाय लेने पड सकते हैं क्योंकक भारत एवशयन आंफ्रास्रक्चर आन्द्िस्े टमेंट बैंक के एक सह-संस्थापक
और शंघाइ कोऑपरे शन (जून 2017 से) का सदस्य है और आस नाते भारत को BRI के तहत अने िाली कइ पररयोजनाओं को

सहयोग करने के वलए कहा जाएगा।


 संयक्त
ु राष्ट्र महासवचि ने BRI के समथान में कहा था कक BRI में िैवश्वक विकास के वलए एक साझा दृवष्टकोण वनवहत हैI UN

महासवचि के आस रुख को देखते हुए भारत का पररयोजना से दूर होना एक ऄछिा विकल्प नहीं कहा जायेगा।
अगे की राह:
भारत को चीन के साथ ऄपनी विवशष्ट वशकायतों का सकक्रय रूप से समाधान वनकालना चावहए। ऄपनी थचताओं को ऄन्द्य भागीदार देशों
के साथ और ऄवधक प्रभािी तरीके से व्यक्त करना चावहए। आसके ऄवतररक्त भारत को बेहतर संपका (connectivity) स्थावपत करने के

प्रयास से बाहर रहने के बजाय स्ियं को एवशयाइ नेता के रूप में स्थावपत करना चावहए।
 सैन्द्य ऄभ्यास वसम्बेक्स - यह भारतीय नौसेना और थसगापुर गणराज्य की नौसेना (RSN) द्वारा अयोवजत एक िार्खषक वद्वपक्षीय

नौसैवनक ऄभ्यास है। भारत और थसगापुर ने वििाकदत दवक्षण चीन सागर में ‘थसगापुर आं वडया मेरीटाआम बाइलेटरल एक्सरसाआज’

(Singapore India Maritime Bilateral Exercise :SIMBEX) का अयोजन ककया।

 कॉरपैट- आं डोनेवशयाइ नौसेना और भारतीय नौसेना िषा 2002 से ही िषा में दो बार समवन्द्ित गश्त (coordinated patrol

:CORPAT) में भाग ले कर वहन्द्द महासागर क्षेत्र के आस महस्यिपूणा भाग को कमर्खशयल वशथपग और ऄंतरराष्ट्रीय व्यापार के वलए

सुरवक्षत और संरवक्षत रखने का प्रयास कर रही है। ऄंडमान एंड वनकोबार कमांड के तस्यिािधान में पोटा ब्लेयर में भारत-आं डोनेवशया
कॉपैट की 29िीं श्रृंखला प्रारम्भ हुइ है।

15 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


3. ऄथा व्य िस्था
(ECONOMY)
3.1. GM सरसों का िावणज्यीकरण
(Commercialisation of GM Mustard)
सुर्खियों में क्यों ?
 जेनेरटक आंजीवनयररग ऄप्रेज़ल कवमटी (Genetic Engineering Appraisal Committee: GEAC) ने कु ि शतों के ऄधीन 4
िषों के वलए GM सरसों के िावणवज्यक आस्तेमाल के वलए एक सकारास्यमक ऄनुशंसा दे दी है।

GEAC के बारे में


 यह पयाािरण, िन एिं जलिायु पररितान मंत्रालय (MoFCC) के ऄंतगात एक सांविवधक वनकाय है।
 यह िातािरण में ऄनुिांवशक आंजीवनयडा जीिों और ईस्यपादों को िोडने/मुक्त करने से सम्बंवधत प्रस्तािों के ऄनुमोदन से सम्बंवधत
शीषा वनकाय है।
 GEAC जैि प्रौद्योवगकी विभाग के ऄंतगात अने िाले RCGM (ररव्यु कवमटी ऑन जेनेरटक मैनीपुलेशन) से ऄनुमोदन के बाद ही
रायल के वलए प्रस्तािों पर विचार करता है। RCGM िैज्ञावनकों से वमलकर बना एक वनकाय है।

पृष्ठभूवम
 भारत ने ऄब तक के िल एक गैर खाद्य फसल GM कपास, को ऄनुमवत दी है। नीवत अयोग ने हाल ही में, ऄपने तीन िषीय मसौदा
काया योजना (three-year draft action plan) में GM खाद्य फसलों का भी समथान ककया है।
 भारत अयावतत खाद्य तेल पर लगभग 12 वबवलयन डॉलर का व्यय करता हैI जनसंख्या एिं प्रवत व्यवक्त अय के बढ़ने के साथ आस
व्यय में भी िृवद् होगी ।
 2010 में, GEAC ने बीटी बैंगन के िावणज्यीकरण की भी मंजरू ी दी थी। हालांकक, ईसके बाद व्यापक विरोध के चलते पयाािरण
मंत्री ने आस प्रस्ताि पर हस्ताक्षर करने से आंकार कर कदया। ितामान में सिोच्च न्द्यायालय के समक्ष आस सन्द्दभा में एक मामला लंवबत
है।
GM सरसों के पक्ष में तका
 श्रेष्ठतर फसलें - ये फसलें बेहतर ईपज देती हैं और कीट एिं रोग प्रवतरोधी होती हैं। जलिायु पररितान के खतरों से वनपटने के वलए
भविष्प्य में आनकी अिश्यकता होगी।
 जैि-प्रौद्योवगकी में ईन्नवत - जैि प्रौद्योवगकी के क्षेत्र में वनिेश और विकास GM फसलों पर ही के वन्द्री त है।
 स्िदेशी जीएम - मोंसैंटो के बीटी कपास के विपरीत GM सरसों सािाजवनक क्षेत्र में कदल्ली विश्वविद्यालय-अधाररत सेंटर फॉर
जेनरे टक मैनीपुलश
े न ऑफ़ क्रॉप प्लांट्स के द्वारा स्िदेशी रूप से विकवसत ककया गया है।
 जीएम तेल का अयात - भारत हज़ारों टन खाद्य तेल का (तथा ऄन्द्य जीएम खाद्य पदाथों का) अयात करता है वजसके संबंध में ऄभी
तक अनुिवं शक बदलािों के कारण ककसी भी प्रकार के स्िास्थ सम्बन्द्धी दुष्प्प्रभाि या मृस्ययु के मामले सामने नहीं अये हैं।
GM सरसों के वखलाफ तका
 ‘सरसों सस्ययाग्रह’, जोकक ककसानों, ईपभोक्ताओं, िैज्ञावनकों और ऄन्द्य लोगों का प्रवतवनवधस्यि करने िाले सैंकडों संगठनों का एक
व्यापक प्लेटफामा है, तथा ऄन्द्य ऐसे संगठनों ने आस सम्बन्द्ध में वनम्नवलवखत थचताएं व्यक्त की हैं:
 शावमल जोवखम - GEAC ने नागररकों के स्िास््य और पयाािरण के संबंध में ऄिैज्ञावनक रिैया प्रदर्खशत ककया है तथा GMOs के
जोवखम/खतरों से नागररकों की रक्षा के ऄपने ऄवधदेश को पूरा करने में ऄसफल रहा हैI आस सम्बन्द्ध में भी कोइ जानकारी नहीं है कक
GEAC में कोइ कृ वष विशेषज्ञ या ककसानों का प्रवतवनवध शावमल है या नहीं I
 खाद्य श्रृख
ं ला पर प्रभाि - जीएम सरसों का प्रयोग हमारे खेतों और भोजन में रसायनों को बढ़ा देगा।
 रोजगार में नुकसान - यहााँ तक कक जीएम सरसों को 25% तक ऄपनाने से भी सरसों पैदा करने िाले क्षेत्रों में लगभग 4 करोड से
ऄवधक रोज़गार कदिसों का नुकसान होगा I

16 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 पारदर्खशता की कमी - विविध क्षेत्रों में ऄभी भी ऄस्पष्टता विद्यमान है जैसे कक, मानि स्िास््य, खाद्य श्रृंखला, सहयोगी क्षेत्रों
(मधुमक्खी पालक, फलोद्यान एिं अयुिेकदक औषवध वनमााता एिं िैद्य) अकद पर पडने िाले GM फू ड्स के प्रभाि के सम्बन्द्ध में कोइ
अंकडे मौजूद नहीं है I
 यह स्िदेशी प्रजावत नहीं है - यह "स्िदेशी जीएम" नहीं है ,क्योंकक प्रयुक्त जीन बहुराष्ट्रीय कं पवनयों की संपवत्त हैं जो ईस पर ऄपना
वनयंत्रण पाना चाहती हैं।
 एकावधकार और ईपज हावन - आससे ककसानों को ईपज हावन होगी , क्योंकक ककसानों को खेती से बचाए गए बीजों के स्थान पर
प्रस्ययेक मौसम में नए बीज खरीदने होंगे वजससे ईनकी संप्रभुता, फसल विविधता और लाभदेयता पर दुष्प्प्रभाि पडेगा I
अगे की राह
 कृ वष के राज्य सूची का विषय होने के कारण आस मुद्दे पर राज्य सरकारों के साथ परामशा।
 सभी वहतधारकों की वशकायतों का वनिारण - GM सरसों को ऄनुमवत प्रदान करने से पूिा सुरक्षा दस्तािेजों को ऑनलाआन करते
हुए तथा प्राप्त सभी रटप्पवणयों में व्यक्त थचताओं को संबोवधत करते हुए ककसानों और जनता की सभी वशकायतों का वनिारण ककया
जाना चावहए।
 कानूनी ईपाय - आसमें एक जिाबदेही ईपबंध (liability clause) होना चावहए ऄथाात यकद कु ि गलत होता है तो ऄमेररकी कानून के
समान जिाबदेही को क़ानूनी रूप से तय ककया जाना चावहएI यकद जीएम तकनीक की फसल, वनयवमत ककस्मों को प्रभावित करती है
तो आस सन्द्दभा में जिाबदेही काफी ऄवधक है। आससे यह सुवनवश्चत होगा कक बीटी कपास पर थपक बॉलिमा पेस्ट (pink bollworm)
के हमले के मामले में जो गैर-जिाबदेही कदखाइ दी िह दूसरी जीएम फसलों के मामले में दोबारा न हो।
3.2. कॉयर ईद्योग
(Coir Industry)
सुर्खियों में क्यों?
 तवमलनाडु , के रल और कनााटक में नाररयल के खेतों में जल की व्यापक कमी के कारण आन भागों में कॉयर ईद्योग की ईपज में कमी
अइ है।
पृष्ठभूवम
 कॉयर और कॉयर ईस्यपादों के िैवश्वक ईस्यपादन का लगभग 66% वहस्सा भारत का है।
 भारत में के रल कॉयर ईद्योग के सन्द्दभा में सबसे बडा राज्य हैI कॉयर ईद्योग का भौगोवलक (geographical location) स्थान कच्चे
माल की ईपलब्धता (नाररयल) पर वनभार करता है जो कनााटक, के रल, तवमलनाडु , अंध्र प्रदेश और ओवडशा जैसे राज्यों में ईपलब्ध
है।
सरकार की पहल
 कॉयर ईद्यमी योजना - पुनरुद्ार, अधुवनकीकरण और प्रौद्योवगकी ईन्नयन का नाम बदल कर कॉयर ईद्यमी योजना कर कदया गया
है।
 यह एक क्रेवडट थलक्ड सवब्सडी योजना है जो 10 लाख तक की पररयोजना लागत के कॉयर यूवनट की स्थापना के वलए 40%
सरकारी सवब्सडी, 55% बैंक लोन और 5 लाभाथी ऄंशदान प्रदान करती है। ककसी भी कोलेटरल वसक्यूररटी/थडा पाटी गारं टी की
अिश्यकता नहीं होती और आसमें अय की कोइ उपरी सीमा भी नहीं है।
 यह सहायता व्यवक्तयों, कं पवनयों, स्ियं सहायता समूहों, गैर सरकारी संगठनों, सोसायटीज रवजस्रेशन एक्ट ,1860 के तहत गरठत
संस्थानों, सहकारी सवमवतयों, संयुक्त देयता समूहों और धमााथा रस्ट्स के तहत पंजीकृ त संस्थाओं को ईपलब्ध है।

कॉयर ईद्योग के अधारभूत त्य


 कॉयर नाररयल के विलके से प्राप्त होने िाली रे शेदार सामग्री है।
 यह एक महस्यिपूणा कु टीर ईद्योग है।
 भारत में कॉयर ईद्योग दो ऄलग-ऄलग घटकों से वमलकर वनर्खमत होता है यथा -
 िाआट फाआबर - यह ऄपेक्षाकृ त ऄवधक वचकना और महीन ककन्द्तु कमज़ोर होता है। यह कच्चे हरे नाररयल से प्राप्त ककया जाता है
वजसका आस्तेमाल मुख्य रूप से रस्सी वनमााण में ककया जाता है। यह रस्सी वनमााण के वलए मुख्य रूप से प्रयोग ककया जाता है।

17 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 ब्राईन फाआबर - यह पूरी तरह से पके हुए भूरे रं ग के नाररयल से प्राप्त ककया जाता है। यह मजबूत होता है और आस प्रकार ब्रश,
मैट अकद िस्तुओं बनाने के वलए आस्तेमाल ककया जाता है I
 2015-16 में कॉयर वनयाात से लगभग 1900 करोड रुपये की प्रावप्त हुइ थी।
 भारत से मुख्य वनयाात गंतव्य संयक्त
ु राज्य ऄमेररका है।
 आस ईद्योग में प्रस्ययक्ष तौर पर 7 लाख लोग संलग्न हैं वजनमें से ऄवधकांशतः ग्रामीण क्षेत्रोंसे हैं। आसमें से मवहला श्रवमकों की संख्या
लगभग 70% है।

कॉयर विकास योजना -


 आसमें कौशल ईन्नयन और ईस्यपादों की गुणित्ता में सुधार शावमल है।
 आसमें मवहला कॉयर योजना भी शावमल है, वजसके ऄंतगात मवहला कॉयर श्रवमकों को प्रवशक्षण कदया जाता है तथा ईन्द्हें सवब्सडाआज्ड
कीमतों पर मशीनें ि ईपकरण ईपलब्ध कराए जाते हैं।
 आसके ऄन्द्य घटक ईस्यपादन ऄिसंरचना का विकास, घरे लू बाज़ार को बढ़ािा देना, वनयाात को बढ़ािा देना आस्ययाकद हैं।

कॉयर बोडा
 यह कॉयर ईद्योग ऄवधवनयम 1953 (Coir Industry Act 1953)के तहत विकवसत एक सांविवधक वनकाय है।
 यह पंजीकरण और लाआसेंस के माध्यम से कॉयर के ईस्यपादन और वितरण को वनयंवत्रत करता है।
 यह ईद्योग के वलए मानकों को भी वनधााररत करता है।
 यह कॉयर ईस्यपादों के ईस्यपादन के वलए सरकार का एक सलाहकार वनकाय है।
 यह MSME मंत्रालय के ऄधीन काया करता है।

कॉयर ईद्योग का महस्यि


 पयाािरण ऄनुकूल ईस्यपादों के बारे में जागरूकता बढ़ने के साथ ऄंतरराष्ट्रीय और घरे लू बाजार में कॉयर अधाररत िस्तुओं की मांग
बढ़ रही है।
 इ-कॉमसा के विकास के पररणामस्िरूप कॉयर से बने मैट और गद्दों की मांग तथा विपणन में िृवद् हुइ है।
चुनौवतयां
 जलिायु पररितान और मानसूनी िषाा की कमी कॉयर ईद्योग की पैदािार को प्रभावित कर सकते हैं।
 आं डोनेवशया, वियतनाम और श्रीलंका जैसे देशों से होने िाली प्रवतस्पधाा भारतीय कॉयर ईद्योग के लाभ मार्खजन को प्रभावित कर
सकती है।
 कच्चे माल सम्बन्द्धी समस्याओं में कच्चे माल की खराब गुणित्ता और ईसकी ईच्च लागत शावमल हैं।
 श्रम सम्बन्द्धी समस्याओं में श्रवमक ऄनुपवस्थवत, कम िेतन, वनम्न कौशल, कम श्रम ईस्यपादकता शावमल अकद है।
 ऄन्द्य चुनौवतयों में वित्तीय ऊण की ऄनुपलब्धता, तैयार माल अकद के विपणन की समस्याएं अकद शावमल हैं।
3.3. पूसा कृ वष ऐप
(Pusa Krishi App)
सुर्खियों में क्यों?
 आस ऐप का हाल ही में कृ वष ईन्नवत मेले में ईद्घाटन ककया गया।

कृ वष ईन्नवत मेला
 यह भारतीय कृ वष ऄनुसंधान संस्थान, कदल्ली द्वारा ककया जाने िाला एक िार्खषक अयोजन है।
 यह कृ वष एिं पशुपालन में नइ तकनीकों और कें री ीय सरकार की महस्यिपूणा योजनाओं एिं कायाक्रमों के बारे में जानकारी साझा करता
है।

ऐप के बारे में
 यह ICAR के भारतीय कृ वष ऄनुसंधान संस्थान (IARI) द्वारा विकवसत की गइ है।
 पूसा कृ वष एप वनम्नवलवखत के बारे में जानकारी देता है -
 ककसानों के वलए ईपलब्ध ईस्यपादों की ककस्मों के बारे में

18 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 बेहतर फसल देने में सक्षम प्रौद्योवगकी के बारे में
 ईस्यपाद और सिाावधक ईपयुक्त क्षेत्र के बारे में जानकारी
 पशु खाद्य और जैि ईिारक के बारे में जानकारी
 एक फीडबैक सेक्शन है जो कृ वष िैज्ञावनकों को वहतधारकों के साथ एक िास्तविक समय अधाररत िाताालाप करने में सक्षम बनाता
है।
कृ वष विस्तार से संबवं धत संस्थाएं
 राष्ट्रीय कृ वष विस्तार प्रबंधन कें री (National Centre for Management of Agricultural Extension: MANAGE)
(1987)
 यह कृ वष मंत्रालय के तहत एक स्िायत्त संस्थान है।
 यह हैदराबाद में वस्थत है।
 यह के न्द्री ीय और राज्य सरकारों एिं ऄन्द्य संगठनों की ईनके कृ वष विस्तार के प्रभािी प्रबंधन में सहायता करता है।
 भारतीय कृ वष ऄनुसध
ं ान पररषद (Indian Council of Agricultural Research: ICAR)
 यह कृ वष मंत्रालय के तहत एक स्िायत्त वनकाय है।
 आसका प्रमुख कृ वष मंत्री होता है।
 यह भारत में कृ वष वशक्षा और ऄनुसंधान में समन्द्िय स्थावपत करता है।

3.4. राष्ट्रीय समुरी ी मस्यस्य पालन नीवत 2017


(National Policy on Marine Fisheries 2017)
सुर्खियों में क्यों?
 हाल ही में पशुपालन, डेयरी और मस्यस्य पालन विभाग ने राष्ट्रीय समुरी ी मस्यस्य पालन नीवत लांच की।
पृष्ठभूवम
 भारत विश्व में मिली का दूसरा सबसे बडा ईस्यपादक है, जो िैवश्वक मिली ईस्यपादन में 5.43% योगदान देता है।
 भारत जलीय कृ वष के माध्यम से मिली का प्रमुख ईस्यपादक है और चीन के बाद दुवनया में दूसरे स्थान पर है।
 स्ितंत्रता के पश्चात मस्यस्य ईस्यपादन िषा 1950-51 के 7.5 लाख टन से बढ़कर िषा 2014-15 में 100.70 लाख टन हो गया है।
 समुरी ी मस्यस्यन विश्व में सबसे तेजी से बढ़ता खाद्य ईस्यपादक क्षेत्र है वजसमें भोजन अिश्यकताओं को पूरा करने की काफी संभािनाएं
हैं, विशेषकर विशाल जनसंख्या की प्रोटीन अिश्यकताओं को पूरा करने की ।
 2015 में डीप सी कफथशग पर बी. मीनाकु मारी की ररपोटा के बाद, सरकार ने 2004 की मौजूदा समुरी ी मस्यस्य पालन नीवत को
संशोवधत करने का वनणाय वलया था।
मस्यस्य पालन की शाखाएं
 समुरी ी मस्यस्य पालन - आसके ऄंतगात मुख्य रूप से समुरी ी मिवलयााँ और ऄन्द्य समुरी ी ईस्यपाद अते हैं।
 जैस-े ऑयल सारडाआन, मैकेरल, बॉम्बे डक्स, ट्यूना और झींगा, कै टकफ़श, पोवलनोवमड, पोम्फ्रेट्स, कें कडे, ओएस्टसा, समुरी ी शैिाल
 ऄंतदेशीय मस्यस्य पालन - ऄंतदेशीय मस्यस्य पालन में ताजे पानी और खारे पानी के मस्यस्य पालन दोनों शावमल हैं। व्यािसावयक रूप से
महस्यिपूणा ताजे पानी के मस्यस्य संसाधन काप्सा, म्यूलेट्स, चानोस और झींगा हैं। कु ि पश्चजल मस्यस्य पालन में वश्रम्प शावमल हैं I

नीवत के बारे में


 नीवत का ईद्देश्य संधारणीय ईस्यपादन के जररए भारत के EEZ (Exclusive Economic Zone- विवशष्ट अर्खथक क्षेत्र) के समुरी ी
जीवित संसाधनों की स्िास््य और पाररवस्थवतक ऄखंडता सुवनवश्चत करना है।
 समग्र रणनीवत सात स्तंभों पर अधाररत होगी, ऄथाात् संधारणीय विकास, मिु अरों का सामावजक-अर्खथक ईस्यथान, ऄनुषांवगकता
(सवब्सडीएररटी) का वसद्ांत, साझेदारी, ऄंतर-पीढ़ीगत समता, लैंवगक न्द्याय और वनिारक दृवष्टकोण।
 यह नीवत मस्यस्य पालन के संरक्षण, विकास और प्रबंधन का वजम्मेदारीपूणा वनिााह करने िाले तौर तरीकों के पालन के वलए FAO (
खाद्य एिं कृ वष संगठन) की अचार संवहता के ऄनुरूप होगी।
नीवत के कु ि प्रािधान वनम्नवलवखत हैं-
 वनगरानी, वनयंत्रण और पयािेक्षण (दुघाटनाओं और ऄवतक्रमण को रोकने के वलए)

19 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 बेहतर वनगरानी और पयािेक्षण के वलए, मिु अरों और ईनके मिली पकडने के जहाजों के वलए वचप अधाररत स्माटा पंजीकरण काडा
जारी ककए जाएंगे।
 ऄंतरााष्ट्रीय समुरी ी सीमा रे खा (IMBL) पार करने से बचने के वलए मिु अरों को प्रवशक्षण और जागरूकता प्रदान की जाएगी।
मस्यस्य पालन प्रबंधन पर एकीकृ त दृवष्टकोण -
 संसाधनों के संधारणीय ईपयोग के वलए स्थावनक और ऄस्थायी ईपाय के साथ प्रजावत-विवशष्ट और क्षेत्र-विवशष्ट प्रबंधन योजनाएं।
 पाररवस्थवतकी और जैविक रूप से महस्यिपूणा क्षेत्रों (EBSAs), सुभेध समुरी ी पाररवस्थवतक तंत्र (VME) और आन्द्डन्द्ै जडा प्रजावतयों
अकद का संरक्षण।
 यह परं परागत ज्ञान और िैज्ञावनक व्यिसाय वसद्ांतों का वमश्रण होगा।
 मिली पकडने िाले समुदाय की क्षमताओं में सुधार के वलए सूचना प्रौद्योवगकी और ऄंतररक्ष प्रौद्योवगकी का ईपयोग। ईदाहरण के
वलए- मौसम का ऄनुमान लगाने के वलए आनका ईपयोग करना।
 मस्यस्य पालन के वलए पारं पररक ईपयोग ऄवधकार (ईन क्षेत्रों में जहां यांवत्रक मस्यस्यन वनवषद् है और िोटे मिु अरों को ऄनुमवत प्राप्त
है) जारी रहेंगे।
 सरकार पारं पररक मिु अरों को कौशल प्रदान करने के वलए भी योजनाएं प्रारं भ करे गी।
व्यािसावयक मस्यस्य पालन -
 मवस्यस्यकी डेटा एिं ऄनुसध
ं ान - सरकार सभी वहतधारकों के साथ एक राष्ट्रीय समुरी ी मस्यस्य पालन डेटा ऄवधग्रहण योजना को लागू
करे गी।
 मैरीकल्चर- सरकार मैरीकल्चर फामा/पाका स्थावपत करने और क्षेत्र के विकास के वलए बीज की अपूर्खत हेतु हैचरों(hatcheries) की
स्थापना के वलए योजनाओं को प्रोस्यसावहत करे गी। पोस्ट-हािेस्ट नुकसान को रोकने पर भी ध्यान कें करी त ककया जाएगा।
 द्वीप मस्यस्यन - भारत के द्वीपों का ट्यूना, स्नैपर, ग्रुपसा अकद जैसे अकषाक और िावणवज्यक मूल्य िाले मस्यस्य पालन के वलए दोहन

ककया जाएगा। कक्रल मस्यस्यन को राष्ट्रीय न्द्यायक्षेत्र से बाहर ऄिवस्थत क्षेत्रों (Areas Beyond National Jurisdiction - ABNJ )
में भी बढ़ािा कदया जाएगा।
 मस्यस्य व्यिसाय - सरकार व्यापार बाजार में विविधता लाने, FSSAI मानकों को ऄंतरााष्ट्रीय बाजारों के साथ सुसंगत करने,
वबचौवलयों के प्रभाि को कम करने और मिवलयों की इकोलेबथलग पर ध्यान देगी।
 समुरी ी मस्यस्य पालन क्षेत्र के वलए ईद्यमशीलता विकास, वनजी वनिेश, सािाजवनक वनजी भागीदारी को प्रोस्यसावहत ककया जाएगा।
 नाबाडा की मदद से सरकार मिु अरों को संस्थागत ऊण प्रदान करे गी।
समुरी ी पयाािरण और मस्यस्य पालन -
 मौजूदा समुरी ी संरवक्षत क्षेत्रों (MPA) की समीक्षा एिं समय-समय पर मूल्यांकन करना।
 यह नीवत पारं पररक मिु अरों के पट्टा ऄवधकार को सुवनवश्चत करने के वलए विवधक सहायता प्रदान करे गी ताकक ईनकी अजीविका
संरक्षण ईपायों से प्रभावित न हो।

गहन समुरी ी मस्यस्यन (डीप सी कफथशग) पर बी मीना कु मारी सवमवत


 कें री से "ऄनुमवत पत्र" प्राप्त करके 15 मीटर या ईससे ऄवधक की लंबाइ िाले जहाजों के वलए क्षेत्रीय जल से परे 22 ककमी से 370

ककमी के बीच EEZ में मिली पकडने की ऄनुमवत प्रदान करती है।

 आन जहाजों का भारतीय ईद्यवमयों द्वारा या 49% विदेशी वनिेश के साथ संयुक्त ईपक्रमों द्वारा स्िावमस्यि या ऄवधग्रहण ककया जा
सकता है।
 तट के ककनारे वनयर-शोर (near-shore) और ऑफ शोर (offshore) (ऄपतटीय) क्षेत्रों के बीच (200 मीटर और 500 मीटर

गहराइ के बीच के जल में) बफर ज़ोन का वनमााण और आस क्षेत्र में मस्यस्यन का विवनयमन "ताकक तट के वनकट क्षेत्रों के साथ-साथ

EEZ में गहरे समुरी ी क्षेत्रों में संसाधनों िृवद् की जा सके । "

20 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


महस्यि
 वनगरानी और पयािेक्षण यह सुवनवश्चत करें गे कक भारतीय मस्यस्यन बेडा 'ऄिैध, ऄसूवचत एिं ऄवनयवमत' (Illegal, Unreported
and Unregulated: IUU) मस्यस्यन में संवलप्त न हो।
 मस्यस्य पालन के मवहला प्रधान पोस्ट-हािेस्ट क्षेत्रक में मवहला स्ियं सहायता समूहों (SHG) को प्रोस्यसावहत ककया जाएगा।
 यकद नीवत को ऄछिी तरह से लागू ककया गया तो यह सतत विकास के वलए महासागरों, सागरों और समुरी ी संसाधनों के संरक्षण और
सतत ईपयोग से संबंवधत सतत विकास लक्ष्य 14 (SDG-14) को बढ़ािा देगी।
 यह हमारी ऄथाव्यिस्था के प्राथवमक क्षेत्र को बढ़ािा देने और आसकी विकास दर को बेहतर बनाने में भी मदद करे गी।
चुनौवतयां
 नीवत ऄनुमवत पत्र योजना को समाप्त करने की सलाह देती है। यह आस प्रकार गहन समुरी ी मस्यस्यन में वनजी वनिेश को बढ़ािा देती है
(बी. मीनाकु मारी सवमवत द्वारा ऄनुशंवसत)। आससे िोटे एिं पारं पररक मिु अरे समुदाय के वलए संकट पैदा हो सकता है।
 राज्यों की कु ि वसफाररशों जैसे कक एक ऄलग मस्यस्य पालन मंत्रालय, राज्यों की प्रादेवशक सीमा का विस्तार अकद को आस नीवत में
समावहत नहीं ककया गया है।
अगे की राह
 हाल ही में सरकार ने सभी मौजूदा योजनाओं को वमलाकर एक ऄम्ब्रेला योजना 'ब्लू ररिोल्यूशन: आं टीग्रेटेड डेिलपमेंट एंड मैनज
े मेंट
ऑफ कफशरीज' तैयार की है। यह ऄम्ब्रेला योजना ऄंतदेशीय मस्यस्य पालन, जल कृ वष (एक्वाकल्चर) और समुरी ी मस्यस्य पालन को किर
करती है वजसमें गहन समुरी ी मस्यस्यन, मैरी-कल्चर और राष्ट्रीय मस्यस्य विकास बोडा (NFDB) द्वारा संचावलत की जाने िाली सभी
गवतविवधयां शावमल हैं।
 देश में नीली क्रांवत को बढ़ािा देने के वलए सरकार को आस नीवत को आस योजना के ऄनुरूप सुसंगत करना चावहए।
3.5. सम्पदा योजना
(Sampada Scheme)
सुर्खियों में क्यों?
 सरकार ने 2016-20 की ऄिवध के वलए खाद्य प्रसंस्करण ईद्योग मंत्रालय की योजनाओं को एक नइ कें री ीय क्षेत्रक योजना- सम्पदा
(SAMPADA: स्कीम फॉर एग्रो-मरीन प्रोसेथसग एंड डेिलपमेंट ऑफ़ एग्रो-प्रोसेथसग क्लस्टसा) के ऄंतगात पुनसंरवचत करने की
मंजरू ी दे दी है।
अिश्यकता
 िैवश्वक स्तर पर कु ल खाद्य ईस्यपादन में भारत का प्रथम स्थान है। भारत में खाद्य ईस्यपादों के ऄवधक ईस्यपादन के बािजूद, ईपज की
हावन थचता का प्रमुख विषय है।
 भारत में बडे पैमाने पर ईस्यपादन की तुलना में प्रसंस्करण का स्तर 10% से भी कम है।
 एक सुविकवसत खाद्य प्रसंस्करण ईद्योग ऄपव्यय में कमी, मूल्य िृवद् में सुधार, फसल विविधीकरण को बढ़ािा, ककसानों को बेहतर
ररटना, रोजगार को बढ़ािा और वनयाात अय में बढ़ोतरी में सहायक होगा।
पृष्ठभूवम
 िषा 2015-16 के दौरान, खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्रक का योगदान विवनमााण और कृ वष क्षेत्र में GVA का क्रमशः 9.1 और 8.6 प्रवतशत
है।
 भारत में वनर्खमत और/या ईस्यपाकदत खाद्य ईस्यपादों के संबंध में सरकार ने इ-कॉमसा सवहत व्यापार में 100% FDI (ऑटोमैरटक रूट )
की ऄनुमवत दी है।
 सरकार ने विवशष्ट रूप से वनर्ददष्ट (designated) फ़ू ड पाकों और एग्रो प्रोसेथसग यूवनट्स को ररयायती दर पर सस्ते ऊण देने के वलए
नाबाडा में 2000 करोड रुपये की विशेष वनवध की स्थापना की है।
 खाद्य और कृ वष अधाररत प्रसंस्करण आकाआयों और कोल्ड चेन आन्द्फ्रास्रक्चर को प्रायोररटी सेक्टर लेंथडग (PSL) के दायरे के ऄंतगात
लाया गया है।

21 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


मसौदा राष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण नीवत 2017(Draft National Food Processing Policy 2017)
 यह संधारणीय पयाािरणीय के तरीकों को ऄपनाने पर जोर देती है, जैसे जैि कचरे से उजाा ईस्यपादन करना I
 यह नीवत ईस्यपादों की गुणित्ता, स्िास््य और सुरक्षा के वलए FSSAI एक्ट, 2006 के ऄनुपालन का सुझाि देती है और स्ि-
विवनयमन का प्रस्ताि रखती है।
प्रशासवनक समस्याएं -
 प्रस्ययेक राज्य द्वारा खाद्य प्रसंस्करण से संबंवधत सभी मामलों के प्रबंध के वलए एक स्ितंत्र विभाग की स्थापना की जानी चावहए।
 राज्यों को समयबद् तरीके से सभी अिश्यक मंजूरी प्रदान करने की सुविधा के वलए इ-प्लेटफॉमा बनाना चावहए।
ऄिसंरचनास्यमक विकास -
 यह नीवत खाद्य प्रसंस्करण में आकॉनोमी ऑफ स्के ल के लाभों का दोहन करने के वलए क्लस्टर दृवष्टकोण के ऄनुपालन की ऄनुशस ं ा
करती है।
 राज्यों को सभी कच्चे माल, विशेष रूप से बागिानी ईस्यपादों, की प्रस्ययक्ष खरीद को बढ़ािा देने के वलए eNAM प्लेटफ़ॉमा में पंजीकरण
कराना चावहए।
 ईद्यमों को बडी आकाआयों की स्थापना हेतु भूवम की खरीद हेतु प्रोस्यसावहत करने के वलए भूवम पट्टे पर सीथलग को बढ़ाया जाना चावहए
या आसे समाप्त कर देना चावहए।
 मेगा फू ड पाका को प्राथवमकता के अधार पर भूवम का अिंटन ककया जाना चावहए।
 बारकोथडग, RFID टैग्स जैसी प्रौद्योवगकी को ऄपनाने का समथान ककया जाना चावहए।
आसका एक ईद्देश्य श्रम कानूनों में सुधार करके , आन्द्क्यूबेशन सेंटर को बढ़ािा देकर तथा प्रस्ययेक राज्य में वस्कथलग सेंटर की स्थापना अकद के
माध्यम से आस क्षेत्रक में ईद्यमशीलता को बढ़ािा देना भी है।
प्रािधान :
 आस योजना का ईद्देश्य कृ वष को पूरक बनाना, संसाधनों का अधुवनकीकरण और कृ वष ईस्यपादों के नुकसान को कम करना है।
 यह खाद्य संसाधन मंत्रालय द्वारा चलाइ जा रही योजनाओं को शावमल करने के वलए एक ऄम्ब्रेला स्कीम है I
 मेगा फ़ू ड पाक्सा, आं टीग्रेटेड कोल्ड चेन एंड िैल्यू एवडशन आं फ्रास्रक्चर, फ़ू ड सेफ्टी एंड क्वावलटी ऄश्योरें स आं फ्रास्रक्चर जैसी पूिा की
योजनाएं I
 आं फ्रास्रक्चर फॉर एग्रो प्रोसेथसग क्लस्टसा, कक्रएशन ऑफ़ बैकिडा एंड फॉरिडा थलके जेज, कक्रएशन ऑफ़ फ़ू ड प्रोसेथसग एंड वप्रज़िेशन
कै पवसटीज़ जैसी नइ योजनाएं I
महत्त्ि
 विवभन्न योजनाओं का कन्द्िजेन्द्स कायाक्रमों के बेहतर कक्रयान्द्ियन में सहायता प्रदान करे गा।
 यह योजना ईपज के बाद हुए नुकसान को कम करने में भी मदद करे गी।
 वडस्पोजेबल आंकम के बढ़ने से, यह योजना खाद्य तेलों, जूस अकद जैसे प्रसंस्कृ त खाद्य पदाथों की मांग को पूरा करने में मदद करे गी।
 ऄन्द्य ईद्योगों की तुलना में खाद्य ईद्योग में कारखाने एिं आसमें काया करने िाले कमाचाररयों की संख्या सबसे ऄवधक है। यह योजना
रोजगार की संभािनाओं को बढ़ािा देगी ।
 प्रसंस्कृ त खाद्य पदाथा संतुवलत पोषक तस्यिों से युक्त भोजन की ईपलब्धता में िृवद् कर कु पोषण की समस्या का समाधान कर सकते
हैं।
खाद्य प्रसंस्करण ईद्योग की ऄन्द्य योजनाएं
 मेगा फू ड पाका स्कीम
 आसका ईद्देश्य क्लस्टर अधाररत दृवष्टकोण (हब एंड स्पोक्स मॉडल पर अधाररत) को ऄपनाकर खाद्य प्रसंस्करण के वलए अधुवनक
ऄिसंरचनास्यमक सुविधा प्रदान करना है।
 आसके ऄंतगात फ़ामा के वनकट प्राआमरी प्रोसेथसग सेंटर (PPCs) और कलेक्शन सेंटर (CCs) के रूप में प्राआमरी प्रोसेथसग तथा भंडारण
ऄिसंरचना का वनमााण तथा सेंरल प्रोसेथसग सेंटर (CPC) पर सामूवहक सुविधाओं और सडक, वबजली, पानी अकद जैसी सहायक
ऄिसंरचना का वनमााण सवम्मवलत है।
 आं टीग्रेटेड कोल्ड चेन एंड िैल्यू एवडशन आं फ्रास्रक्चर
 यह एक सेंरल सेक्टर स्कीम है।
 आसमें वित्तीय सहायता ऄनुदान के रूप में दी गइ है वजसकी रावश प्रवत पररयोजना ऄवधकतम 10 करोड रूपये हैI

22 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


3.6. मसाला बांड
(Masala Bonds)
सुर्खियों में क्यों?
 कें री ीय सडक पररिहन एिं राजमागा और नौिहन(The Union Minister of Road Transport and Highways and
Shipping) मंत्री ने लंदन स्टॉक एक्सचेंज में NHAI मसाला बॉन्द्ड (NHAI - भारतीय राष्ट्रीय राजमागा प्रावधकरण) की शुरुअत की ।
मसाला बांड क्या हैं?
 मसाला बांड फण्ड की ईगाही के वलए ऄंतरााष्ट्रीय बाजार में भारतीय कं पवनयों द्वारा जारी ककये जाने िाले रुपया-नावमत (rupee-
denominated) बांड हैं।
 ऄब तक आसका के िल लंदन स्टॉक एक्सचेंज में ही कारोबार ककया जा रहा है।
 मसाला बांड नाम विश्व बैंक की वनिेश शाखा आं टरनेशनल फाआनेंस कॉरपोरे शन (IFC) द्वारा कदया गया है। आसने भारत में बुवनयादी
ढांचा पररयोजनाओं के वलए धन जुटाने हेतु आन बांडों को जारी ककया है।
 ये वनिेशकों को विवनमय दर में ईतार-चढ़ाि से बचाते हैं, जो कक एक्सटनाल कमर्खशयल बोरोथिग (ECB) के विपरीत है वजनकी
ईगाही और चुकाइ डॉलर में की जाती है ।
3.7. WPI एिं IIP के अधार िषा में पररितान
(WPI And IIP Base Year Change)
सुर्खियों में क्यों?
 के न्द्री ीय सांवख्यकी कायाालय (CSO) और औद्योवगक नीवत एिं संिधान विभाग (DIPP) द्वारा क्रमशः औद्योवगक ईस्यपादन सूचकांक
(Index of Industrial Production- IIP) और थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index - WPI) के वलए अधार िषा
2004-05 से पररिर्खतत कर िषा 2011-12 कर कदया गया है।
 WPI की नइ श्रृंखला पर अधाररत मुरी ास्फीवत की दर माचा में 5.70 फीसदी से घटकर ऄप्रैल में 3.85 फीसदी रह गइ और IIP ने
माचा में 2.7 फीसदी की िृवद् दजा की, जबकक एक महीने पहले यह 1.9 फीसदी थी।
पृष्ठभूवम
 विवभन्न व्यापक अर्खथक संकेतक जैसे-
WPI, CPI, IIP, GDP, राष्ट्रीय लेखा
अकद ऄथाव्यिस्था के स्िास््य का
परीक्षण करते हैं।
 WPI का मुख्यतः मुरी ास्फीवत को मापने
के वलए एक संकेतक के रूप में ईपयोग
ककया जाता है। RBI ने हाल ही में
मौकरी क नीवत तैयार करने के वलए
मुरी ास्फीवत के मापन हेतु CPI का
आस्तेमाल करना प्रारं भ ककया है।
 WPI का ईपयोग कइ क्षेत्रों के वलए
ऄपस्फीवतकारक (वडफ्लेटर) के रूप में ककया जाता है; जैस-े CSO द्वारा GDP अकलन और IIP की गणना।
 WPI और IIP को सौवमत्र चौधरी सवमवत की वसफाररशों के ऄनुरूप संशोवधत ककया गया है, वजसने माचा 2014 में ऄपनी ररपोटा
पेश की।
 CSO द्वारा पहली बार एक तकनीकी समीक्षा सवमवत (TRC) का गठन ककया गया है जो सूचकांको की समीक्षा और देश के बदलते
हुए अर्खथक ढांचे के ऄनुरूप ईवचत और ईपयुक्त तरीकों की वसफाररश करे गी। TRC की ऄध्यक्षता DIPP के सवचि द्वारा की
जाएगी। आसकी एक िषा में एक बार बैठक होगी।

23 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


नया क्या है?

 आसके तहत WPI के अधार िषा के ऄलािा, िस्तुओं के समूह एिं ईनके भारांश को भी पररिर्खतत ककया गया है। देश में बदलती मांग

के ऄनुरूप 199 नइ िस्तुएं जोडी गइ हैं और 146 िस्तुएं हटा दी गइ हैं।

 राजकोषीय नीवत के प्रभाि को दूर करने के वलए करों को WPI से बाहर रखा गया है।

 WPI की गणना समांतर माध्य की बजाय ऄब गुणोत्तर माध्य से की जाएगी। CPI की गणना गुणोत्तर माध्य द्वारा की जाती है I

 IIP में 149 िस्तुए जोडी और 124 िस्तुएं हटाइ गइ हैं।


वनवहताथा
 अधार िषा में पररितान ने सभी व्यापक अर्खथक संकेतकों का समान अधार वनर्खमत कर कदया है वजससे आनकी तुलना करना असान
हो गया है। नया अधार िषा एक ऄवधक यथाथािादी वचत्र प्रस्तुत करे गा।
 िस्तुओं एिं ईनके भारांश के WPI बास्के ट में बदलाि ने आसे CPI और देश में ईपभोग के बदलते प्रवतरूप के वनकट ला कदया है।

 WPI से ऄप्रस्ययक्ष करों को हटाना आसे एक संगत और ईवचत ऄपस्फ़ीवतकारक (वडफ्लेटर) बनाएगा। यह आसे PPI (प्रोडू सर प्राआस
आं डक्
े स /ईस्यपादक मूल्य सूचकांक) और िैवश्वक प्रथाओं के करीब लाएगा।
 आसी प्रकार GVA की गणना (करों के वबना) की जाती है, आसवलए यह आसे GVA के संगत बनाएगा।

 IIP बास्के ट में बदलाि आसे ितामान ईस्यपादन संरचना के करीब लाएगा।

 TRC की स्थापना समय पर सूचकांकों की समीक्षा करने और वबना देरी के अिश्यक पररितान करने में मदद करे गी।

3.8. स्िैवछिक बेरोजगारी

(Voluntary Unemployment)

सुर्खियों में क्यों?

 हाल ही में, नीवत अयोग के सदस्य वबबेक देबरॉय ने पूरे देश में स्िैवछिक बेरोजगारी में एक नाटकीय िृवद् का संकेत कदया है।

एवक्टविटी स्टेटस (Activity Status)


 एवक्टविटी स्टेटस व्यवक्त के एवक्टविटी से संबंवधत ऐसी वस्थवतयों को संदर्खभत करता है वजसमें व्यवक्त ककसी संदभा ऄिवध के दौरान
अर्खथक या गैर-अर्खथक गवतविवधयों में संलग्न पाया जाता है।

स्िैवछिक रोजगार
 NSSO वनम्नवलवखत तीन व्यापक एवक्टविटी स्टेटस को पररभावषत करता है -
 कायारत / वनयोवजत (एक अर्खथक गवतविवध में संलग्न)
 काया की तलाश या काया के वलए ईपलब्ध ऄथाात 'बेरोजगार'
 न तो काया की तलाश करना न काया के वलए ईपलब्ध होना।
श्रम बल / काया बल िस्तुतः एक देश या क्षेत्र में रोजगार में लगे लोगों या रोजगार की तलाश में जुटे लोगों की कु ल संख्या को प्रदर्खशत
करता है।
 एक व्यवक्त को स्िैवछिक बेरोजगार के रूप में िगीकृ त ककया जाएगा यकद िह कायारत नहीं है और न ही कायाबल में शावमल होने के
वलए तैयार है। ऄवधकांशतः आसका कारण यह होता है कक वशक्षा के क्षेत्र में 'वनिेश' के बाद लोग एक वनवश्चत अय स्तर से नीचे काम
करना पसंद नही करते हैं।
अगे की राह
 यह एक खतरनाक वस्थवत है क्योंकक ऄगर स्िैवछिक बेरोजगारी ईच्च स्तर तक बढ़ जाती है तो भारत का जनसांवख्यकीय लाभांश
व्यथा होगा। आसका स्तर बढ़ रहा है क्योंकक ईच्च कु शल नौकररयों में िृवद् ऐसी नौकरी चाहने िालों की संख्या की तुलना में कम है।
 ऄवधकतर स्िैवछिक बेरोजगारी आसवलए है क्योंकक काम की ऄपयााप्त प्रकृ वत या ऄपयााप्त िेतन के कारण रोजगार की ऄनुपलब्धता है।
आसवलए, सरकार को आन स्िैवछिक बेरोजगारों के ईपयोग के वलए नौकररयों में विविधता लाने हेतु काया करना चावहए।

24 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


3.9. प्रौद्योवगकी एिं निाचार सहायता के न्द्री ों की स्थापना
(Technology and Innovation Support Centres to Come Up)
सुर्खियों में क्यों?
 औद्योवगक नीवत एिं संिधान विभाग (DIPP) और विश्व बौवद्क संपदा संगठन (WIPO) ने प्रौद्योवगकी एिं निाचार सहायता कें री
(TISC) स्थावपत करने के वलए साथ अने का वनणाय वलया है।
यह क्या है?
 TISC कायाक्रम विकासशील देशों में ऄन्द्िेषकों (innovators) को स्थानीय ईच्च गुणित्ता िाली तकनीकी जानकारी और संबंवधत
सेिाओं तक पहुंच बनाने में मदद करता है, वजससे ईनकी निाचारी क्षमता का फायदा ईठाने और ईनकी बौवद्क संपदा (IP)
ऄवधकारों के सृजन, सुरक्षा और प्रबंधन करने में मदद वमलती है।
 िावणज्य एिं ईद्योग मंत्रालय के ऄधीन बौवद्क संपदा ऄवधकार प्रोस्यसाहन एिं प्रबंधन प्रकोष्ठ (Cell for IPR Promotion and
Management: CIPAM) को TISC नेटिका के वलए राष्ट्रीय फोकल थबदु के रूप में नावमत ककया गया है।
 यह संभावित मेजबान संस्थानों की पहचान करे गा, ईनकी क्षमताओं का अकलन करे गा और TISC पररयोजना में शावमल होने में
ईनकी सहायता करे गा।

WIPO
 WIPO बौवद्क संपदा सेिाओं, नीवत, सूचना और सहयोग के वलए एक िैवश्वक मंच है।
 यह संयक्त
ु राष्ट्र की एक स्ि-वित्तपोवषत एजेंसी है। आसके 189 सदस्य देश हैं।
 आसे 1967 में स्थावपत ककया गया और आसका मुख्यालय वजनेिा, वस्िट्जरलैंड में है।
CIPAM
 CIPAM DIPP (औद्योवगक नीवत और संिधान विभाग) के तहत बनाया गया एक पेशेिर वनकाय है।
 आसे राष्ट्रीय बौवद्क संपदा ऄवधकार नीवत 2016 के कायाान्द्ियन का काया सौंपा गया है।
 आसका ईद्देश्य IPR (बौवद्क संपदा ऄवधकार) के बारे में जागरुकता फै लाना, सहजता से IPR दावखल करने को प्रोस्यसावहत करना,
ऄन्द्िष
े कों को IP पररसंपवत्तयों के व्यिसायीकरण के वलए एक मंच प्रदान करना है।

3.10. स्िदेशी नावभकीय ईजाा


(Indigenous nuclear power)
सुर्खियों में क्यों?
 कै वबनेट ने हाल ही में न्द्यूवक्लयर पािर कॉरपोरे शन ऑफ आं वडया वलवमटेड (NPCIL) द्वारा बनाए जाने िाले 10 स्िदेशी प्रेसराइज्ड
हेिी िाटर न्द्यूवक्लयर ररएक्टर (PHWR) के वनमााण के प्रस्ताि को मंजरू ी दे दी है, आसमें से प्रस्ययेक की क्षमता 700 मेगािाट है।
आससे यह देश की ितामान स्थावपत परमाणु क्षमता 6,780 मेगािाट के दोगुने से ऄवधक हो जाएगी।

NPCIL के बारे में:


 यह परमाणु उजाा विभाग (DAE) के तहत एक सािाजवनक क्षेत्रक ईद्यम है।
 यह कं पनी ऄवधवनयम के तहत एक पवब्लक वलवमटेड कं पनी के रूप में पंजीकृ त है।
 आसका मुख्य ईद्देश्य परमाणु वबजली पररयोजनाओं को कायाावन्द्ित करना और वबजली ईस्यपादन के वलए परमाणु उजाा संयत्र
ं ों का
संचालन करना है।
 DAE के एक ऄन्द्य PSU भाविनी में आसकी आकक्वटी भागीदारी है, जो फास्ट ब्रीडर ररएक्टसा प्रोग्राम को कक्रयावन्द्ित करता है।

25 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


के वबनेट के आस वनणाय का महस्यि:
 परमाणु क्षमता को दोगुना करना - आस संयत्र
ं से
देश की परमाणु ईजाा क्षमता, ितामान में स्थावपत
परमाणु क्षमता से दोगुने से भी ऄवधक हो
जाएगा।
 घरे लू परमाणु क्षमता वनमााण - आस कदम से
स्िदेशी तकनीकी क्षमताओं का वनमााण करने में
भारतीय िैज्ञावनकों की योग्यता के प्रवत दृढ़
विश्वास बढ़ा है, जो भविष्प्य में िैवश्वक परमाणु
अपूर्खत और विवनमााण श्रृंखला में भारत को
ऄग्रणी भूवमका वनभाने में मदद करे गा।
 रोज़गार में िृवद् - आस प्लांट से घरे लू
विवनमााताओं (विशेषकर ईपकरण विवनमााण
ईद्योग में) के वलए 70,000 करोड रुपये का
व्यिसाय और लगभग 33,400 रोजगार ईस्यपन्न
होगा।
 वनभारता कम करना - भारत को ऄंतरााष्ट्रीय
सहयोग (collaborations) में परे शानी का
सामना करना पर रहा है, जैस-े ऄमेररकी कं पनी
िेथस्टगहाईस द्वारा कदिावलयापन के वलए
अिेदन करना और फ्रांसीसी कं पनी ऄरे िा के
साथ लागत संबंधी समस्याएं अकद।
 INDC प्रवतबद्ताएं - आससे न के िल देश की
उजाा सुरक्षा सुवनवश्चत होगी बवल्क पेररस
समझौते के तहत काबान मुक्त स्रोतों से युक्त भारत
की स्िछि उजाा प्रवतबद्ताओं को भी पूरा ककया
जा सकता है।
सम्बंवधत वचन्द्ताएं:
 सुरक्षा संबध ं ी थचताएं - प्रस्तावित ररएक्टरों के
वडजाआन, वनमााण और संचालन में सरकार को
सख्त सुरक्षा मानकों का पालन करना चावहए।
 विवनयामक मुद्दे - एक स्ितंत्र वनकाय को
सािाजवनक क्षेत्र के परमाणु उजाा संयंत्रों को
विवनयवमत करना चावहए ताकक परमाणु उजाा
वनयामक बोडा, जो एक सरकारी वनकाय है, द्वारा
विवनयवमत ककए जाने से वहतों के टकराि की समस्या से बचा जा सके ।
 समय और लागत में िृवद् - ऄब तक स्थावपत परमाणु उजाा संयत्र ं ों में यह एक परम्परा के रूप में देखा गया है। आसे पररिर्खतत कर
एक वनवश्चत समय सीमा के भीतर नए संयंत्रों के संचालन को सुवनवश्चत करना होगा।
 परमाणु उजाा के प्रवत ऄंतरााष्ट्रीय विमुखता - जबकक विश्व परमाणु उजाा के विकल्प को िोड रहा है ईसी समय भारत परमाणु ईजाा
की ओर ऄग्रसर है।
भारत की परमाणु क्षमता की ितामान वस्थवत:
 NPCIL ितामान में 22 िावणवज्यक परमाणु उजाा ररएक्टरों का संचालन कर रहा है।
 भारत में परमाणु ईजाा की स्थावपत क्षमता 6780 मेगािाट है, जो कक भारत में कु ल स्थावपत ईजाा क्षमता का 2.1% है।
 आस ररएक्टर बेडे में तीन प्रकार के ररएक्टर शावमल हैं
 PHWR
 BWR (बॉइथलग िाटर ररएक्टर)

26 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 VVER (प्रेसराआज्ड िाटर ररएक्टर)
 अज भारत का फ्रांस, रूस, UK,ऄमेररका और जापान सवहत कइ देशों के साथ ऄसैवनक परमाणु सहयोग समझौता है।
विवभन्न प्रकार के ररएक्टरों की तुलना
विवभन्न प्रकार के ररएक्टरों की तुलना वनम्नवलवखत तावलका में की गइ है:

BWR PWR PHWR FBR

ईद्देश्य आलेवक्रवसटी आलेवक्रवसटी, आलेवक्रवसटी, आलेवक्रवसटी, प्लुटोवनयम का ईस्यपादन


न्द्यूवक्लयर पािडा वशप प्लुटोवनयम का
ईस्यपादन

कु लेंट जल जल भारी जल (D2O) वपघला, री ि सोवडयम

मोडरे टर जल जल भारी जल (D2O) अिश्यकता नहीं

फ्यूल युरेवनयम डाआ युरेवनयम डाआ UO2 या मेटल प्लुटोवनयम डाआ अक्साआड ओर UO2
अक्साआड अक्साआड (UO2) ऄलग कम्बीनेशन के साथ

आनरीचमेंट लो-आनररछड लो-आनररछड नॉट-आनररछड P-239और U-235 के विवभन्न प्रकार


लेिल

भारत ने क्यों PHWR को चुना?


 ईंधन की ईपलब्धता - भारत को IAEA के सुरक्षा ईपायों के ऄंतगात सबसे ज्यादा PHWR को ही रखने का ऄनुमवत प्राप्त है।
 महंगी संिधान सुविधा स्थावपत करने की कोइ अिश्यकता नहीं है क्योंकक यह ईंधन के रूप में प्राकृ वतक यूरेवनयम का ईपयोग करता
है।
 स्िदेशी तकनीक, विशेषज्ञता और संसाधनों की ईपलब्धता।
 लाआट िॉटर ररएक्टर की तुलना में ऄवधक उजाा कु शलता।
3.11. फे ज्ड मैन्द्यफ
ु ै क्चररग प्रोग्राम
(Phased manufacturing programme: PMP)
सुर्खियों में क्यों?
सरकार ने हाल ही में सेलुलर मोबाआल हैंडसेट के घरे लू विवनमााण को बढ़ािा देने के वलए चरणबद् विवनमााण कायाक्रम (फे ज्ड
मैन्द्यफ
ु ै क्चररग प्रोग्राम: PMP) को ऄवधसूवचत ककया है।
प्रािधान:
 यह आलेक्रॉवनक्स और सूचना प्रौद्योवगकी मंत्रालय (MeiTY) के तहत एक काया योजना है।
 आस योजना का ईद्देश्य प्रशुल्क अरोवपत करना (विभेदक शुल्क व्यिस्था) है और सेलल ु र हैंडसेट के विवनमााण में शावमल चुने हुए
ईस्यपादों को कर राहत और प्रोस्यसाहन प्रदान करना है।
 आसे एक चरणबद् विवनमााण कायाक्रम कहा जा रहा है क्योंकक आसके तहत विवभन्न वित्तीय िषों में सेलुलर हैंडसेट के विवभन्न घटकों के
घरे लू विवनमााण के प्रोस्यसाहन हेतु वित्तीय लाभ प्रदान ककया जाएगा।
3.12. थथक 20 टास्क फोसा
(Think 20 Task Force)
सुर्खियों में क्यों?
जमानी ने हाल ही में पहली बार G-20 "वडवजटल मंवत्रयों" की बैठक बुलाइ थी, वजसके पररणामस्िरूप T20 टास्क फोसा (थथक 20 टास्क
फोसा) की स्थापना की गइ।

27 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


T20 टास्क फोसा के बारे में:
 आसमें थथक टैंक और ऄकादवमक (जैस-े ऑब्जिार ररसचा फाईं डेशन ऑफ आं वडया) सवम्मवलत हैं, जो वडवजटल ऄथाव्यिस्था को मजबूत
करने और पारं पररक क्षेत्रों के "वडवजटलकरण" को प्रबंवधत करने के वलए वसफाररशें प्रस्तुत करें गे।
 यह व्यिसायों, सरकारों और ईपयोगकतााओं को आं टरनेट के माध्यम से लेनदेन करने हेतु अर्खथक संचालन (operation) के वनयमों
को स्पष्ट करने में मदद करे गा।
 यह ऄन्द्य क्षेत्रों पर भी ध्यान कें करी त करे गा-
 िहनीय और समािेशी साआबर सुरक्षा।
 स्िचालन (automation) और आसके प्रभाि जैसके क रोजगार की हावन को संतवु लत करना।

28 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


4. सु र क्षा
(SECURITY)
4.1. आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड
(Integrated Theatre Command)
सुर्खियों में क्यों:
 रक्षा मंत्रालय द्वारा वनयुक्त लेवफ्टनेंट जनरल डी बी शेकाटकर (सेिावनिृत्त) की ऄध्यक्षता िाली एक सवमवत ने ऄपनी ररपोटा रक्षा
मंत्रालय को सौंप दी है।
ऄनुशस
ं ाएाँ:
आस सवमवत ने 3 आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड का गठन करने की ऄनुशंसा की है :
 चीन सीमा के वलए नॉथा कमांड (ईत्तरी कमान),
 पाककस्तान सीमा के वलए िेस्टना कमांड (पवश्चमी कमान) और
 समुरी ी सीमाओं के वलए साईथ कमांड (दवक्षणी कमान)
नॉथा कमांड और िेस्टना कमांड के तहत भू-सीमाएं हैं, आसवलए आस क्षेत्र में सेना की विशेषज्ञता को देखते हुए आसका वनयंत्रण अमी जनरल
के पास होना चावहए। साईथ कमांड पर नेिी एडवमरल (नौ-सेनाध्यक्ष) का वनयंत्रण होना चावहए।
पृष्ठभूवम:
 ितामान में, हमारे पास सर्खिस-स्पेवसकफक कमांड्स (service-specific commands) हैं ऄथाात िायु सेना और नौसेना के पास पुरे
देश में ऄपने स्ियं के कमांड हैं।
 सर्खिस कमांड्स के बीच संबद्ता (Jointness) : यद्यवप तीनो सेिाओं और ईनके संबंवधत क्षेत्रों में ईनकी ऄपनी स्ितंत्र पहचान में
प्रगवत हो रही है, परन्द्तु युद् के समय िे एक साथ काया करती हैं तथा ऄपने ऑपरे शन में समन्द्िय स्थावपत करती हैं।
 युद् के दौरान: सेिा मुख्यालयों (Service Headquarters) के स्तर पर ऑपरे शन्द्स के समन्द्िय की ऄपेक्षा की जाती है। यह
समन्द्िय चीफ ऑफ़ स्टाफ कमेटी (COSC) द्वारा ककया जाता है। आस COSC के ऄध्यक्ष पद पर ऄभी तक ककसी को वनयुक्त नहीं
ककया गया है।

 भारतीय सशस्त्र बलों के पास ितामान में 17 कमांड हैंI


 सेना के प्रस्ययेक ऄंग के पास 7 कमांड है [ईत्तरी, पूिी, दवक्षणी, पवश्चमी, मध्य, दवक्षण-पवश्चमी और सेना प्रवशक्षण कमान (Army
Training Command: ARTRAC)] हैI
 िायु सेना के पास [पवश्चमी, पूिी, दवक्षणी, दवक्षण-पवश्चमी, मध्य, प्रवशक्षण और रखरखाि (Training and Maintenance)] हैI
 नौसेना के पास 3 कमांड हैं [पवश्चमी, पूिी और दवक्षणी]I
 प्रस्ययेक कमांड का नेतृस्यि 4-स्टार रैं क (4-star rank) के सेना ऄवधकारी करते हैं।
 आसके ऄवतररक्त, 2 राइ सर्खिस कमांड [सामररक बल कमान (स्रेटेवजक फोसेज कमांड :SFC)] तथा ऄंडमान एंड वनकोबार कमांड
(ANC)] हैं। आनकी ऄध्यक्षता तीनो सेिाओं के ऄवधकाररयों द्वारा रोटेशन (वनयवमत अितान) से की जाती हैं।
 ANC एक आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड है।
 दूसरी राइ सर्खिस कमांड्स, SFC देश की परमाणु पररसंपवत्तयों के वितरण और पररचालन संबंधी वनयंत्रण (operational
control) की देखरे ख करती है। चूंकक आसकी कोइ विवशष्ट भौगोवलक ईत्तरदावयस्यि और एक वनर्ददष्ट भूवमका नहीं है, आसीवलए यह
एक आन्द्टीग्रेटेड फं क्शनल कमांड है, वथएटर कमांड नहीं I

आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड क्या है ?


 आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड से अशय तीनों सेिाओं की एकीकृ त कमान से है। ज्योग्राकफकल वथएटसा (जो सुरक्षा संबंधी थचता का विषय
है) के वलए आं टीग्रेटेड वथयेटर कमांड की पररकल्पना की गइ है। यह एकीकृ त कमान एक ही कमांडर के वनयंत्रणाधीन होती है।

29 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 कम्पोवजट एंड कोहेवसि (composite and cohesive) : ऑपरे शनल प्लान्द्स (operational plans) के कक्रयान्द्ियन के वलए तीनों
सेिाओं को एक साथ विवभन्न स्तरों पर एक कमांडर के ऄधीन एकीकृ त ककया गया है।
 दुश्मन के वखलाफ प्रभािकाररता और दक्षता (Efficacy and Efficiency against the enemy) : आं टीग्रेटेड वथयेटर कमांडर
ककसी एक सेिा के प्रवत ईत्तरदायी नहीं होगा। कोहेवसि फाआरटग फ़ोसा के गठन हेतु कमांडर ऄपने बलों को प्रवशवक्षत एिं सुसवित
करने तथा ऄपने अदेश का पालन करिाने हेतु स्ितंत्र रूप से वनणाय ले पाएगा। ऑपरे शन के वलए अिश्यक रसद संसाधनों (logistic
resources) को वथएटर कमांडर के वनयंत्रण में ही रखा जाएगा ताकक ऑपरे शन के समय ईन्द्हें ककसी भी चीज की कमी का सामना
न करना पडे।
पक्ष में तका :
 दोहराि को रोकना(Avoids duplication), यह संसाधनों के दुरूपयोग को रोकता है। साथ ही ईपलब्ध संसाधनों का ऄवधकतम
ईपयोग सुवनवश्चत करता है।
 सभी सैन्द्य संसाधन एक कमांडर की वनगरानी में रखे जा सकते हैं। आसका पररणाम युद् क्षेत्र में बढ़ी हुइ दक्षता के रूप में कदखाइ
देगा। ईदाहरण के वलए, यू.एस. और चीन जैसे देशों में आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड हैं। दरऄसल, भारत के साथ चीन की सीमा एक ही
कमांड के ऄंतगात है।
 COSC युद् के दौरान, अम सहमवत के वसद्ांत पर काया करता है। आससे संयुक्त स्तर पर वनणाय लेने में विलंब हो सकता है तथा आस
प्रकार ऑपरे शन का कक्रयान्द्ियन करना करठन हो सकता है।
विपक्ष में तका :
 भारत भौगोवलक दृवष्ट से आतना बडा नहीं है कक आसे विवभन्न वथएटसा (युद्-क्षेत्रों) में विभावजत ककया जा सके I यहााँ एक वथएटर से
संसाधनों को असानी से दूसरे वथएटर में स्थानांतररत ककया जा सकता है।
 भारत के पास सैन्द्य ऄिसंरचना की कमी है; ईदाहरण के वलए, 45 फाआटर स्क्वाड्रॉन्द्स में से ितामान में के िल 34 ही मौजूद हैं। चूंकक
देश पहले से ही संसाधनों की कमी से जूझ रहा है ऄतः आसे और विभक्त करना ऄव्यिहाया होगा।
 US की िैवश्वक भूवमकायें हैं ऄतः ईसे ऄपने संसाधनों को एक वथयेटर से दूसरे पर ले जाना करठन है जबकक भारत की पररस्थवतयों में
दूरी और समय की कोइ समस्या नहीं है।
 ऄपेक्षाकृ त वनम्न सेिाओं में यह भय है कक आस तरह के पररितान से ईनके महस्यि और सेिा प्रमुख की शवक्त कम हो जाएगी।
अगे की राह:
 आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड के गठन हेतु शुरुअती कदम के रूप में चीफ ऑफ़ वडफें स स्टाफ या स्थायी ऄध्यक्ष, COSC की वनयुवक्त की
जानी चावहए।
 ऄन्द्य फं क्शनल कमांड जैसे साआबर कमांड, एयरोस्पेस कमांड और स्पेशल ऑपरे शंस कमांड की मांग हो रही है, लेककन सरकार ने
ऄभी तक ककसी को भी स्िीकृ वत नहीं प्रदान की है।
 आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड के गठन हेतु दृढ राजनीवतक आछिाशवक्त की अिश्यकता होगी। आसके वलए चरणबद् सुधार की अिश्यकता
है।
 तीनों सेिाओं में ऄवधक से ऄवधक सम्बद्ता (jointness) की अिश्यकता है। आस संबंध में जल्दबाज़ी में आं टीग्रेटेड वथएटर कमांड का
गठन करना ईपयुक्त नहीं होगा।
4.2. नक्सल थहसा हेतु 'समाधान' वसद्ांत
(‘Samadhan’ Doctrine for Naxal Violence)
सुर्खियों में क्यों:
 सुकमा हमले में 25 जिानों की मौत हो गइ। वपिले कइ िषों में यह CRPF पर सबसे बडा नक्सली हमला है।
‘समाधान’ क्या है:
 ऑपरे शन 'समाधान' नक्सली समस्या को हल करने हेतु गृह मंत्रालय (MHA) द्वारा ककया गया प्रयास है।

समाधान का पूरा नाम वनम्नवलवखत है।

 S-स्माटा लीडरवशप- राज्यों पर नक्सल विरोधी ऄवभयानों का "ईत्तरदावयस्यि" होगा और राज्य "गुररल्ला हमलों से वनपटने के वलए
एक एकीकृ त रणनीवत" तैयार करें गे।

30 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 A-एग्रेवसि स्रैटेजी- नक्सल बेल्ट में ऑपरे शन के वलए ऄवतररक्त हेलीकॉप्टर सहयोग तथा 400 फोटीफाइड पुवलस स्टेशन स्थावपत
ककए जाएंग।े
 M- मोरटिेशन एंड रेथनग- भारतीय सेना या ग्रेहाईं ड्स जैसे विशेष बलों द्वारा नक्सवलयों का सामना करने के वलए बलों को प्रवशवक्षत
ककया जायेगा।
 A-एक्शनेबल आं टेवलजेंस - ऄंतरााज्यीय सीमाओं के साथ ऑपरे शन के संचालन हेतु संयुक्त काया बल की स्थापना। बेहतर ऄंतर-राज्य
समन्द्िय और असूचना साझाकरण।
 D-डैशबोडा अधाररत KPI (की परफोमेंस आंवडके टर) और KRAs (की ररजल्ट एररया)
 H-हारनेथसग टेक्नोलॉजी - माओआस्ट हॉटबेड एररयाज के वलए UAVs और ड्रोन; GPS रैककग, HHTI (हेंड हेल्ड थमाल आमेज)
ईपकरण, रडार, सैटेलाआट आमेजरी, हवथयारों में रैकर।
 A- प्रस्ययेक वथयेटर के वलए एक्शन प्लान।
 N-नो एक्सेस टू फाआनेंथसग: LWE समूह को प्राप्त होने िाले वित्त प्रिाह को प्रभािी ढंग से रोकने हेतु वप्रिेंशन ऑफ़ मनी लोंथड्रग
एक्ट (PMLA) की समीक्षा की जाएगी।
अगे की राह:
 कें री ीय गृह मंत्री ने "ईद्देश्य की एकता"(Unity of purpose”), "नीवत में अक्रामकता" और 'िाम चरमपंवथयों को प्राप्त होने िाले धन
के स्त्रोत को समाप्त कर देना' जैसे वबन्द्दओं
ु को नक्सल खतरे से वनपटने के वलए बुवनयादी सूत्र के रूप में माना है।
 िामपंथी ईग्रिाद (LWE) का पुनरारं भ (Resumption)- SRE, SIS, IAP/ACA, CIAT स्कू ल जैसी विवशष्ट योजनाएं लंबी
ऄिवध में एक स्थायी समाधान है। फास्ट रैककग वबथल्डग आं फ्रास्रक्चर, विद्युत वितरण, 3-G कनेवक्टविटी के साथ मोबाआल टॉिर
और रोड-रे ल कनेवक्टविटी की अिश्यकता है ताकक कानून और व्यिस्था बनाए रखे और विकास की प्रकक्रया अगे बढ़ सके ।
4.3. ब्रह्मोस का ऄंडमान द्वीपों से परीक्षण ककया गया
(Brahmos Tested from Andaman Islands)
सुर्खियों में क्यों:
ब्रह्मोस ब्लॉक III संस्करण की लैंड टू लैंड वमसाआल की फु ल रें ज टेथस्टग ऄंडमान और वनकोबार द्वीप समूह में की गइ। यह परीक्षण
मोबाआल ऑटोनॉमस लांचर (MAL) के माध्यम से ककया गया।
ब्रह्मोस का महस्यि:
 ब्रह्मोस एक सुपरसोवनक क्रूज वमसाआल (2.8 से 3.0 मैक गवत) है। यह विश्व की तीव्रतम एंटी-वशप क्रूज वमसाआल है।
 परीक्षण में आस वमसाआल ने धरातल पर वस्थत लक्ष्य को "टॉप एटेक कॉवन्द्फ़गरे शन" के साथ काफी सूक्ष्मता से सफलतापूिक
ा टारगेट
ककया तथा कॉपीबुक मेनर से सभी ईडान पैरामीटसा को पूरा ककया।
 वमसाआल की मारक क्षमता 290 ककमी से बढ़ाकर 450 ककमी कर दी गइ है।
 यह एक मल्टी-प्लेटफॉमा, मल्टी वमशन वमसाआल है। आस वमसाआल को सतह, िायु, समुरी , ईप-समुरी (sub-sea) से लॉन्द्च ककया जा
सकता है तथा यह सतह तथा सी-बेड पर वस्थत टारगेट को समाप्त करने में सक्षम है।

ब्रह्मोस को संयुक्त रूप से DRDO (भारत) और NPOM (रूस) द्वारा विकवसत ककया गया था। भारत द्वारा 2016 में वमसाआल
टेक्नोलॉजी कं रोल ररजीम (MTCR) का सदस्य बनने के बाद, भारत और रूस ऄब 600 ककमी से ऄवधक मारक क्षमता िाली नइ पीढ़ी
की ब्रह्मोस वमसाआलों को विकवसत करने की योजना बना रहे हैं। आससे पहले की श्रेणी की मारक क्षमता 300 कक.मी. तक ही सीवमत
थी।

4.4. स्रेटेवजक पाटानरवशप मॉडल


(Strategic Partnership Model :SP Model)
सुर्खियों में क्यों:
रक्षा वनमााण के वलए मंवत्रमंडल ने स्रेटेवजक पाटानरवशप मॉडल को मंजूरी दी।
स्रेटेवजक पाटानरवशप मॉडल क्या है:
 यह आस विचार पर अधाररत है कक सभी खण्डों में वनजी क्षेत्र की रक्षा कं पवनयों को शावमल कर, ईन्द्हें दीघाकावलक ऄनुबंधों के
माध्यम से सामररक भागीदार बनाना।

31 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 यह कं पनी प्रोक्योरमेंट प्रोसेस द्वारा चयवनत फोरे न ओररवजनल आकक्वपमेंट मैन्द्यफ
ु ै क्चरर (foreign OEMs) के साथ एक संयक्त

ईद्यम अरम्भ करे गी। आस रूप में यह प्रकक्रया महस्यिपूणा प्रौद्योवगककयों के हस्तांतरण द्वारा भारत में विवशष्ट ईपकरणों के वनमााण के
वलए एक प्लेटफामा तैयार करे गी।
 चूंकक रक्षा क्षेत्र में दीघाकावलक वनिेश की अिश्यकता होती है, आसीवलए संयुक्त ईद्यम के माध्यम से ईस्यपादन को लाभप्रद बनाने हेतु
आन कं पवनयों के साथ दीघाकावलक ऄनुबंध ककये जायेंगे ।
महस्यि:
 रक्षा क्षेत्र से संबंवधत PSUs तथा वनजी ईद्योगों को सुदढ़ृ ककया जा सके गा। आसके ऄवतररक्त चार प्रमुख क्षेत्रों यथा लडाकू विमान,
हेलीकॉप्टर, पनडु वब्बयां तथा बख़्तरबंद िाहनों एिं मुख्य युद्क टैंक (armoured vehicles and main battle tanks) के वनमााण
में घरे लू विशेषज्ञता प्राप्त होगी।
 प्रवतस्पधाा बढ़ाने, क्षमता में िृवद् करने, प्रौद्योवगकी को शीघ्रतापूिाक ऄपनाने तथा ऄपेक्षाकृ त ऄवधक ऄथापण
ू ा समािेशन करने की
क्षमता प्रदान करना।
 आससे स्तररत (layered) औद्योवगक पररिेश का वनमााण करने, व्यापक कौशल अधार के विकास को सुवनवश्चत करने, निाचार को
बढ़ािा देने तथा िैवश्वक मूल्य श्रृख
ं ला(value chains) में भागीदारी के साथ-साथ वनयाात को बढ़ािा देने में सहायता प्राप्त होगी ।
 SP मॉडल की ऄनुपवस्थवत के कारण 50,000 करोड रुपये की रावश ऄभी भी फं सी हुइ है। विदेशी OEMs ने पहले ही यह स्पष्ट कर
कदया है कक आस मॉडल के वबना, िे भारतीय रक्षा कं पवनयों के साथ संयुक्त ईद्यम बनाने में ऄसमथा हैं। आसके कारण व्यापक स्तर पर
रक्षा पररयोजनाओं का ऄभाि बना हुअ है।
अलोचना:
 SP मॉडल नइ तकनीक के प्रयोग को ऄिरुद् कर सकता है। साथ ही रक्षा क्षेत्र में नइ कं पवनयों को प्रिेश करने से रोक सकता है।
आससे एकावधकार को बढ़ािा वमलेगा।
 SP के वलए के िल एक विशेष खंड का चयन करना वनजी क्षेत्र के वलए थचता का मुख्य विषय है।

32 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


5. पयाा ि रण
(ENVIRONMENT)
5.1. बस्टडा प्रजनन कें री
(Bustard Breeding Center)
सुर्खियों में क्यों?
राजस्थान सरकार ग्रेट आं वडयन बस्टडा के वलए एक कै वप्टि ब्रीथडग सेंटर की स्थापना करे गी।
पृष्ठभूवम
 यह राजस्थान का राजकीय पक्षी है। यह प्रजनन कें री देश का प्रथम ऐसा सुविधा कें री होगा वजसका ईद्देश्य आस पक्षी का संरक्षण करना
है।
 सम्पूणा विश्व में पाइ जाने िाली ग्रेट आं वडयन बस्टडा की कु ल अबादी का 95% राजस्थान में पाया जाता है।
ग्रेट आं वडयन बस्टडा के बारे में
 यह लंबे ऄनािृत पैरों एिं क्षैवतज शरीर िाला एक विशाल पक्षी है। बडे अकार के कारण यह शुतुरमुगा जैसा प्रतीत होता है।
 यह ईडने िाले सबसे ऄवधक िजनी पवक्षयों में से एक है।
 ये मध्य भारत, पवश्चमी भारत और पूिी पाककस्तान में पाए जाते हैंI
 अिास स्थल: शुष्प्क और ऄद्ा शुष्प्क घास के मैदानों, कांटेदार झावडयों िाले खुले क्षेत्रों, फसलों के साथ विस्तृत लम्बी घास िाले क्षेत्रों
में पाए जाते हैं। ये थसवचत क्षेत्रों से दूर ही रहते हैं।
 यह पक्षी िन्द्यजीि (संरक्षण) ऄवधवनयम,1972 की ऄनुसच
ू ी I तथा CMS या बॉन कन्द्िश
ें न में सूचीबद् हैI
 यह IUCN की रे ड वलस्ट में कक्ररटकली आन्द्डज
ें डा के रूप में तथा CITES के पररवशष्ट I में भी सूचीबद् है।
 यह पयाािरण और िन मंत्रालय के आं टीग्रेटेड डेिलपमेंट ऑफ़ िाआल्डलाआफ हैवबटैट्स के तहत ररकिरी प्रोग्राम हेतु चयवनत प्रजावतयों
में से एक के रूप में वचव्नत ककया गया है।
 आस प्रजावत के वलए सबसे बडा खतरा आनका वशकार (hunting) है। ऄन्द्य खतरों में संरवक्षत क्षेत्र के बाहर कभी-कभार होने िाला
आनका वशकार, अिारा कु त्ते, तीव्र िाहन और हाइ टेंशन आलेवक्रक िायसा से आनका टकराना आस्ययाकद शावमल है।

आं टीग्रेटेड डेिलपमेंट ऑफ़ िाआल्डलाआफ हैवबटैट्स


 यह एक के न्द्री प्रायोवजत योजना है। आस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा राज्य/ के न्द्री शावसत प्रदेशों की सरकारों को िन्द्य जीि
संरक्षण पर के वन्द्री त गवतविवधयों हेतु वित्तीय और तकनीकी सहायता प्रदान की जाती है। आस योजना के वनम्नवलवखत तीन घटक हैं:
 संरवक्षत क्षेत्रों को सहयोग प्रदान करना (राष्ट्रीय ईद्यानों, िन्द्यजीि ऄभयारण्य, कन्द्सिैशन ररज़िा और कम्युवनटी ररज़िा)।
 संरवक्षत क्षेत्र के बाहर िन्द्यजीि संरक्षण।
 कक्ररटकली आन्द्डज
ें डा स्पीशीज और अिास स्थलों के संरक्षण हेतु ररकिरी प्रोग्राम।

कन्द्िश
ें न ऑन द कन्द्सिैशन ऑफ़ माआग्रेटरी स्पीशीज ऑफ़ िाआल्ड एनीमल्स (CMS) या बॉन कन्द्िश
ें न
 यह संयुक्त राष्ट्र पयाािरण कायाक्रम (UNEP) के तस्यिािधान में एक पयाािरण संवध है I
 CMS प्रिासी जीिों और ईनके अिास स्थलों के संरक्षण और संधारणीय ईपयोग के वलए एक िैवश्वक मंच प्रदान करता है। िे प्रिासी
प्रजावतयां जो विलुप्त होने की कगार पर हैं आस कन्द्िेंशन के पररवशष्ट I के तहत सूचीबद् हैं I
 CMS ईन देशों को जहााँ से होकर प्रिासी जीि गुज़रते हैं एक मंच पर लाता है। आन देशों को रें ज स्टेट्स (Range States) कहा
जाता है। साथ ही सम्पूणा प्रिासन रें ज (migratory range) में ऄंतरााष्ट्रीय रूप से समवन्द्ित संरक्षण ईपायों को विवधक अधार प्रदान
करता है।
 यह प्रिासी प्रजावतयों, ईनके अिास-स्थलों तथा प्रिासन मागों (migration routes) के संरक्षण में एकमात्र विशेषज्ञता प्राप्त
ग्लोबल कन्द्िेंशन है। भारत आस कन्द्िेंशन का एक सदस्य है I

33 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


5.2. भारतीय जंगली कु त्ते (ढोल)
(Indian Wild Dogs [Dholes])
सुर्खियों में क्यों ?
आं कदरा गांधी जूलॉवजकल पाका (IGZP) में भारतीय जंगली कु त्तों (ढोल) के वलए एक कं सिेशन ब्रीथडग सेंटर का संचालन ककया जा रहा है।
वजसका ईद्देश्य जंगलों में आनके 16 समूह को पुनः बहाल करना है।
ढोलों के बारे में
 ढोल भारत के कइ क्षेत्रों जैसे पवश्चमी घाट, मध्य भारत के िन, पूिी घाट, पूिोत्तर राज्यों और ईत्तर भारत के तराइ क्षेत्र में पाए जाते
हैं।
 वहमालय क्षेत्र में, ये वसकक्कम और लद्दाख में पाए जाते हैंI
 ये िन्द्यजीि (संरक्षण) ऄवधवनयम, 1972 की ऄनुसच
ू ी II के तहत संरवक्षत हैंI
 ये IUCN में आन्द्डज
ें डा के रूप में सूचीबद् हैंI
आं कदरा गांधी जूलॉवजकल पाका
 यह विशाखापट्टनम में वस्थत है। यह पाका अंध्र प्रदेश के सबसे बडे जूलॉवजकल पाक्सा में से एक है।
 यह पाका तीन ओर से पूिी घाट तथा एक ओर बंगाल की खाडी से वघरा है।
5.3. ब्लैक नेक्ड क्रेन
(Black Necked Crane)
सुर्खियों में क्यों?
ब्लैक नेक्ड क्रेन प्रजावत संकटग्रस्त है, विशेष रूप से ऄरुणाचल प्रदेश में।
ब्लैक नेक्ड क्रेन के बारे में
 यह प्रिासी पक्षी मुख्य रूप से चीन में पाया जाता है।
 भूटान और भारत में यह विवधक रूप से संरवक्षत है। कु ि बौद् परम्पराओं में आन्द्हें पवित्र माना जाता है।
 आसकी IUCN स्टेट्स - िल्नरे बल।
 भारत के िन्द्यजीि ऄवधवनयम में ऄनुसच
ू ी I प्रजावत के रूप में सूचीबद्।
 यह स्थानीय स्तर पर धुंग धुंग कमाा के रूप में जाना जाता है।
 आसके ऄवतररक्त विश्व भर में पायी जाने िाली सारस की 15 प्रजावतयों में के िल यही एक प्रजावत है जो ईच्च तुंगता िाले क्षेत्रों में
पायी जाती है।
 ये पक्षी ऄपने घोंसले विस्तृत खुले िातािरण में बनाते हैं, आस कारण से परभवक्षयों से और भी ऄवधक ऄसुरवक्षत होते हैं।
5.4. आं वडयन स्टार टॉरटोआज
(Indian Star Tortoises)
सुर्खियों में क्यों?
वचन्नार िन्द्यजीि ऄभयारण्य (CWS) द्वारा आं वडयन स्टार टॉरटोआसेज का सफलतापूिक
ा पुनिाास ककया गया है। आस प्रकार CWS देश में
स्टार टॉरटोआसेज का एकमात्र पुनिाास कें री बन गया है।
आं वडयन स्टार टॉरटोआसेज के बारे में
 यह प्रजावत प्राकृ वतक रूप से झाडी िाले िनों, घास के मैदानों तथा ऄद्ा शुष्प्क और शुष्प्क क्षेत्रों के कु ि तटीय झाड-झंखाड िाले क्षेत्रों
में वनिास करती हैI
 ये ईत्तर-पवश्चमी भारत (गुजरात, राजस्थान) और दवक्षण-पूिी पाककस्तान से सटे क्षेत्रों; तवमलनाडु , अंध्र प्रदेश और पूिी कनााटक से
ओवडशा तक दवक्षणी एिं पूिी क्षेत्रों; तथा सम्पूणा श्रीलंका में पाए जाते हैंI
 आस प्रजावत के ऄवस्तस्यि पर असन्न खतरों में आनका ऄिैध संग्रह एिं अिास विखंडन शावमल हैं।
 यह CITES के एपेंवडक्स II (पररवशष्ट II)में शावमल हैI
 IUCN में वस्थवत: िल्नरे बलI
 िन्द्यजीि (संरक्षण) ऄवधवनयम, 1972 की ऄनुसच
ू ी IV के तहत सूचीबद् हैI

34 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


वचन्नार िन्द्यजीि ऄभयारण्य के बारे में
 वचन्नार िन्द्यजीि ऄभयारण्य के रल के आडु क्की में पवश्चमी घाट की पूिी ढलान पर वस्थत है। यह िृवष्ट िाया क्षेत्र में वस्थत एक विवशष्ट
संरवक्षत क्षेत्र है।
 यह क्षेत्र पाररवस्थवतक तंत्रों के विषय में विविधता से पररपूणा है। साथ ही प्रजातीय सांस्कृ वतक विरासत में समृद् है।
 यह औषधीय गुणों िाले पौधों का प्रवसद् संग्रह क्षेत्र (repository) है।
 यह सफ़े द विशाल वगलहरी, स्टार टॉरटोआस, टफ्टेड ग्रे लंगूर, गौर, स्पॉटेड वडयर, स्लेंडर लोररस, जंगली हाथी, मगरमछि, बाघ,
तेंदअ
ु और ऄनेक पक्षी, कीटों और पौधों का अश्रयस्थल है।
5.5. ऄमूर फाल्कन
(Amur Falcon)
सुर्खियों में क्यों?
ऄमूर फाल्कन को हाल ही में नागपुर के वनकट वस्थत ईमरे ड करहांडला िन्द्यजीि ऄभयारण्य में देखा गया।
ऄमूर फाल्कन बारे में
 ऄमूर फाल्कन एक प्रिासी पक्षी है जो प्रवत िषा मंगोवलया से दवक्षण ऄफ्रीका तक ऄपनी ईडान के दौरान दोयांग झील (नागालैंड) में
ठहरते हैंI
 नागालैंड का पंगती गांि विश्व की ऄमूर फाल्कन राजधानी के रूप में जाना जाता है I
 कें री द्वारा शीघ्र ही विश्व भर के पक्षी प्रेवमयों (बडा िाचसा) हेतु दोयांग झील क्षेत्र का एक इको टू ररज्म स्पॉट के रूप में विकास ककया
जाएगा।
 ऄभी कु ि समय पहले तक, नागा अकदिावसयों द्वारा मांस के वलए ऄमूर फाल्कन्द्स का वशकार ककया जाता थाI
ईमरे ड करहांडला िन्द्यजीि ऄभयारण्य के बारे में
 यह महाराष्ट्र में नागपुर से 60 ककमी की दूरी पर वस्थत है।
 ईमरे ड करहांडला िन्द्यजीि ऄभयारण्य को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्रावधकरण द्वारा बोर टाआगर ररजिा के सेटेलाआट कोर के रूप में
घोवषत ककया गया हैI
 यह महाराष्ट्र का पहला ऄभयारण्य है वजसे ‘सेटेलाआट कोर’ के रूप में घोवषत ककया गया हैI सेटेलाआट कोर का तास्यपया ककसी ऄन्द्य
संरवक्षत क्षेत्र को सहायता प्रदान करने िाले ईप-संरवक्षत क्षेत्र से है।
5.6. शहरी बाढ़
(Urban Flooding)
सुर्खियों में क्यों?
कें री ीय शहरी विकास मंत्रालय ने 'ऄबान फ्लथडग- स्टैण्डडा ऑपरे रटग प्रोसीजर' नामक एक पेपर जारी ककया है। आस पेपर में कदए गये कदशा-
वनदेशों का विवभन्न सािाजवनक एजेंवसयों और सरकारी विभागों द्वारा ऄनुपालन ककया जाएगा।
शहरी बाढ़ से अशय शहरी क्षेत्रों में अने िाली बाढ़ से है। शहरी बाढ़ अने के कारण वनम्नवलवखत हैं:
 भारी िषाा;
 झील जैसे जलाशयों का ऄभाि;
 जल वनकासी प्रणाली का ऄिसादन (silting);
 जनसंख्या दबाि, शहरीकरण तथा वनिानीकरण;
 बाढ़ वनयंत्रण ईपायों का ऄभाि, अकद।

मानक संचालन प्रकक्रया (स्टैण्डडा ऑपरे रटग प्रोसीजर: SOP)


 शहरी आलाकों में बाढ़ की घटनाओं में िृवद् जैसे ईत्तराखंड फ्लैश फ्लड, चेन्नइ बाढ़ अकद ने ऐसे हालातों से वनपटने के वलए एक
मानकीकृ त योजना की अिश्यकता पर विचार करने हेतु वििश ककया है।
 आस प्रकार मंत्रालय द्वारा जारी ककये गये कदशा-वनदेशो में विवभन्न विभागों के वलए वनम्नवलवखत वनदेश शावमल हैं:
ULBs और विकास प्रावधकरण
 वनगम कक्ष और नगरपावलका िाडों में आमरजेंसी ऑपरे शन सेंटसा (EOCs) और क्राआवसस-कं रोल रूम की स्थापना करना।
 भोजन और जल की अपूर्खत के साथ ऄस्थायी अश्रयों को सुवनयोवजत करना।

35 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


 ईद्योगों (रासायवनक दुघाटना), फायर वब्रगेड, पुवलस और स्िास््य विभाग जैसे विभागों के साथ राहत योजना का समन्द्िय करना।
 मीवडया और जनता के साथ सूचनाएं साझा करने के वलए सूचना कें री स्थावपत करना।
 शहरी विकास प्रावधकरण, वडजास्टर वमटीगेशन प्लान तथा शहर की जल वनकासी और स्िछिता योजना के एकीकरण सवहत वसटी
मास्टर प्लान तैयार करने होंगे।
स्िास््य विभाग
 महामारी वनयंत्रण आकाइ (ECU) की स्थापना करना। ऄस्पतालों से प्राप्त अंकडों का विश्लेषण करना।
 वचककस्यसा, ईपकरण और रक्त के आमरजेंसी स्टॉक को बनाए रखना।
 आसे अपदा/पुनिाास स्थलों पर स्िास््य सुविधा और ईपचार कें री स्थावपत करने होंगे।
 आसे संकट/महामारी प्रबंधन की ररपोटा तैयार करनी होगी और आसकी समीक्षा करनी होगी तथा EOC के समक्ष एक ऄंवतम ररपोटा
प्रस्तुत करनी होगी।
PWD और थसचाइ विभाग
 PWD को समय-समय पर नावलयों की मरम्मत करनी होगी तथा ड्रेनज
े मास्टर प्लान को ऄपडेट करना होगा।
 पदानुक्रम के ऄनुसार सभी सडकों और पुलों की एक सूची तैयार करना तथा सुरवक्षत मागों एिं वनकास थबदुओं की पहचान कर एक
अपदा ऄनुकक्रया मानवचत्र (Disaster Response Map) तैयार करना।
 आमारतों एिं संबंवधत बुवनयादी ढांचे की मरम्मत करना।
वबजली अपूर्खत और दूरसंचार
 वबजली अपूर्खत विभाग को ईच्च जोवखम िाले विद्युत ऄवधष्ठानों के अस-पास संिेदनशील स्थानों की पहचान करनी होगी और
रांसफामासा एिं सबस्टेशन्द्स के स्तर को बाढ़ के स्तर से उपर करना।
 ऄस्थायी राहत अश्रयों के वलए अपातकालीन विद्युत अपूर्खत लाआनों को मेन्द्टेन करना।
 दूरसंचार विभाग को ऄसुरवक्षत बाढ़ स्थलों में पोटेबल कम्युवनके बल वसस्टम (portable communicable system) की व्यिस्था
करनी चावहए।
पुवलस और ऄवग्नशमन विभाग
 पुवलस द्वारा भीड प्रबंधन को सुवनवश्चत ककया जाना चावहए तथा आसके पास वनकासी एिं ऄन्द्य बचाि कायो पर विस्तृत ररपोटा होनी
अिश्यक है।
 ऄवग्नशमन विभाग को बाढ़ िाले आलाकों में राहत हेतु अपात ऄवग्नशमन सुविधाओं और नौकाओं को तैयार करना होगा।
5.7. दवक्षण भारत में सूखा
(Drought in South India)
सुर्खियों में क्यों?
विशेषज्ञों के ऄनुसार के रल और तवमलनाडु ऄभूतपूिा ऄथाात् आस शताब्दी के सिाावधक भीषण सूखे का सामना कर रहे है; िहीं कनााटक के
ईत्तरी वजलों में वनरं तर तीसरे िषा जल का ऄभाि है।
सूखे का कारण के िल िषाा की कमी ही नहीं है बवल्क जल संसाधनों का ऄप्रभािी प्रबंधन भी है।
ईदाहरण- कम िषाा िाले क्षेत्रों में बाजरा जैसी कम जल गहन फसलों की कृ वष के कारण सूखे जैसी वस्थवत नहीं है।

सूखे के कारण
 िषाा अधाररत कृ वष (Rainfed Agriculture)- पूिोत्तर मानसून की ऄसफलता और थसचाइ सुविधाओं का ऄभाि सूखे का मुख्य
कारण है।
 शहरीकरण ने झीलों और ऄन्द्य क्षेत्रों को कं क्रीट सतहों में पररिर्खतत कर कदया है वजससे जल संरक्षण नहीं हो पाता है।
 ऄंतरााज्यीय नदी जल वििाद: दवक्षणी राज्य नदी जल को साझा करने की समस्या पर चचाा हेतु एक साथ बैठक करने और ईसके
समाधान के वलए तैयार नहीं हैं।
 जल के सांस्कृ वतक संपका का लुप्त होना: ऐवतहावसक रूप से बडी संख्या में तालाब एक-दूसरे से जुडे हुए होते थे वजससे एक तालाब
का ऄवतररक्त जल बहकर दूसरे तालाब में अ जाता था। आसके ऄवतररक्त जल संरक्षण हेतु मनाये जाने िाले स्ययोहारों का लुप्त हो जाना
अकद।
 दोषपूणा फसल प्रवतरूप: सरकार द्वारा प्रदत्त ईच्च न्द्यूनतम समथान मूल्य (MSP) के कारण ककसानों द्वारा धान, गन्ना जैसी जल गहन
फसलों को प्राथवमकता दी जाती है।

36 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


ड्राट क्राआवसस मैनज
े मेंट प्लान, 2015
आस वनयमािली में चार महस्यिपूणा ईपायों का वनधाारण ककया गया है। आन ईपायों को राज्य सरकार को कें री सरकार की सहायता से सूखे
के समय लागू करना चावहए।
 मनरे गा के तहत सूखा प्रभावित लोगों को तस्यकाल रोजगार मुहय
ै ा कराना।
 भोजन और चारा प्रदान करने के वलए सािाजवनक वितरण तंत्र को मजबूत ककया जाना चावहए।
 चेक डैम के वनमााण और पाआप लाआन जल एिं ऄन्द्य थसचाइ सुविधायें प्रदान कर भूजल स्तर को ररचाजा करने के वलए काया अरं भ
करना।
 सरकार को या तो ककसानों के ऊण माफ़ कर देने चावहए या स्थवगत कर देने चावहए और फसल नुकसान मुअिजे की व्यिस्था करनी
चावहए।

क्या ककया जा सकता है?


 स्थानीय स्तर पर बडी संख्या में िोटे जलाशयों को विकवसत करने पर फोकस ककया जाना चावहए जो थसचाइ नहरों से जुडे हो भी
सकते है और नहीं भी। ईदाहरण- गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र में बडी संख्या में चेक डैम्स का वनमााण ककया गया है।
 एग्रोक्लाआमेरटक क्रॉथपग पैटना (Agroclimatic cropping pattern) का ऄनुसरण ककया जाना चावहए।
 थसचाइ, विशेष रूप से वड्रप थसचाइ जैसी सूक्ष्म थसचाइ पद्वतयों में वनिेश में िृवद् की जानी चावहए। प्रधानमंत्री कृ वष थसचाइ
योजना आसमें सहायक होगी।
5.8. बॉन क्लाआमेट मीट
(Bonn Climate Meet)
सुर्खियों में क्यों?
 पेररस समझौते के कक्रयान्द्ियन को अगे बढ़ाने हेतु बॉन, जमानी में UNFCCC द्वारा अयोवजत बॉन क्लाआमेट चेंज कांफ्रेंस का अरम्भ
हुअ।
 बॉन में सभी पक्ष (पाटीज) आस बात पर सहमत हुए हैं कक पेररस समझौते के प्रािधानों को लागू करने के वलए वनयम पुवस्तका (रुल
बुक) तैयार करने पर ऄपना काया जारी रखेंगे। आसकी समय-सीमा सिासम्मवत से 2018 वनधााररत की गइ है।
UNFCCC के बारे में
 1992 में कइ देशों ने यूनाआटेड नेशन्द्स फ्रेमिका कन्द्िेंशन ऑन क्लाआमेट चेंज (UNFCCC) में भाग वलया। UNFCCC ऄंतरााष्ट्रीय
सहयोग हेतु एक फ्रेमिका है। आसका ईद्देश्य औसत िैवश्वक तापमान में िृवद् को कम कर जलिायु पररितान का सामना करना है।
पेररस समझौता
 कदसंबर 2015 में, पेररस जलिायु सम्मेलन (COP21) में 195 देशों ने पहली बार सािाभौवमक एिं कानूनी रूप से बाध्यकारी
िैवश्वक जलिायु समझौते पर हस्ताक्षर ककए।
 आस समझौते के तहत एक िैवश्वक काया योजना वनधााररत की गइ है वजसका ईद्देश्य ऄसुरवक्षत जलिायु पररितान से विश्व को सुरवक्षत
करने के वलए ग्लोबल िार्नमग को 2 वडग्री सेवल्सयस से नीचे के स्तर पर बनाये रखना है।

37 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


6. विज्ञान और प्रौद्योवगकी
(SCIENCE AND TECHNOLOGY)
6.1. कु पोषण से वनपटने हेतु फोटीफाआड खाद्य पदाथा:
(Fortified Foods to Tackle Malnutrition)
सुर्खियों में क्यों?
 बच्चों को पोषक पदाथों की ईपलब्धता को लवक्षत करते हुए, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हररयाणा और वहमाचल प्रदेश सरकार ने ऄपनी
मध्यान्द्ह भोजन योजनाओं के वलए फोटीफाआड तेल का प्रयोग प्रारं भ ककया है।
 पवश्चम बंगाल तथा ऄंडमान और वनकोबार द्वीप समूह ऄब सािाजवनक वितरण प्रणाली के माध्यम से फोटीफाआड गेहूं के अटे का
वितरण कर रहे हैं।

फोटीकफके शन का ईद्देश्य:
भोज्य पदाथों के फोटीकफके शन का लक्ष्य कु पोषण से लडना है।
फोटीकफके शन का तास्यपया:
 फोटीकफके शन के तहत महस्यिपूणा विटावमन और खवनज तस्यिों जैसे अयरन, अयोडीन, थजक, विटावमन A और D को भोज्य पदाथों
जैसे चािल, दूध एिं नमक में वमलाया जाता है ताकक आनके पोषक तस्यिों में िृवद् हो सके ।
 प्रोसेथसग से पहले पोषक तस्यि नहीं भी हो सकते हैं।
 यह एक सामान्द्य, प्रमावणक, ककफायती और संपरू क रणनीवत है वजसे पूरे विश्व में प्रयोग ककया जा रहा है।
 फ़ू ड सेफ्टी एंड स्टैंडड्सा रे गल
ु ेशन्द्स, 2016 के ड्राफ्ट में चािल, दूध, नमक और तेल के फोटीकफके शन हेतु मानक वनधााररत ककए गए
हैं।

FSSAI द्वारा ईठाए गए कदम:


 भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्रावधकरण (FSSAI) ने वपिले िषा मानकों का एक सेट और एक लोगो (logo) जारी ककया है।
 तब से, आसका फोकस जागरूकता और अम सहमवत-वनमााण पर है।
 FSSAI िोटे स्थानीय अपूर्खतकतााओं, जैसे स्थानीय अटा पीसने िाली वमलों, को प्रीवमक्सड माआक्रोन्द्यूरेंट्स वमलाने के वलए
प्रोस्यसावहत करने हेतु ईनके साथ वमलकर भी काम कर रहा है।
6.2. मोबाआल टॉिर रे वडएशन की जानकारी के वलए तरं ग संचार पोटाल
(Tarang Sanchar Portal for Info on Mobile Tower Radiation)
सुर्खियों में क्यों?
 दूरसंचार विभाग ने तरं ग संचार पोटाल नाम का एक पोटाल लॉन्द्च ककया है, वजससे लोग स्थानीय आलाकों में मोबाआल टॉिर से
ईस्यसर्खजत विककरण को रैक कर पाएंगे।
 पोटाल ईपभोक्ताओं को ककसी विशेष क्षेत्र में कायाशील टॉिर के सम्बन्द्ध में जानकरी प्रदान करे गा और यह भी सुवनवश्चत हो पाएगा
कक टॉिर सरकार द्वारा पररभावषत आलेक्रोमैग्नेरटक फील्ड (EMF) ईस्यसजान मानदंडों के ऄनुरूप काया रहे हैं या नहीं।

38 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


पृष्ठभूवम:
 संयोग से आस पोटाल का लॉन्द्च ठीक ईसी समय हुअ है जब हाल ही में सिोच्च न्द्यायालय ने 42 िषीय एक कैं सर रोगी की यावचका
पर ग्िावलयर में एक मोबाआल टॉिर को वनवष्प्क्रय करने का अदेश कदया है। अदेश ने मोबाआल फोन टॉिर से वनकलने िाले विककरण
के स्िास््य पर पडने िाले प्रभािों पर बहस को तेज कर कदया है।
 सरकार ने कहा है कक भारत में मोबाआल टॉिर ईस्यसजान के वनयम िैवश्वक मानदंडों की तुलना में दस गुना ऄवधक कठोर हैं।
6.3. कैं सर के आलाज हेतु नया मॉवलक्यूल - वडसऐररब
(Novel molecule to treat cancer - Disarib)
सुर्खखयों में क्यों?
 भारतीय शोधकतााओं द्वारा वडजाआन और संश्लेवषत एक निीन िोटे मॉवलक्यूल (ऄणु) ने कैं सरयुक्त कोवशकाओं को लवक्षत रूप से नष्ट
करने में अशाजनक पररणाम प्रदर्खशत ककया है।
मॉवलक्यूल - वडसऐररब (Disarib)
 यह मॉवलक्यूल (disarib) स्ियं को BCL2 नामक एक प्रोटीन के साथ संयोवजत करके काया करता है। BCL2 सामान्द्य कोवशकाओं
को प्रभावित ककए वबना कैं सरयुक्त कोवशकाओं की मृस्ययु को रोकता है।
 BCL2 प्रोटीन का कैं सरयुक्त कोवशकाओं में ऄस्ययवधक ईस्यपादन होता है, सामान्द्य कोवशकाओं में आसकी ईपवस्थवत का पता नहीं
लगाया जा सकता है। आसवलए, वडसऐररब के िल कैं सर कोवशकाओं को ही नष्ट करता है।
 FDA द्वारा ऄनुमोकदत BCL2 आवन्द्हवबटर (inhibitor) ABT199 के विपरीत, वडसऐररब ने कैं सर कोवशकाओं को नष्ट करने में बेहतर
दक्षता प्रदर्खशत की है। आसके ऄलािा, ABT199 आवन्द्हवबटर की तुलना में, आस िोटे मॉवलक्यूल का कोइ भी साआड आफे क्ट नहीं है।
मुद्दा:
 BCL2 का एक्सप्रेशन कु ि कैं सर सेल लाआन्द्स (cancer cell lines) में कम होता है, जैसे कक स्तन कैं सर, क्रोवनक मायलोजीनस
ल्यूकीवमया और सर्खिकल कैं सर। ऄतः आन कैं सर में वडसऐररब ऄणु ऄप्रभािी होगा।
6.4. ड्रग रे वजस्टेंस को ररिसा करना संभि
(Reversing Drug Resistance Made Possible)
सुर्खियों में क्यों?
 भारतीय शोधकतााओं ने इ.कोलाइ (Escherichia coli) में एंटीबायोरटक प्रवतरोध को ररिसा करने में सफलता प्राप्त की है।
 शोधकतााओं ने ईस मेकेवनज्म को स्पष्ट ककया है वजसके द्वारा बैक्टीररया द्वारा ईस्यसर्खजत हाआड्रोजन सल्फाआड (H2S) गैस ईन्द्हें
एंटीबायोरटक से बचाती है तथा ईनमें दिा प्रवतरोधक क्षमता (ड्रग रे वजस्टेंस) विकवसत करने में महस्यिपूणा भूवमका वनभाती है।
एंटीबायोरटक्स रे वजस्टेंस की कक्रयाविवध:
 एंटीबायोरटक्स, जीिाणु कोवशकाओं के भीतर ररएवक्टि ऑक्सीजन स्पीशीज (ऑक्सीडेरटि स्रेस) के स्तर को बढ़ाकर जीिाणुओं को
नष्ट करते हैं। आसीवलए ऐसा कोइ भी मेकेवनज्म (यहां H2S गैस) जो एंटीबायोरटक दिाओं द्वारा ईस्यपन्न ररएवक्टि ऑक्सीजन
स्पीशीज को डीटोक्सीफ़ाय या काईं टर करता है से एंटीबायोरटक दिाओं की प्रभािकाररता कम होगी।
 ड्रग-रे वजस्टेंस स्रेंस स्िाभाविक रूप से दिा के प्रवत संिेदनशील इ.कोलाइ की तुलना में ऄवधक हाआड्रोजन सल्फाआड का ईस्यपादन कर
रहा था। बैक्टीररया में हाआड्रोजन सल्फाआड की बायोथसथेवसस को ररगर करने िाले एंजाआम को ऄिरुद् करके शोधकतााओं ने
इ.कोलाइ बैक्टीररया में एंटीबायोरटक रे वजस्टेंस को ररिसा करने में सफलता प्राप्त की है।
6.5. नासा के न्द्यू फ़्रंरटयर प्रोग्राम को 12 वमशन प्रस्ताि प्राप्त हुए
(NASA’s New Frontiers Programme Receives 12 Mission Proposals)
सुर्खियों में क्यों?
 नासा के न्द्यू फ्रंरटयसा प्रोग्राम को विवभन्न गंतव्यों के वमशन के वलए 12 प्रस्ताि प्राप्त हुए हैं। नासा ऄपने न्द्यू फ्रंरटयसा प्रोग्राम के तहत
सौर प्रणाली के ऄन्द्िेषण हेतु 1 वबवलयन डॉलर तक की लागत के रोबोरटक वमशन का अयोजन करता है।
न्द्यू फ्रंरटयसा प्रोग्राम:
 न्द्यू फ्रंरटयसा स्रेटेजी का लक्ष्य फ्रीक्वेंट, मध्यम-श्रेणी के स्पेसक्राफ्ट वमशनों द्वारा सौर प्रणाली का ऄन्द्िेषण करना है। ये वमशन सौर
प्रणाली के विषय में हमारी समझ को विस्ताररत करने के वलए ईच्च-गुणित्तायुक्त, िैज्ञावनक िानबीन पर के वन्द्री त हैं।
 यह न्द्यू फ्रंरटयसा पोटाफोवलयो का चौथा वमशन होगा। आसके पूिािती वमशन में प्लूटो के वलए न्द्यू होराआज़न वमशन, बृहस्पवत के वलए
जूनो वमशन, और OSIRIS-Rex हैं।

39 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


6.6. XFEL (विश्व का सबसे बडा एक्स-रे लेजर) ने प्रथम एक्स-रे लेजर लाआट ईस्यपन्न की
(XFEL (World's Biggest X-Ray Laser) Generates First X-Ray Laser Light)
सुर्खियों में क्यों?
 विश्व के सबसे बडे एक्स-रे लेजर, यूरोवपयन XFEL ने प्रकाश की पहली बीम ईस्यपन्न की है।
 एक्स-रे लेजर लाआट एक आलेवक्रक बीम से एक सुपरकं डथक्टग लीवनयर ऐक्सेलरे टर द्वारा ईस्यपन्न की गइ थी। 2.1 ककमी. लंबी
एक्सेलरे टर टनल में आलेक्रॉन पल्स को ऄस्ययवधक स्यिररत ककया गया, वजसके पररणामस्िरूप एक्स-रे लेजर लाआट ईस्यपन्न हुइ।
XFEL के सम्बन्द्ध में
 यूरोपीय XFEL विश्व के पांच एक्स-रे लेजरों में सबसे बडी और सबसे शवक्तशाली है, वजसमें हाडा एक्स-रे लाइट की िोटी पल्सेस को
ईस्यपन्न करने की क्षमता है।
 यह 3.4 ककलोमीटर लंबी है और आसमें से ऄवधकांश ऄंडरग्राईं ड टनल के रूप में जमानी में वस्थत है।
 एक्स-रे लाइट की तरं गदैध्या 0.8 नैनोमीटर है- जोकक दृश्य प्रकाश की तुलना में लगभग 500 गुना कम है।
संभावित लाभ:
 प्राप्त लेजर लाआट की तरं गदैध्या एक परमाणु के अकार के समान है, आसका ऄथा है कक एक्स-रे का ईपयोग एटॉवमक ररज़ॉल्यूशन (जैसे
कक बायोमॉवलक्यूल) पर नैनोकोस्मोस (nanocosmos) की तस्िीरें और कफल्म बनाने के वलए ककया जा सकता है, वजससे
बीमाररयों के कारण की बेहतर समझ विकवसत हो सकती है या ईपचारों के नए तरीकों को विकवसत ककया जा सकता है।
 यह सुविधा रासायवनक प्रकक्रयाओं और ईस्यप्रेरक तकनीकों में ऄनुसंधान को सक्षम करे गी। आसका लक्ष्य रासायवनक प्रकक्रयाओं और
ईस्यप्रेरक तकनीकों क्षमता में सुधार करना या ईन्द्हें और ऄवधक पयाािरण ऄनुकूल बनाना है। आससे मैटे ररयल ररसचा तथा ग्रहों के
अंतररक क्षेत्रों के समरूप वस्थवतयों के ऄनुसंधान में सहायता प्राप्त होगी।
6.7. उजाा के ईभरते स्रोत
(Emerging Sources of Energy)
सुर्खियों में क्यों?
 हाल के दशक में पिन और सौर उजाा के क्षेत्र में प्रगवत के साथ ऄन्द्य स्रोत जैसे हाआड्रोजन, ओवसएन कोल्ड फ्यूजन (ocean cold
fusion) अकद भविष्प्य के वलए अशाजनक पररणाम प्रदर्खशत कर रहे हैं।
पृष्ठभूवम:
 देश के विद्युत ईस्यपादन में पिन और सौर उजाा योगदान 7% है, जो कक काफी कम है, साथ ही यह वनरं तर भी नहीं है।
 दूसरी तरफ कोयला, जो ऄभी भी विद्युत ईस्यपादन का प्रमुख स्रोत है, प्रदूषण और ग्लोबल िार्नमग हेतु वजम्मेदार है, साथ ही आसमें
जल की बहुत ज्यादा अिश्यकता होती है।
फ्यूल सेल के रूप में हाआड्रोजन
 एक फ्यूल सेल में हाआड्रोजन और ऑक्सीजन की विद्युत रासायवनक ऄवभकक्रया के फलस्िरूप विद्युत्, जल और उष्प्मा ईस्यपन्न होती है।
आसमें बैटरी की प्रकक्रया का ऄनुकरण (mimic) ककया जाता है।
 शुद् गैस के रूप में हाआड्रोजन के असानी से ईपलब्ध नहीं होने के कारण यह उजाा का ऄपेक्षाकृ त महंगा स्रोत है।
महासागरीय उजाा
 आस 24x7 उजाा स्रोत के तीन ईपिगा हैं - तरं ग,ें ज्िार और जल के नीचे की धाराएं।
 ज्िारीय उजाा के दोहन के वलए, ईच्च और वनम्न ज्िार की उंचाइ के मध्य कम-से-कम 16 फीट का ऄंतर अिश्यक है। यह एक बडी
बाधा है।
 पिन और धाराओं से ईस्यपन्न लहरें काबान न्द्यूरल उजाा प्रणाली में काफी योगदान दे सकती हैं, लेककन ऄभी यह ऄपने विकास के
प्रारं वभक चरण में ही है।
कोल्ड फ्यूजन:
 हाआड्रोजन की वनके ल और पैलेवडयम जैसी विवभन्न धातुओं के साथ ऄंतःकक्रया के पररणामस्िरुप ईस्यपन्न होने िाली उजाा के रुप को
कोल्ड फ्यूज़न कहते हैं। आस कक्रया में ऄस्ययवधक उष्प्मा ईस्यपन्न होती है वजसका टरबाआन को घुमाने के आस्तेमाल ककया जाता है।
 कोल्ड फ्यूजन में ककसी रे वडयोधमी सामग्री का ईपयोग नहीं ककया जाता है और न ही आससे कोइ रे वडयोधमी कचरा ईस्यपन्न होता है।
 कोल्ड फ्यूज़न की प्रमुख चुनौती आस ऄवभकक्रया को वनयंवत्रत करना है।
 लेककन ये बहुत िोटी, ऄपेक्षाकृ त सरल, सस्ती और अस्यमवनभार (self-contained) उजाा का रूप है।

40 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


7. सामावजक
(SOCIAL)
7.1 वमशन आंरी धनुष
(Mission Inderdhanush)
सुर्खियों में क्यों?
 PMO (प्रधानमंत्री कायाालय) के द्वारा वमशन आंरी धनुष की समय सीमा 2018 से बढ़ाकर 2020 तक कर दी गयी है।
 PMO मल्टी-मॉडल प्लेटफामा, प्रगवत (प्रो-एवक्टि गिनेंस एंड टाआमली आम्प्लीमेंटेशन:PRAGATI) प्लेटफामा के माध्यम से आस
वमशन की समीक्षा करे गा।
प्रगवत (प्रो-एवक्टि गिनेंस एंड टाआमली आम्प्लीमेंटेशन) क्या है?
 यह एकीकृ त संिादमूलक (interactive) प्लेटफॉमा है। आसका ईद्देश्य अम जन की वशकायतों का समाधान करना तथा साथ-साथ
भारत सरकार के महस्यिपूणा कायाक्रम एिं पररयोजनाओं की वनगरानी और समीक्षा करना है।
 आसमें वडवजटल डेटा मैनज
े मेंट, िीवडयो-कॉन्द्फ्रेंथसग और भू-स्थावनक प्रौद्योवगकी का ईपयोग ककया जाता है।
 यह एक तीन स्तरीय प्रणाली है (PMO, भारत सरकार के सवचि और राज्यों के मुख्य सवचि)।
वमशन आंरी धनुष
 यह यूवनिसाल आम्यूनाआजेशन प्रोग्राम 1985 के तहत ककया जाने िाला एक रणनीवतक प्रयास है।
 आसका लक्ष्य दो िषा से कम ईम्र के ईन सभी बच्चों को किर करना है जो टीकाकरण से िंवचत रहए हैं या वजनका टीकाकरण अंवशक
रूप से ककया गया है। साथ ही कायाक्रम का लक्ष्य सभी गभािती मवहलाओं का टीकाकरण करना है।
 िैक्सीन वनरोध्य (preventable) सात रोगों से सुरक्षा करने हेतु टीकाकरण; ये रोग वडप्थीररया, परट्यूवसस, रटटनस, चाआल्डहुड
ट्यूबरकु लोवसस, पोवलयो, हेपेटाआरटस बी और खसरा (मीजल्स) हैं।
 आसके ऄवतररक्त, चयवनत राज्यों में जापानी आन्द्सफ
े े लाआरटस, हेमोकफलस आन्द्फ्लुएज
ं ा टाआप B, आनैवक्टिेटेड पोवलयो िैक्सीन,
रोटािायरस िैक्सीन और मीजल्स रूबेला िैक्सीन के वलए भी िैक्सीन ईपलब्ध कराए जा रहे हैं।
 WHO, यूवनसेफ, रोटरी आं टरनेशनल और ऄन्द्य दाता भागीदारों द्वारा आस वमशन को तकनीकी सहायता प्रदान की जाती है।
यूवनिसाल आम्यूनाआजेशन प्रोग्राम (UIP) 1985
 UIP के तहत 1 िषा तक के सभी बच्चों का वन:शुल्क टीकाकरण ककया जाता है
 जीिन को जोवखम में डालने िाले 12 रोगों के विरुद् आन बच्चों को सुरवक्षत करना; ये 12 रोग वनम्नवलवखत हैं: ट्यूबरकु लोवसस,
वडप्थीररया, परट्यूवसस (काली खााँसी), रटटनस, पोवलयोमेलाआरटस, खसरा, हैपेटाआरटस बी, डायररया, जापानी आन्द्सफ
े े लाआरटस,
रूबेला, रोटािायरस और वनमोवनया (मइ 2017 में जोडा गया)।
वनमोवनया िैक्सीन
 भारत में वनमोवनया के कारण कइ बच्चों की मृस्ययु हो जाती है, यह संख्या समग्र विश्व में वनमोवनया से होने िाली मृस्ययु का लगभग
20% है।
 न्द्यूमोकोकल कं जुगेट िैक्सीन (PCV) 13 प्रकार के न्द्यम
ु ोकोकल बैक्टीररया से सुरक्षा प्रदान करे गा।
7.2 कु ष्टरोग हेतु स्िदेशी िैक्सीन: माआकोबैक्टीररयम आं वडकस प्रानी
(Home Grown Vaccine for Leprosy: Mycobacterium Indicus Pranii)
सुर्खियों में क्यों?
 नेशनल आं स्टीट्यूट ऑफ आम्यूनोलॉजी ने कु ष्ठरोग हेतु एक स्िदेशी टीका माआकोबैक्टीररयम आंवडकस प्रानी (MIP) विकवसत ककया है।
कु ष्ठ रोग क्या है?
 यह रोग माआकोबैक्टीररयम लेप्री बैक्टीररया के कारण होता है।
 स्यिचा और पररधीय तंवत्रकाओं को प्रभावित करता है।
 अम तौर पर 5-7 िषा का लम्बा आन्द्क्यूबेशन पीररयड।
 तंवत्रका के क्षवतग्रस्त होने से पूिा समय पर वनदान और बीमारी का ईपचार, विकलांगता को रोकने का सबसे प्रभािी तरीका है।

41 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


मुख्यथबदु
 प्रवत 10,000 जनसंख्या पर 1 से कम कु ष्ट रोगी होने के कारण भारत को 2005 में कु ष्ठ मुक्त देश घोवषत ककया गया है।

 हालांकक, विश्व के कु ल कु ष्ठ रोवगयों के लगभग 60% रोगी भारत में रहते हैं। प्रवत 1,00,000 अबादी पर एनुऄल (िार्खषक) न्द्यू के स

वडटेक्शन रे ट (ANCDR) 9.71 है।

 आस बैक्टीररया से संक्रवमत लोगों के वनकट संपका में रहने िाले लोगों की सुरक्षा हेतु MIP की व्यिस्था की जाएगी।

 MIP का प्रयोग ऄब नेशनल लेप्रसी एवलवमनेशन प्रोग्राम (NLEP) के ऄंतगात भी ककया जाएगा। आससे बैक्टीररया संबंधी रोग के
विरुद् प्रवतरक्षा प्रणाली को बढ़ािा वमलेगा।
7.3 सामावजक सुरक्षा के वलए ‘िन IP - टू वडस्पेंसरीज’ स्कीम और अधार बेस्ड ऑनलाआन क्लेम सबवमशन’

(One IP- Two Dispensaries Scheme and Aadhaar Based Online Claim Submission for Social Security)

सुर्खियों में क्यों?

 श्रम एिं रोजगार राज्य मंत्री ने दो योजनाएं- िन IP-टू वडस्पेंसरीज’ स्कीम और अधार बेस्ड ऑनलाआन क्लेम सबवमशन अरम्भ की
है।
योजनाओं के मुख्य थबदु
 ESIC (Employee's State Insurance Corporation) की टू वडस्पेंसरीज स्कीम में बीमाधारक व्यवक्त (IP-Insured

Person) को दो वडस्पेंसरी चुनने का विकल्प कदया गया है। आस योजना के तहत वनयोक्ता के माध्यम से एक वडस्पेंसरी स्ियं के वलए
तथा दूसरी वडस्पेंसरी पररिार के वलए प्राप्त करने की व्यिस्था की गइ है।
 आससे सभी IPs, विशेष रूप से प्रिासी कमाचाररयों को लाभ प्राप्त होगा जो ऄपने मूल राज्य के ऄवतररक्त ऄन्द्य स्थान पर कायारत हैं।

 आसके ऄवतररक्त, अधार बेस्ड ऑनलाआन क्लेम सबवमशन स्कीम, EPFO के तहत एक असान PF (प्रोविडेंट फं ड) फाआनल सेटलमेंट
प्रदान करे गी।
EPFO (कमाचारी भविष्प्य वनवध संगठन) क्या है? ESIC (कमाचारी राज्य बीमा वनगम) क्या है?

 यह श्रम एिं रोजगार मंत्रालय के तहत एक  यह श्रम एिं रोजगार मंत्रालय के ऄधीन एक िैधावनक, स्िायत्त वनगम है।
सांविवधक वनकाय है। यह सेिावनिृवत्त लाभ
आसकी स्थापना 1948 में की गइ थी।
योजना कक्रयावन्द्ित करता है। यह योजना सभी
 यह काया के दौरान लगी चोट के कारण हुइ मृस्ययु, बीमारी, मातृस्यि और
िेतनभोगी कमाचाररयों के वलए ईपलब्ध है।
विकलांगता संबंधी वस्थवतयों में संगरठत क्षेत्र के कमाचाररयों को वचककस्यसा
 EPF योजना, 20 या ऄवधक व्यवक्तयों को
और नकद लाभ प्रदान करता है।
वनयोवजत करने िाली कं पवनयों पर लागू होती
है।  यह मवणपुर, वसकक्कम, ऄरुणाचल प्रदेश और वमजोरम को िोडकर सभी

 50 से कम व्यवक्तयों को वनयोवजत करने िाली राज्यों के वलए लागू।

सहकारी सवमवतयों पर लागू नहीं होता है।  कु ि राज्यों में 10 या ऄवधक व्यवक्तयों को वनयोवजत करने िाले गैर-मौसमी

साथ ही साथ ईस संगठन पर लागू नहीं होता कारखानों तथा 20 या ऄवधक व्यवक्तयों को वनयोवजत करने िाले संस्थानों के

है वजसके पास स्ियं की EPF योजना है लेककन वलए ऄवनिाया।


 प्रीव्यू वथएटर, सडक-मोटर पररिहन ईपक्रम और ऄिबार और प्राआिेट
आस योजना हेतु सुपरिाआज़र EPFO के
द्वारा ही वनयुक्त ककया जायेगा। मेवडकल आं वस्टट्यूशन और वनजी शैवक्षक संस्थानों सवहत दुकानें, होटल,

रे स्तरां, वसनेमाघरों को सामावजक सुरक्षा किरे ज प्रदान करती है।

42 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


7.4 थैलस
े ीवमया पर राष्ट्रीय नीवत की अिश्यकता
(Need for National Policy on Thalassemia)
सुर्खियों में क्यों?
 िल्डा थैलेसीवमया डे (8 मइ) पर विवभन्न शोधकतााओं और स्िास््य विशेषज्ञों ने थैलस
े ीवमया पर राष्ट्रीय नीवत की मांग की।
थैलस
े ीवमया क्या है?
 यह एक जेनेरटक ब्लड वडसऑडार है। बोन मेरो रांसप्लांट (BMT) के ऄवतररक्त आस बीमारी का कोइ आलाज नहीं है।
 शरीर में हीमोग्लोवबन का ऄसामान्द्य ईस्यपादन आसका लक्षण है। आस ऄसामान्द्यता के पररणामस्िरूप ऑक्सीजन का ऄनुपयुक्त रूप से
पररिहन होता है तथा लाल रक्त कोवशकाएं नष्ट होने लगती हैं।
 यह लौह ऄवधभार, हवियों की विकृ वत और गंभीर मामलों में हृदय रोग का कारण हो सकता है।
 दीघा जीिन के वलए एक प्रभािी ईपाय के रूप में वनयवमत रूप से रक्त-अधान (blood transfusions) की अिश्यकता होती है।
राष्ट्रीय नीवत क्यों अिश्यक है?
 भारत विश्व की थैलेसीवमया राजधानी है क्योंकक यहााँ 40 वमवलयन लोग आस रोग से प्रभावित हैं तथा प्रस्ययेक माह 1,00,000 से
ऄवधक लोग रक्ताधान की प्रकक्रया का सहारा लेते हैं।
 थैलेसीवमया को ऄब एक स्िास््य समस्या के स्थान पर राआट्स ऑफ़ पसान्द्स विद वडसएवबवलटीज एक्ट, 2016 के तहत विकलांगता
के रूप में माना जाता है।
 राष्ट्रीय स्िास््य नीवत 2017 के ऄंतगात आस विवशष्ट और अनुिांवशक बीमारी को नजरऄंदाज ककया गया है। दृष्टव्य है कक आस रोग
पर होने िाला सािाजवनक व्यय सरकारी कोष पर एक बडा बोझ है।
7.5 स्िछि सिेक्षण 2017: आं दौर सिाावधक स्िछि शहर
(Swachh Survekshan 2017: Indore Cleanest City)
सुर्खियों में क्यों?
 4 मइ 2017 को, शहरी विकास मंत्रालय ने स्िछि सिेक्षण 2017 से प्राप्त पररणामों को जारी ककया।
स्िछि सिेक्षण -2017 का ईद्देश्य वनम्नवलवखत कदशाओं में ककये गए प्रयासों के पररणाम प्राप्त करना:
 खुले में शौच की समस्या से मुक्त (ओपन डेकफके शन फ्री);
 प्रस्ययेक घर से कचरा एकवत्रत करना;
 नगरीय ठोस ऄपवशष्ट का वनपटान और प्रसंस्करण।

क्वावलटी काईं वसल ऑफ आं वडया


 यह भारत सरकार और एसोचैम (ASSOCHAM), भारतीय ईद्योग पररसंघ (CII) और FICCI द्वारा संयुक्त रूप से स्थावपत ककया
गया था।
 औद्योवगक नीवत एिं संिधान विभाग (वडपाटामेंट ऑफ़ आं डवस्रयल पॉवलसी एंड प्रमोशन: DIPP), िावणज्य एिं ईद्योग मंत्रालय, QCI
के वलए नोडल मंत्रालय है।
 गुणित्ता से संबंवधत मानकों पर ईवचत और वनष्प्पक्ष जानकारी प्रदान करना।
 ऄंतरााष्ट्रीय मंचों में भारत के वहतों का प्रवतवनवधस्यि करना।
मुख्य थबदु
 क्वावलटी काईं वसल ऑफ़ आं वडया द्वारा भारत के 434 शहरों और कस्बों में स्िछि सिेक्षण, 2017 का अयोजन ककया गया। आसका
ईद्देश्य स्िछि भारत वमशन की प्रगवत का वनरीक्षण करना था।
 भारत में आंदौर को सिाावधक स्िछि शहर घोवषत ककया गया और भोपाल दूसरे स्थान पर है।
 50 स्िछि शहरों में से सिाावधक 12 शहरों के साथ गुजरात शीषा स्थान पर है, तस्यपश्चात 11 शहरों के साथ मध्य प्रदेश का स्थान है।

43 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


7.6 स्िास््य मंत्रालय का EVIN प्रोजेक्ट
(Health Ministry’s EVIN project)
सुर्खियों में क्यों?
 स्िास््य एिं पररिार कल्याण मंत्रालय के आलेक्रॉवनक िैक्सीन आं टेवलजेंस नेटिका (eVIN) प्रोजेक्ट को विवभन्न विकासशील देशों
द्वारा सराहा गया है।
eVIN के बारे में
 eVIN भारत में एक स्िदेशी तकनीक के अधार पर विकवसत प्रणाली है। eVIN, िैक्सीन स्टॉक्स का वडवजटलीकरण करता है और
स्माटाफोन एवप्लके शन के माध्यम से कोल्ड चैन के तापमान की वनगरानी करता है।
 यह तकनीकी निाचार, संयुक्त राष्ट्र विकास कायाक्रम (UNDP) द्वारा कक्रयावन्द्ित ककया गया है।
 स्िास््य प्रणाली को मजबूत करने हेु eVIN एक महस्यिपूणा योगदान है। यह िैक्सीन फ्लो नेटिका को सरल बनाता है। साथ ही यह
सभी बच्चों के वलए असान और समय पर िैक्सीन की ईपलब्धता प्रदान कर समानता सुवनवश्चत करता है।
कु ि ईपलवब्धयां
 12 राज्यों के 371 वजलों में कायाावन्द्ित, वडवजटाआज्ड िैक्सीन आन्द्िेंरीज और लगभग 10,500 िैक्सीन स्टोसा और कोल्ड चेन पॉआं ट्स
पर ररकाडा को सुरवक्षत रखना।
 आन िैक्सीन स्टोरे ज पॉआं ट्स से 98 प्रवतशत से ऄवधक की वनयवमत ररपोर्टटग दर प्राप्त की गइ।
 नेशनल मॉवनटसा के रूप में सभी वजले जहां वमशन आं री धनुष चलाया जा रहा है के एक चौथाइ से ऄवधक का वनरीक्षण ककया गया
तथा बेसलाआन (baseline) अधाररत जानकारी एकत्र की गइ। आस पररयोजना के माध्यम से वमशन आन्द्री धनुष की किरे ज दर की
वनरं तर वनगरानी संभि हो पाइ।

44 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


8. सं स्कृ वत
(CULTURE)
8.1. बसि जयंती
(Basava Jayanti)
सुर्खखयों में क्यों?
 कनााटक में बसिेश्वर (बसि) का 884िां जन्द्मकदिस बसिन्ना जयंती या बसि जयंती के रूप में मनाया गया। बसिेश्वर 12िीं सदी के
सामावजक सुधारक थे।
बसिेश्वर के बारे में
 बसिेश्वर को थलगायतिाद या थलगायत संप्रदाय या िीरशैििाद का संस्थापक माना जाता है।
 12िीं शताब्दी के दौरान आन्द्होंने कनााटक में व्यापक सामावजक पररितानों को बढ़ािा कदया।
 ये दवलतों के ईस्यथान के वलए प्रवतबद् थे। आन्द्होंने ब्राह्मणिादी िैकदक परं परा में व्याप्त हो चुकी बुराइयों का प्रबल विरोध ककया।
 आन्द्होंने ऄपने व्यािहाररक ऄनुभिों को सावहस्यय की एक विवशष्ट विधा में प्रस्तुत ककया वजसे ‘िचन (कविता)’ कहा जाता है। िचन
(कविता) अंदोलन का मुख्य ईद्देश्य सभी के कल्याण को सुवनवश्चत करना था ।
 आन्द्होंने ‘कल्याण राज्य’ (िेलफे यर स्टेट) की स्थापना की घोषणा की।
 आन्द्होंने "स्थािर" और "जंगम" नामक दो महस्यिपूणा और ऄवभनि ऄिधारणाएं प्रवतपाकदत कीं। आनका ऄथा क्रमश: "वस्थर" और
"गवतशील" है। ये ऄिधारणाएं बसिन्ना की क्रांवतकारी विचारधारा की मुख्य अधार हैं।
8.2. संत स्ययागराज
(Saint Tyagraja)
सुर्खखयों में क्यों?
 हाल ही में संत स्ययागराज की 250िीं जयंती मनाइ गइ।
संत स्ययागराज के बारे में
 संत स्ययागराज ‘कनााटक वत्रमूर्खत’ के प्रमुख संगीतकारों में से एक हैं। आस वत्रमूर्खत में संत स्ययागराज के साथ ही मुत्तस्ु िामी दीवक्षतार और
श्यामा शास्त्री भी शावमल हैं।
 आन्द्हें स्ययागब्रह्मम के रूप में भी जाना जाता है।
 संत स्ययागराज का जन्द्म तवमलनाडु के तंजािुर वजले में वतरुिारूर गांि में 14 मइ 1767 को हुअ था।
 रामायण के प्रभाि से िह भगिान राम के प्रख्यात भक्त बन गए। आन्द्होंने ऄपने जीिन में लगभग 24000 गीतों को भगिान राम को
समर्खपत ककया।
 वतरुिारूर में प्रस्ययेक िषा जनिरी और फरिरी माह के बीच स्ययागराज के सम्मान में एक संगीत ईस्यसि ‘स्ययागराज अराधना’
अयोवजत ककया जाता है।
8.3. ठकु रानी जात्रा महोस्यसि
(Thakurani Jatra Festival)
यह क्या है?
 हाल ही में बहरामपुर शहर में महीने भर चलने िाला ठकु रानी जात्रा महोस्यसि संपन्न हुअ।
आस महोस्यसि के बारे में
 ठकु रानी जात्रा महोस्यसि एक वद्विषीय महोस्यसि है। यह महोस्यसि बहरामपुर (वसल्क वसटी), ओवडशा में मनाया जाता है।
 आसे घट यात्रा (Ghata Yatra) के रूप में भी जाना जाता है। यह दवक्षणी ओवडशा का मुख्य स्ययोहार है।
 आस महोस्यसि में मााँ बुवद् ठकु रानी की पूजा की जाती है। आन्द्हें बहरामपुर शहर की आष्ट देिी और सुरक्षा किच (संरक्षक) माना जाता
है।
 आस देिी की पूजा मूलतः डेरा नामक बुनकर समुदाय द्वारा की जाती थी।

45 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


8.4. बंगनापल्ली अम
(Banganapalle Mango)
सुर्खखयों में क्यों?
 रवजस्रार ऑफ़ ज्योग्राकफकल आं वडके शन्द्स रवजस्री (RGIR) द्वारा अंध्र प्रदेश के बंगनापल्ली अम तथा बन्द्दर लड्डू दोनों को ही
भौगोवलक संकेतक (GI) का टैग प्रदान ककया गया।
GI टैग क्या है?
 GI टैग एक संकेत है जो विवशष्ट भौगोवलक क्षेत्र को वनर्ददष्ट करता है। आसका ईपयोग विशेष गुणित्ता और प्रवतष्ठा प्राप्त कृ वष संबंधी,
प्राकृ वतक और विवनर्खमत िस्तुओं को पहचान और संरक्षण प्रदान करने के वलए ककया जाता है।
 GI टैग प्राप्त करने के वलए ककसी ईस्यपाद का ईस क्षेत्र में ही ईस्यपाकदत, प्रसंस्कृ त या ऄंवतम रूप से तैयार होना अिश्यक है।
 GI टैग को ज्योग्राकफकल आं वडके शन्द्स ऑफ़ गुड्स (रवजस्रेशन एंड प्रोटेक्शन) एक्ट, 1999 द्वारा वनयंवत्रत ककया जाता है।
 आस ऄवधवनयम के प्रािधानों का कक्रयान्द्ियन कं रोलर जनरल ऑफ़ पेटेंट्स, वडजाआन्द्स और रेड माक्सा (Controller General of
Patents, Designs and Trade Marks) द्वारा ककया जाता है। दृष्टव्य है कक कं रोलर जनरल ऑफ़ पेटेंट, वडजाआन और रेड माक्सा,
GI के रवजस्रार भी हैं।
 GI का पंजीकरण 10 िषों के वलए िैध होता है, वजसके बाद आसे निीकृ त करने की अिश्यकता होती है।

46 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


9. एवथक्स
(ETHICS)
9.1. विश्व प्रेस स्ितंत्रता कदिस
(World Press Freedom Day)
प्रस्ययेक िषा 3 मइ को विश्व प्रेस स्ितंत्रता कदिस मनाया जाता है। UNGA (UNITED NATIONS GENERAL ASSEMBLY) द्वारा
1993 में घोवषत ककए गए प्रेस स्ितंत्रता संबंधी वसद्ान्द्तों का आस कदन पुनःस्मरण ककया जाता है तथा आनके प्रवत प्रवतबद्ता जताइ जाती
है।
मीवडया की नैवतकता या प्रेस संबध
ं ी स्ितंत्रता क्यों महस्यिपूणा है?
 ये लोकतंत्र के रक्षक हैं।
 सभी प्रकार के मानिावधकारों के विकास और रक्षा के वलए महस्यिपूणा हैं।
 अम अदमी की अिाज को ऄवभव्यवक्त प्रदान करने और समुदाय की सूचनाओं तक पहुंच सुवनवश्चत करने में आनकी महस्यिपूणा भूवमका
है।
 जागरूकता बढ़ाना तथा सवहष्प्णतु ा की संस्कृ वत का विकास करना। घृणा के प्रस्ययेक रूप को समाप्त करना।
 ईन देशों और क्षेत्रों पर विशेष ध्यान के वन्द्री त करना जो संघषा, संघषा के बाद की प्रकक्रया ऄथिा संक्रमण की प्रकक्रया से गुजर रहे हैं।
 विवभन्न देशों में विवभन्न स्तरों पर सरकारों को पलायनिादी दृवष्टकोण तथा मानवसकता ऄपनाने से रोकना।
ररपोटार विदाईट बॉडासा (RWB)
 फ्रांस के पेररस में वस्थत यह एक ऄंतरााष्ट्रीय गैर-लाभकारी, गैर-सरकारी संगठन है। यह प्रेस की स्ितंत्रता और सूचना की स्ितंत्रता
को बढ़ािा देता है तथा प्रेस की स्ितंत्रता और सूचना की स्ितंत्रता की रक्षा करता है।
 आस संगठन को संयुक्त राष्ट्र संघ में सलाहकार का दजाा प्राप्त है।
 यह प्रस्ययेक िषा विश्व प्रेस स्ितंत्रता सूचकांक (िल्डा प्रेस फ्रीडम आं डक्
े स) तैयार करता है। आस सूचकांक के माध्यम से पत्रकारों को प्रदत्त
स्ितंत्रता के स्तर के ऄनुसार 180 देशों की रैं ककग की जाती है।
प्रेस से संबवं धत विवभन्न नैवतक मुद्दे
िल्डा प्रेस फ्रीडम ररपोटा के ऄनुसार िैवश्वक और क्षेत्रीय दोनों स्तरों पर मीवडया की स्ितंत्रता ऄस्ययवधक सीवमत हुइ है। यह एक थचताजनक
प्रिृवत्त है। यद्यवप मीवडया से संबवं धत विवभन्न मुद्दे हैं, ककन्द्तु आन सभी मुद्दों को संक्षप
े में एक शब्द प्रेस की ‘स्ितंत्रता’ में प्रस्तुत ककया जा
सकता है। सस्ययता को पूणा ढंग से लोगों तक पहुाँचाने हेतु समाचारों के वलए सिाावधक महस्यिपूणा मूल्य स्ितंत्रता है ऄथाात सस्ययता के साथ
समाचारों को एकत्र करने और प्रसाररत करने के वलए प्रेस की "स्ितंत्रता" सिाावधक महस्यिपूणा मूल्य है। हालांकक आस मुद्दे का दूसरा पहलू,
मीवडया का ईत्तरदावयस्यि भी है। आस प्रकार, दोनों ही पक्षों द्वारा अिश्यक विवभन्न मूल्यों और मानदंडों का पालन ककया जाना चावहए।
मीवडया का वनयंत्रण / विश्लेषण करने हेतु राजनेताओं / संगठनों द्वारा पालन ककए जाने िाले मानदंड
 ऄवभव्यवक्त की स्ितंत्रता - यह एक ऄपररहाया मानि ऄवधकार है। पत्रकाररता के पेशे में यह ऄवधकार व्यवक्त के वलए और भी ऄवधक
महस्यिपूणा है। पत्रकार के रूप में व्यवक्त का यह ईत्तरदावयस्यि है कक विश्व भर में होने िाली घटनाओं की सच्ची तस्िीर से जनता को
ऄिगत कराए।
 मीवडया से संबद् व्यवक्तयों की सुरक्षा एिं बचाि- संपादकों, प्रकाशकों अकद के ईस्यपीडन को रोकने के वलए एक ईवचत तंत्र स्थावपत
ककया जाना चावहए। पत्रकारों पर होने िाले हमलों तथा ईनकी हस्यया जैसी घटनाओं को रोकने के वलए सख्त प्रािधान वनर्खमत ककया
जाना चावहए। संबंवधत व्यवक्त को कठोर दंड देने के वलए तंत्र को सशक्त ककया जाना चावहए ताकक ऐसी थहसा द्वारा की गइ सेंसरवशप
के कारण समाज ककसी महस्यिपूणा सूचना से िंवचत न रह जाए।
 सवहष्प्णत
ु ा और खुलप
े न की संस्कृ वत - सेंसरवशप, जुमााना, वनलंबन और प्रकाशन पर रोक जैसे कदम के िल विशेष पररवस्थवतयों में ही
ईठाए जाने चावहए। दरऄसल, ऄवधकाररयों को पारदर्खशता और ईत्तरदावयस्यि को बढ़ािा देने के वलए ईनके कायों के बारे में पत्रकारों
द्वारा की जाने िाली पूिताि को प्रोस्यसावहत करना चावहए।
 मीवडया के कॉरपोरे टाआजेशन को रोकने के वलए वनयम क्योंकक कॉरपोरे टाआजेशन की पररवस्थवतयों में लाभ और हावन प्रमुख मुद्दा बन
जाता है। आस प्रकार, ऄनुबंध अधाररत वनयुवक्त जो अज एक मानक बन गइ है; स्थानांतरण और िेतन के माध्यम से पत्रकारों को
वनयंवत्रत करना, दृश्य मीवडया में नौकरी की कोइ सुरक्षा न होना अकद जैसे मुद्दे ईभर रहे हैं।

47 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


मीवडया से संबद् व्यवक्तयों द्वारा पालन ककए जाने िाले नैवतक मानक तथा कसौरटयााँ
 ऄपने ईत्तरदावयस्यिों को समझना - भारत जैसे देशों में जहां जावतिाद, सांप्रदावयकता, गरीबी तथा ‘ऑनर ककथलग’ जैसी सामावजक
बुराइयां विद्यमान हैं, मीवडया से संबंवधत व्यवक्तयों को विशेष रूप से ऄपने ईत्तरदावयस्यिों का गंभीरतापूिाक वनिाहन करना चावहए।
 सटीकता, इमानदारी और वनष्प्पक्षता - समाचारों के संग्रह और प्रकाशन में आन मूल्यों का पालन ककया जाना चावहए क्योंकक ये मूल्य
सीधे सािाजवनक वहत से सम्बद् होते हैं। ककसी भी गलत ऄथिा ऄपुष्ट जानकारी की वस्थवत में ककसी व्यवक्त की प्रवतष्ठा को
ऄनािश्यक क्षवत पहुाँच सकती है।
 सस्ययता- समाचारों में शावमल त्यों को वबना ककसी िेडिाड के प्रस्तुत करने का प्रयास ककया जाना चावहए, विशेष रूप से आस पोस्ट
ट्रुथ के युग में जहां सनसनी पैदा करने के वलए सस्यय के साथ ऄसस्यय के कु ि तस्यिों को वमवश्रत कर कदया जाता है।
 प्रवतवनवधस्यि और विविधता - संपादकों द्वारा पेड न्द्यज
ू को वनयंवत्रत ककया जाना चावहए। साथ ही संबंवधत संगठन को समाज के सभी
िगों (जातीय और भाषाइ ऄल्पसंख्यक, विकलांग व्यवक्तयों, हावशए पर वस्थत समूहों, मवहलाओं अकद) के विचारों को वबना ककसी
भेदभाि के प्रोस्यसाहन देना चावहए। आस हेतु संगठन के भीतर अंतररक विविधता होना ऄस्ययंत अिश्यक है।
 िास्तविक समस्याओं पर फोकस करना चावहए। कफल्मों, मॉडल्स, कक्रके टरों से संबद् ऄनािश्यक मुद्दों को महत्त्ि नहीं देना चावहए।
मीवडया को मूल रूप से सामावजक-अर्खथक प्रकृ वत के ऄपेक्षाकृ त ऄवधक महस्यिपूणा मुद्दों पर ध्यान के वन्द्री त करना चावहए।
 व्यिसायीकरण और स्ि-विवनयमन – विषय िस्तु और लेखापरीक्षा (दोनों गुणास्यमक और मात्रास्यमक) के ईपयोग, अचार संबंधी
वनयमािली, सूचना के स्रोत से सम्बद् पेशेिर गोपनीयता, सावहवस्ययक चोरी, विवशष्ट लक्ष्यों से संबंवधत क्षेत्र विशेष अधाररत प्रदशान
का मूल्यांकन जैसे विषयों में व्यिसायीकरण और स्ि-विवनयमन।
 लोगों की िैयवक्तकता तथा वनजता का सम्मान ककया जाना चावहए। साथ ही जब तक ऄस्ययंत अिश्यक न हो ऄपमानजनक
अलोचना से बचना चावहए। कोइ भी अलोचना सािाजवनक वहत के दृवष्टकोण से ईवचत होने पर ही की जानी चावहए।
 मूल्यों को बढ़ािा देना चावहए क्योंकक ये युिा मवस्तष्प्क पर ऄपनी गहरी िाप िोडते हैं। आस प्रकार शवक्त, क्रूरता और ऄनैवतक
विचारों का मवहमामंडन नहीं करना चावहए।
भारत में वस्थवत
हालांकक वपिले िषा की तुलना में 3 स्थानों का सुधार हुअ है तथावप िल्डा प्रेस फ्रीडम आं डक्
े स 2016 में भारत को 180 देशों की सूची में
वनराशाजनक 133 िां स्थान प्राप्त हुअ है। आस सन्द्दभा में भारतीय मीवडया विवभन्न मुद्दों का सामना कर रहा है। ये मुद्दें वनम्नवलवखत हैं:
 विवभन्न धार्खमक समूहों द्वारा पत्रकारों और ब्लॉगसा पर हमले करने जैसी घटनाएं बढ़ी हैं।
 कश्मीर जैसे कु ि क्षेत्रों तक प्रवतबंवधत पहुंच, आन क्षेत्रों को सरकार द्वारा संिद
े नशील माना जाता है।
 शासन के ईच्च स्तरों पर आन खतरों और समस्याओं के प्रवत ईदासीनता।
 पत्रकारों की रक्षा के वलए कोइ तंत्र विद्यमान नहीं है।
अगे की राह
मीवडया अजादी के साथ ही ईनकी जिाबदेवहता सुवनवश्चत करने के वलए वनम्नवलवखत कदम ईठाए जा सकते हैं:
 कम्युवनटी मीवडया को बढ़ािा देना - यह मीवडया बहुलिाद और ऄवभव्यवक्त की स्ितंत्रता को सुवनवश्चत करे गा। साथ ही यह पवब्लक,
कमर्खशयल और सोशल मीवडया का एक बेहतर विकल्प भी है। सामुदावयक मीवडया के माध्यम से स्थानीय महत्त्ि के मुद्दों पर; दुगम

ग्रामीण क्षेत्रों तक सूचनाओं की पहुाँच सुवनवश्चत करने पर तथा समुदाय के प्रवत जिाबदेवहता बढ़ाने पर फोकस ककया जा सके गा। आस
प्रकार सरकारों को कम्युवनटी मीवडया से संबंवधत विवधक मान्द्यता, स्पेक्रम, लाआसेंथसग, वित्तपोषण जैसे मुद्दों का ईवचत समाधन
सुवनवश्चत करना चावहए ।
 एवक्टि मीवडया िॉच ग्रुप्स को बढ़ािा देना - जैसा कक भारत कु ि लोकतंत्रों में से एक है तथा यहााँ मीवडया के िस्तुवनष्ट विश्लेषण
करने, पूिााग्रहों और ऄन्द्तर्खनवहत पक्षपात पर विचार करने और व्यिवस्थत अलोचना एिं सूक्ष्म परीक्षण पर फोकस करने िाले समूह
विद्यमान नहीं हैं, ऄतः एवक्टि मीवडया िॉच ग्रुप्स को बढ़ािा देना अिश्यक है।
 मीवडया द्वारा स्ियं मीवडया के बारे में लेखन को बढ़ािा देना – यह एक ऄघोवषत वनयम बन चुका है कक मीवडया में मीवडया के बारे
में कु ि नहीं वलखा जाएगा। विविध मीवडया संगठनों में यह अपसी सहमवत बन चुकी है कक मीवडया संगठन चाहे प्रशंसा हो या
अलोचना एक-दूसरे के बारे में नहीं वलखेंगे। ऄवधकांश भारतीय समाचार पत्रों में गलवतयों को स्िीकार करने या गलत ररपोर्टटग के
संबंध में एक स्ितंत्र नीवत का ऄभाि है।

48 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


10. विविध
(MISCELLANEOUS)
10.1. मांकवडया जनजावत से बंदरों को पकडना सीखना
(Learn to Trap Monkeys from Mankidia Tribe)
सुर्खियों में क्यों?
ओवडशा, िन एिं पयाािरण विभाग ने ऄपने कर्खमयों को मांकवडया जनजावत से बन्द्दरों को पकडने के कु ि तरीके सीखने को कहा है ताकक
िह आनसे होने िाले खतरों को समाप्त कर सके ।
मांकवडया जनजावत
 ओवडशा में आन्द्हें पर्टटकु लली िल्नरे बल राआबल ग्रुप्स (PVTGs) के रूप में िगीकृ त ककया गया है।
 ये ऄधा-खानाबदोश होते हैं तथा मांस के वलए बंदर का वशकार ककया करते थे।
मांकवडया जनजावत
 ओवडशा में आन्द्हें पर्टटकु लली िल्नरे बल राआबल ग्रुप्स (PVTGs) के रूप में िगीकृ त ककया गया है।
 ये ऄधा-खानाबदोश होते हैं तथा मांस के वलए बंदर का वशकार ककया करते थे।
बंदरों को पकडने की चतुर विवध
मांकवडया जनजावत के लोग जब ककसी पेड पर बैठे बंदर को देखते है, तो िे अस-पास के पेडों पर चढ़ कर ईस पेड को घेर लेते हैं।
तस्यपश्चात ये बन्द्दर के वगरने तक पेड को वहलाते रहते हैं। नीचे धरातल पर एक समूह जाल के साथ मौजूद रहता है , जो बंदर को जल्दी से
जाल में डाल के पकड लेता है।
10.2. आं वडयन एक्सक्लूशन ररपोटा (IXR) 2016
[Indian Exclusion Report (IXR)2016]
 सेंटर ऑफ आकक्वटी स्टडीज द्वारा जारी की गइ 2016 की ररपोटा में चार सािाजवनक िस्तुओं यथा िृद्ों के वलए पेंशन, वडवजटल
एक्सेस, कृ वष भूवम तथा ऄंडररायल्स के वलए कानूनी न्द्याय के संबंध में ऄपिजान (exclusion) की समीक्षा की गइ है।
 वनयोजन से सिाावधक एिं वनरन्द्तर बवहष्प्कृत ही ऐवतहावसक रूप से िंवचत समूह हैं जैसे:- दवलत, अकदिासी, मुवस्लम, विकलांग तथा
अयु से संबंवधत कमजोररयों से ग्रस्त व्यवक्त।
10.3. CAPF के वलए वशकायत वनिारण ऐप
(Grievance Redressal App for CAPF)
 हाल ही में कें री ीय गृह मंत्रालय ने कें री ीय सशस्त्र पुवलस बल (CAPF) के वलए वशकायत वनिारण हेतु मोबाआल ऐप लांच ककया है।
 यह सैवनकों को गृह मंत्रालय से सीधे संपका करने की सुविधा प्रदान करे गी तथा विलम्ब या देरी की वस्थवत में मामले को गृह मंत्री तक
भी पहुाँचाया जा सके गा ।
 आस ऐप के माध्यम से पारदर्खशता में िृवद् होगी। साथ ही यह वशकायतों को सोशल मीवडया में प्रसाररत होने से रोकने में सहायता
करे गी।

CAPF में शावमल जिान हैं:


 सीमा सुरक्षा बल (BSF)
 कें री ीय ररजिा पुवलस बल (CRPF)
 कें री ीय औद्योवगक सुरक्षा बल (CISF)
 भारत-वतब्बत सीमा पुवलस (ITBP) और
 सशस्त्र सीमा बल (SSB)

49 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS


10.4. भारतीय रे लिे द्वारा EOTT की शुरुअत
(Indian Railways to Introduce EoTT)
 भारतीय रे लिे, लोकोमोरटि ड्राआिर और रेन के ऄंवतम वडब्बे के बीच संचार स्थावपत करने के वलए शीघ्र ही एंड ऑफ़ रेन टेलीमेरी
(End of Train Telemetry: EoTT) ईपकरण के ईपयोग की शुरुअत करे गा। आससे यह सुवनवश्चत ककया जा सके गा कक रेन के
सभी कोच/ वडब्बे पूरी तरह एक साथ एक पूणा आकाइ के रूप में गवतमान हैं।
 आस वसस्टम को आस प्रकार वडज़ाआन ककया गया है कक ककसी रेन के विभक्त होने की वस्थवत में यह रेन के विभाजन की वस्थवत के बारे
में ड्राआिर को सूवचत करे गा और रेन के वपिले भाग में ब्रेक लगा देगा।

50 May(1-15)/2017/0005 www.visionias.in ©Vision IAS